Followers

Friday, April 08, 2011

“बहरों को सुनाने के लिए धमाके की ज़रूरत होती है” (चर्चा मंच-479)


चर्चा मंच का जो पौधा मैंने लगभग डेढ़ साल पहले लगाया था।
उसको आवश्यक खाद पानी मिलता रहे
और वह प्रतिदिन निष्काम भाव से पाठकों की सेवा करता रहे।
इसी का ध्यान रखते हुए शुक्रवार का चर्चा मंच आपके सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ। डॉ. नूतन गैरोला बहुत व्यस्त चल रही हैं। इसलिए शुक्रवार की चर्चा लगाने की मेरी नैतिक जिम्मेदारी हो जाती है!
वैसे भी मैं अपने किसी कार्य में अब तक जिम्मेदारी निभाने में 
कभी भी पीछे नहीं रहा हूँ। 
विगत वर्ष भी आपने देखा होगा कि "चर्चा हिन्दी चिट्ठों की" को मैंने कई महीने तक अनवरतरूप से चलाया है। मगर जब इसके स्वामी स्वयं ही निष्क्रिय हो गये तो मुझे विवश होकर "चर्चा मंच" को जन्म देना पड़ा।
 मुझे बहुत गर्व है अपने साथी चर्चाकारों की टीम पर, जो अपने दिन-वार 
पर नियमितरूप से चर्चा लगाते आ रहे हैं। ऐसे में मैं अपने पुराने साथियों का भी आभार करना नहीं भूलूँगा कि उन्होंने भी इस मंच के साथ अपनी जिम्मेदारी को बाखूबी निभाया है! 
 अब प्रारम्भ करते हैं चर्चा का सिलसिला-
में हरीश सिंह लिख रहे हैं-
* माफियाओं के चंगुल में ब्लागिंग*

Akanksha ब्लॉग पर श्रीमती आशा जी ने अपनी रचना में लिखा है


है व्यक्ति परक बहुत चंचल 
बहता निरंतर पहाड़ों से निकलती 
श्वेत धवल जल की धारा सा 
ले लेता रूप जल प्रपात का 
फिर कल कल करता झरने सा 
कभी शांत , कभी आकुल ... 
बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति प्रस्तुत की है-
मेरी डायरी का, हर पन्ना खाली नहीं है , 
सब पर कुछ न कुछ लिखा है , 
जो भी लिखा है असत्य नहीं है , 
पर पढ़ा जाए जरूरी भी नहीं है

 हरीश प्रकाश गुप्त जी ने
मनोज कमार जी के ब्लॉग पर
बंजारे बादल के नाम से बहुत सुन्दर समीक्षा प्रस्तुत की है!
 चिट्ठा चर्चा ब्लॉग में देखिए

जनता को अधिकार होता है कि वह लेखक का मजाक उड़ाये
 रीवा, मध्य-प्रदेश से क्षमा उर्फ SADA जी लिखतीं हैं-

काम मेरा यहां क्‍या है 

सत्‍य एक दिन, 

झूठ की बात सुन-सुन कर घबराया था । 
हर शख्‍स को किसी न किसी से झूठ, 
बोलते जब से अपनी नजरों से पाया था।
खटीमा, राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के 
हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ.सिद्धेश्वर सिंह ने
बेहतरीन अनवाद किया है
जिसको शरद कोकास जी ने अपने ब्लॉग पर स्थान दिया है!
 यहाँ पर ताजा हो जाती हैं पुरानी स्मृतियाँ!

उड़न तश्तरी .... वाले समीर लाल "समीर" कह रहे हैं


 अन्ना हजारे *उड़न तश्तरी की गुरुवारीय पोस्ट अन्ना के आंदोलन के प्रति अपनी प्रतिबद्धता प्रकट करते हुए नहीं लगाई जा रही है. * * * * * *-समीर लाल ’समीर’*
 ज्ञानवाणी में पढ़िए यह मार्मिक और प्रेरक पोस्ट-



अपनी एक पोस्ट में मोहल्ले की सफाई कर्मी महिला "माया "के बारे में लिखा था ...अक्सर उसकी बेटी की पढ़ाई के बारे में पूछताछ करते रहती हूँ ...


