Followers

Search This Blog

Wednesday, August 22, 2018

"नेता बन जाओगे प्यारे" (चर्चा अंक-3071)

मित्रों।
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 
--
--
--
--
--

उत्तर दिशा में क्यों नहीं सोए? 

प्रकृति मे अनन्त शक्ति विद्यमान है।उस में से एक चुम्बकीय शक्ति भी है। ग्रह, नक्षत्र, तारे एक दूसरे से चुम्बकीय तरंगों से जुड़े हुए हैं। चुम्बक के आकर्षण और विकर्षक से ही यह पूरा ब्रह्मांड गतिशील है। हमारे शरीर से निकलने वाली ऊर्जा इन चुम्बकीय तरंगों से प्रभावित होती है... 
power पर Anjana kumar 
--
--

बातें ...  

खुद से ... 

तुम नहीं होती तो कितना कुछ सोच जाता हूँ ...  
विपरीत बातें भी लगता है एक सी हैं ...  
ये सच्ची हैं या झूठी ...

चार पैग व्हिस्की के बाद सोचता हूँ 
नशा तो चाय भी दे देती 
बस तुम्हारे नाम से जो पी लेता ... 
Digamber Naswa 
--
--
--
--
--

एक व्यंग्य गीत :  

नेता बन जाओगे प्यारे-- 

पढ़-लिख कर भी गदहों जैसा व्यस्त रहोगे 
नेता बन जाओगे ,प्यारे ! मस्त रहोगे  
कौए , हंस,बटेर आ गए हैं कोटर में  
भगवत रूप दिखाई देगा अब ’वोटर’ में  
जब तक नहीं चुनाव खतम हो जाता प्यारे ... 
आनन्द पाठक 
--
--
--

छाँव 

कितनी रूमानी यह रात हैं  
सितारों से सजी बारात हैं  
मिलन का खूबसूरत आगाज हैं  
चाँदनी दे रही यह पैगाम हैं  
दो रूहों की यह सुहानी रात हैं... 
RAAGDEVRAN पर 
MANOJ KAYAL 
--

7 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. गीत कविता छंद,दोहे ग़ज़ल व्यंग की इस अद्भुत चर्चा के लिए धन्यवाद।सदर आभार।

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन चर्चा ...
    आभार मेरी रचना को जगह देने के लिए ...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर बुधवारीय चर्चा अंक। आभार आदरणीय 'उलूक' के पन्ने को स्थान देने के लिये।

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. आभार, मेरी रचना को स्थान प्रदान करने के लिए ! यूं ही स्नेह बना रहे

    ReplyDelete
  7. सुन्दर संकलन मेरी पोस्ट को जगह देने के लिए आभार आपका आशीर्वाद महेशा यू ही बना रहे

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।