Followers

Friday, May 17, 2019

"बदलाव की सुखद बयार" (चर्चा अंक- 3338)

मित्रों!
शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--
--
--

ये कानपुर है मेरी जान... 

काथम पर प्रेम गुप्ता `मानी' -  
--
--
--
--

प्रेम और चुनाव  

चुनाव और प्रेम में भी अजीब घालमेल है,  
सिर्फ शब्दों, इशारों व भावनाओं का तालमेल है।  
वहाँ भी चुनाव था, यहाँ भी चुनाव है,  
वहाँ न कुछ प्रभाव था, यहाँ न कुछ प्रभाव है... 
विमल कुमार शुक्ल 'विमल' 
--
--

दोहे  

" मिलता सदा सुकून।।"  

(राधा तिवारी "राधेगोपाल ") 

माँ  समझाती थी हमें, झूठ बोलना पाप।
 मोबाइल पर लोग अब, बढा रहे हैं ताप।। 
--
--
--

10 comments:

  1. बहुत सुंदर चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  2. बहुत उम्दा /बेहतरीन प्रस्तुति।
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    ReplyDelete
  3. एक माँ का दर्द : Mother इस पोस्ट ने और इस पोस्ट के विडीओ ने दिल मे जगह बना ली

    मेरी पसंदीदा पोस्ट में शामिल हुई है एक माँ का दर्द : Mother

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर लिंक्स का संयोजन आज की चर्चा में ! मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन लिंक्स का सराहनीय संकलन । बहुत -बहुतधन्यवाद ।

    ReplyDelete
  7. सर विलम्ब से आने हेतु क्षमा प्रार्थी हूँ |मोबाईल से कमेंट्स नहीं हो पा रहा |घर आकर लैपटॉप से कर रहा हूँ |सादर प्रणाम

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर लिंक्स |हृदय से आभार

    ReplyDelete
  9. बढ़िया प्रस्तुति

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।