प्रतुल वशिष्ठ

Featured Hindi Blog Post - छंद-चर्चा


श्री प्रतुल वशिष्ठ की यह ज्ञानवर्धक पोस्ट उनके ब्लॉग दर्शन प्राशन पर पढी जा सकती है।

किसी रचना के प्रत्येक पाद में मात्राओं अथवा वर्णों की नियत संख्या, क्रम-योजना एवं यति के विशेष विधान पर आधारित नियम को छंद कहते हैं ...
प्रतुल के अन्य ब्लॉग
भारत-भारती वैभवं SANSKRIT JAGAT निरामिष



पढ़िय़े यह मार्मिक रचना-
*हर पल एक तीखा सा * 
*दर्द उठता हैं .* 
*लगता हैं कही कुछ चीर रहा हैं |* 
* हां* * ये तो मेरे ही दिल के टुकड़े हो रहे हैं ,* 
*बट रहा हैं कुछ दो टुकडो में ,


 Share घर के आंगन को रोशन कर दिया है 

असीम प्रकाश से मन के आंगन में पसरा 
अंधेरा मगर सिमटता ही नही है . 
हालात की कंटीली झाड़ियाँ छेदे जाती... 
 अंतर्मंथन में डॉ.टी.एस.दराल कह रहे हैं-



अस्पताल के आपातकालीन विभाग के द्वार के बाहर शहतूत का एक पेड़ है । 
आजकल यह पेड़ पके शहतूत से लदा पड़ा है । 
छोटे आकार के हलके और गहरे चॉकलेट ब्राउन रंग के शह...
 अब कुछ पोस्ट अन्ना हजारे के आन्दोलन से जुड़ी हूई! 
हमे गर्वे है की हम अन्ना हज़ारे के युग मे है !
--------



---------
------------



--------

भ्रष्टाचार के खिलाफ आमरण अनशन


अन्ना हजारे जो 5 अप्रैल से जंतर - मंतर पर भ्रष्टाचार के खिलाफ एक सख्त कानून  यानि ' जन लोकपाल बिल ' लागु करने की मांग के साथ आमरण अनशन पर बैठे हैं | पिछली बार जब वो अनशन पर बैठे थे तब _________ 1 महाराष्ट्र सरकार के छ: भ्रष्ट मंत्रियों को इस्तीफा देना पड़ा | 2 400 भ्रष्ट अफसरों को नौकरी से निकलना पड़ा | 3 महाराष्ट्र में 2002 में सुचना का अध ..
-----------

महात्मा ‘अन्ना’ के अनशन में हम भी साथ हैं!!


यह किसी एक व्यक्ति या किसी एक समुदाय से छुटकारा पाने का प्रयास नहीं, बल्कि इंसान के नैतिकता बोध के मर जाने के ख़िलाफ एक आंदोलन है। समाजिक व्यवस्था में भ्रष्टाचार के बहते गंदे पानी की सफाई का यह एक जुनूनी और ईमानदार प्रयास है।
--------------

“बहरों को सुनाने के लिए धमाके की ज़रूरत होती है”


“बहरों को सुनाने के लिए धमाके की ज़रूरत होती है” ये उस पर्चे की पहली पंक्ति थी जिसे भगत सिंह और उनके साथियों ने 8 अप्रेल 1929 को एसेम्बली में बम फेंकने के बाद उछाला था| यह संयोग ही है 82 साल पहले बहरी अंग्रेजी सरकार को जगाने के लिए भगत सिंह ने एसेम्बली में बम फेंका था और आज अन्ना हजारे बहरी सरकार को जगाने के लिए ही आमरण अनशन कर रहें हैं| फर्क ...

