Followers

Sunday, May 05, 2019

"माँ कवच की तरह "(चर्चा अंक-3326)

स्नेहिल अभिवादन   
रविवासरीय चर्चा में आप का हार्दिक स्वागत है|  
देखिये मेरी पसन्द की कुछ रचनाओं के लिंक |  
 अनीता सैनी  
-----

दोहे  

"मत करना विश्वास"  

(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’) 

-----

जुंबिशें - - - दोहे

My Photo 

------

क्षणिकाएं 

Kailash Sharma at 

Kashish - My Poetry 

------

पूर्णांक 

My Photo
आत्ममुग्धा at
 मेरे मन का एक कोना 
----

एक निष्ठ सूरज

12 comments:

  1. बहुत सुंदर रचनाएँ है आज के अंक में।
    प्रिय अनीता सराहनीय चयन और संयोजन,मेरी रचना को स्थान देने के लिए सादर आभार।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर और पठनीय चर्चा प्रस्तुति।
    आपका आभार अनीता सैनी जी।

    ReplyDelete
  3. सुंदर समायोजन

    ReplyDelete
  4. सुन्दर सार्थक सूत्रों से सुसज्जित आज का चर्चामंच ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार अनीता जी ! आपकी पसंद लाजवाब है !

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा. मेरी कविता शामिल की.शुक्रिया.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर प्रस्तुति शानदार लिंकों का संकलन।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए तहे दिल से शुक्रिया ।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर संकलन.....मेरे लेख को स्थान देने के लिये शुक्रिया आपका

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर लिंक्स एवम प्रस्तुति ... आभार सहित शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर प्रस्तुति शानदार रचनाएं मेरी रचना को चर्चा मंच का हिस्सा बनाने के लिए आपका हार्दिक आभार अनिता जी

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर सूत्र संकलन। आभार...

    ReplyDelete
  11. प्रस्तुति शानदार है

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।