Saturday, May 18, 2019

" पिता की छाया " (चर्चा अंक- 3339)

स्नेहिल  अभिवादन  
शनिवारीय चर्चा में आप का हार्दिक स्वागत है| 
देखिये मेरी पसन्द की कुछ रचनाओं के लिंक | 
 - अनीता सैनी 
------

बुद्धपूर्णिमा पर कुछ दोहे 

 "आओ गौतम बुद्ध" 

 (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’) 

 

roopchandrashastri at 
 उच्चारण 
-------

ग़ज़ल ...  

सोचते तो हैं मगर - 

 डॉ. वर्षा सिंह 

------

निर्मेघ 

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा 
 कविता "जीवन कलश" 
------

छाया 

Sadhana Vaid at Sudhinama 
-------

समय चक्र में उदय 

मन की वीणा - कुसुम कोठारी। 
------

"खोज" 

My Photo
Meena Bhardwaj at मंथन 
------

दिवास्वप्न बनती छाया 

Abhilasha at 
Experience of Indian Life 
-------

पिता की छाया 

 

Anuradha chauhan at 
 Poet and Thoughts 
-------

हे सुंदरी! तुम कौन हो? 

पल्लवी गोयल at 
 मनप्रिया का मन 
------

कथा-गाथा :  

अशोक अग्रवाल : कोरस 

 

arun dev at समालोचन 
-------

एक कप चाय का प्याला  

और सौगंध बाप की 

Rekha Joshi at Ocean of Bliss  
-------

----- ॥ हर्फ़े-शोशा 12 ॥ ----- 

ऐ शबे-नीम ज़रा ख़्वाबों के कारिंदों से कहो.., 
इन निग़ाहों को भी जऱ निग़ारी की जरुरत है... 
NEET-NEET पर 
Neetu Singhal  
-------

(आलेख)  

गंभीर मरीजों के लिए  

' रेडक्रॉस ' बने मददगार ! 

Swarajya karun  
-------

कार्टून :-  

सवारि‍यां अपनी देशभक्‍ति‍ के लि‍ए  

ख़ुद ज़ि‍म्‍मेदार हैं 

-------

दोहे  

" काफल "  

( राधा तिवारी " राधेगोपाल ") 

Image result for काफल
काफल अब पकने लगे, आया चैत बैसाख।
 काफल पाको कह रही, बैठी चिड़िया शाख... 
-------

चारकोल.... 

पूजा प्रियंवदा 

yashoda Agrawal 
------- 

12 comments:

  1. सुन्दर लिंकों का चयन।
    ऐ शबे-नीम ज़रा ख़्वाबों के कारिंदों से कहो..,
    इन निग़ाहों को भी जऱ निग़ारी की जरुरत है...
    आदरणीया नीतू सिंघल जी की रचना पटल को सुशोभित कर गई ।
    प्रस्तुतकर्ता बधाई के पात्र हैं ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर संकलन । मेरी रचना को संकलन में स्थान देने के लिए हृदय से आभार अनीता जी ।

    ReplyDelete
  3. उपयोगी और पठनीय चर्चा प्रस्तुति।
    सभी पाठकों को बुद्ध पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    --
    अनीता सैनी जी आपका आभार।

    ReplyDelete
  4. सुंदर प्रस्तुति मेरी रचना को चर्चा मंच पर स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार अनिता जी

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर सूत्रों का संयोजन आज की चर्चा में ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार अनीता जी ! सस्नेह वन्दे !

    ReplyDelete
  6. बहतरीन प्रस्तुति ,सादर

    ReplyDelete
  7. बहुत शानदार लिंकों का संयोजन आपकी अथक मेहनत को दिखा रही है आप एक लाजवाब चर्चा कार के रूप में मुखरित हो रहें हैं
    सुंदर चर्चा अंक ।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए तहे दिल से शुक्रिया।
    सभी रचनाकारों को बधाई

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर लिंक्स |आभार

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं 🙏 मेरी रचना को स्थान देने के लिए सहृदय आभार सखी

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।