Followers

Wednesday, May 01, 2019

"संस्कारों का गहना" (चर्चा अंक-3322)

मित्रों!
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

वो अब मुस्कुराने लगी 

Screenshot_20190429-221206_Google
संस्कारों का पहन गहना 
बड़ी  शान  से चलने लगी 
समेटे होठों की मुस्कान
 गीत प्रीत के गाने लगी 

इंतज़ार में सिमटते दिन
 वही रात गुजरने लगी 
पहरेदार वह देश का 
यही सोच मंद - मंद  मुस्कुराने लगी... 
Anita saini   
--

बांधो न उसको  

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा 
--

सुरों के सहारे -  

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना 

दूर दूर तक 
सोयी पड़ी थीं पहाड़ियाँ 
अचानक टीले करवट बदलने लगे 
जैसे नींद में उठ चलने लगे।
एक अदृश्य विराट हाथ बादलों-सा बढ़ा 
पत्थरों को निचोड़ने लगा
निर्झर फूट पड़े 
फिर घूम कर सबकुछ  
रेगिस्तान में बदल गया... 
रवीन्द्र भारद्वाज  
--

रफूगिरी 

सारी ज़िंदगी
मरम्मत करती रही हूँ
फटे कपड़ों की
कभी बखिया करके
तो कभी पैबंद लगा के
कभी तुरप के
तो कभी छेदों को रफू करके... 
Sudhinama पर 
Sadhana Vaid 
--
--

ईंट प्यार की तब घर बनता 

जो करना है झटपट करना  
मगर नहीं कुछ अटपट करना  
ईंट प्यार की तब घर बनता... 
श्यामल सुमन 
--
--

घृणा 

घृणा से उपजी  
ऊर्जा से पिघला कर  
इस्पात बनती हैं तलवारें,  
बंदूकें बम्ब और बारूदें... 
अरुण चन्द्र रॉय  
--
--
--
--

10 comments:

  1. सुंदर लिंक्स का बेहतरीन समायोजन।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर परिपाटी की अद्भुत मिशाल है चर्चामंच बहुत समय बाद इस ब्लॉग पर आ रहा हूँ। लेख और कलम को एक कटिबधन मे रख कर चलने वाला बेहतरीन ब्लॉग है चर्चामंच। बहुत से ब्लॉगों को पहिचान दिलाते हुये यह ब्लॉग निरंतर आगे बढ़ रहा है। ब्लॉग के संरक्षकों को कोटि कोटि नमन।

    ReplyDelete
  3. बहतरीन चर्चा प्रस्तुति 👌
    मुझे स्थान देने के लिए तहे दिल से आभार आदरणीय
    सादर

    ReplyDelete
  4. वाह!!खूबसूरत प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  5. उम्दा प्रस्तुति |मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद सर |

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी चर्चा |

    ReplyDelete
  7. इतने सुंदर मंच पर पथिक को स्थान देने के लिये ध्यान शास्त्री सर जी।
    विलंब से उपस्थित के लिये क्षमा चाहता हूँ।
    प्रणाम।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर सार्थक सूत्रों से सुसज्जित आज का चर्चामंच ! मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।