Followers

Saturday, August 18, 2018

"उजड़ गया है नीड़" श्रद्धांजलि अटलबिहारी वाजपेई (चर्चा अंक-3067)

मित्रों! 
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 
--
--

अटल जी को श्रद्धांजलि  

राधा तिवारी " राधेगोपाल " 

अटल हमारे बीच सेचले गए सुखधाम।
 पर धरती पर रह गएउनके सारे काम... 
--

कोटि-कोटि नमन तुम को..... 

हे जन-नायक अटल जी,  
तुम्हारी शक्सियत अनुपम थी।  
तुम स्तंभ बनकर खड़े रहे,  
सत्य-पथ पर अड़े रहे,  
भारत को विश्व-शक्ति बनाया... 
kuldeep thakur 
--
--
--

एक संक्षिप्त 'अटल' संस्मरण ! 

पी.सी.गोदियाल "परचेत" 
--
--

और तुम जीत गए 

*पक्का निश्चय कर 
साध कर अपना लक्ष्यचले थे  
इस बार ये कदममंजिल की ओर*  
*मन में विश्वास लिए 
मान ईश्वर को पालनहार 
कर दिया था अर्पित खुद को 
उस दाता के द्वार 
मेहनत का ध्येय लिए 
कर दिए दिन रात एक... 
सु-मन (Suman Kapoor) 
--
--
--
--
--

मेरी पहचान 

Akanksha पर Asha Saxena  
--
--

अमर अटल 

देवेन्द्र पाण्डेय  
--
--
--

अटल तुम बहुत याद आओगे 

आप क्या गए सारा जग सूना हो गया  
ऐसा लगा सर से साया चला गया,  
आप हमको बताते थे नयी राह 
सारा जहा सूना सा हो गया... 

7 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति
    हार्दिक श्रद्धांजलि अटल जी को

    ReplyDelete
  3. Atal ji ko hardik shriddhaanjali '
    ABHAAR

    ReplyDelete
  4. अटल जी जैसे निश्च्छल, निर्मल, विराट व्यक्तित्व के धनी इस युग में विरले ही होते हैं ! उनका जाना देश के लिए अपूरणीय क्षति है ! वे जितने कुशल राजनयिक थे उतने ही संवेदनशील कवि थे और उतने की सहृदय इंसान थे ! ईश्वर उन्हें अपनी शरण में लें ! सादर नमन एवं भावभीनी श्रद्धांजलि ! आज की चर्चा में मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  5. देश भक्ति और दल भक्ति के अभिराम ही थे अटल।

    नाम अटल काम अटल वाणी और कविता अटल.


    अटल भाव से परिपूर्ण प्रस्तुति की सत सत नमन।


    ReplyDelete
  6. एक महान महान व्यक्तित्त्व को सादर नमन!उनके प्रति सभी के विचारों के लिंक मिले,मेरे श्रद्धा सुमन भी इसमें शामिल किये गए हैं ,हृदय से आभार I

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"चाहिए पूरा हिन्दुस्तान" (चर्चा अंक-3103)

मित्रों!  रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -0- ...