कोटा में भी अन्ना को समर्थन

----------------

कोटा। भ्रष्टाचार पर लगाम कसने के लिए व्यापक जन लोकपाल विधेयक लाने की मांग पर नई दिल्ली में अनशन पर बैठे समाजसेवी अन्ना हजारे की मुहिम में कोटा में भी आंदोलन का आगाज हो गया है। बुधवार को जिला कलेक्ट्रेट पर मानव कल्याण समिति के बैनर तले धरना दिया गया। गुरुवार को स्वतंत्रता सेनानी मोहनलाल गुप्ता के नेतृत्व में सुबह 9 बजे मल्टीपरपज स्कूल गुमानपुरा ...
--------------



15 जून 1938 को महाराष्ट के अहमद नगर के भिंगर कस्बे में एक गरीब मजदूर परिवार में जन्मे अन्ना का बचपन अभावों भरा था ! 
परिवार में तंगी का आलम देखकर अन्ना की...
-----------



 वरिष्ठ समाजसेवी अन्ना हजारे द्वारा जनहितार्थ किये गये संघर्षो को जानने व समझने वालों के कानों में जब हजारे की यह आवाज आई कि मैं देश के लिए समर्पित हूं मौत...




7 अप्रैल 2011 को स्वाभिमान टाईम्स के नियमित स्तंभ ‘अंतर्जाल’ में बीबीसी हिंदी ब्लॉग के सवाल
 श्रीमती ज्ञानवती सक्सेना "किरण"
की रचनाएँ आपको अनवरत रूप से पढ़वाएंगी
उनकी पुत्र साधना वैद्य
Unmanaa में
आज से माँ की दूसरी पुस्तक 'सतरंगिनी' की रचनाएं 
इस ब्लॉग पर अपने पाठकों के लिये उपलब्ध करा रही हूँ ! 
इन रचनाओं का कथ्य, 
इनकी अभिव्यक्ति और इनका कलेवर ..


कार्टून: पार्टटाइम भ्रष्टाचार!!



India against corruption, fight against corruption carton, corruption cartoon, congress cartoon, anna hajaare cartoon, anna hazaare cartoon

Cartoon by Kirtish Bhatt (www.bamulahija.com) 





 
आप सभी आमंत्रित हैं रानी जिला पाली राजस्थान मैं 
दिनांक 1 व 2 मई को आयोजित होने वाले ब्लॉगर मीट में 
जिसका नाम है FIND RAJASTHAN इसमें प्रथम दिवस में आने के ...
-------------
मित्रों कल सत्यम् शिवम् जी आपके लिए
लाएँगे चर्चा मंच पर कुछ विशेष !
आज के लिए केवल इतना ही!


8 comments:

  1. बेहतरीन चर्चा ...अन्ना जी से सम्बंधित बेहतर लिंक्स भी मिले ..
    चर्चा में शामिल किये जाने का बहुत आभार !

    ReplyDelete
  2. sngeeta ji aap ka sneh meri rchna ko nirntr mil rha hai kripya mera hardik aabhar swikar kren
    ek kasht yh de rha hoon kee kripya apna nmbr dene kee kripa bhi kren kyon ki ap ne chrcha mnch pr vartalap kee ichchha vykt kee thi aap ki bhut vystayen hain is liye nmbr hota to main swym aap ko fon mila leta
    mera mail hai
    dr.vedvyathit@gmail.com
    09868842688

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन लिंक्स .

    ReplyDelete
  4. बहुत सार्थक चर्चा है शास्त्री जी ! बेहतरीन लिंक्स के लिये धन्यवाद एवं आभार !

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर लिंक्स के साथ सार्थक और सटीक चर्चा।

    ReplyDelete
  6. अच्छी लिंक्स के साथ सटीक चर्चा |
    मेरी रचनाएँ शामिल करने के लिए बहुत बहुत आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  7. चर्चामंच को बहुत सुन्दर लिंक्स से सुसाज्जित किया है... सच में शास्त्री जी हम आपकी कर्तव्यनिष्ठा के लिए नतमस्तक है... और आपका आभार ...

    ReplyDelete
  8. shastri ji aapki mehnat aur kartavy-prayanta se hame acchhe acche links ek hi jagah par mil jate hain.

    meri rachna ko lene ke liye badhayi.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...