Followers

Sunday, February 18, 2018

"कुन्दन सा है रूप" (चर्चा अंक-2884)

मित्रों!
रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--
--

पाब्लो नेरुदा -  

"इस तरह मरते है हम" -  

अनुवाद - संदीप नाईक 

मरना शुरू होता है धीरे से 
जब तक शुरू ना हो एक यात्रा 

शुरू नहीं करते बांचना जीवन का ककहरा
सुनना शुरू नहीं करते जीवन संगीत और अनहद नाद 
शुरू नहीं करते पहचानना अपने आपको 
इस तरह मरना शुरू करते है धीमे से 
मार देते है जब अपने जमीर को 
बंद कर देते है दूसरों से मदद लेना अपने लिए.... 
ज़िन्दगीनामा पर Sandip Naik  
--
--
--
--
--

6 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद, आभार !
    सादर,

    ReplyDelete
  3. बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. सभी चयनित रचनाएं ताजगी से भरी हुई है आपकी मेहनत दिखती है... मेरी रचना को स्थान देने के लिए बहुत आभार आपका...!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"आपस में मतभेद" (चर्चा अंक-3069)

मित्रों। सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   ...