समर्थक

Wednesday, August 12, 2015

दो पीढ़ियों की सोच के अन्‍तर के वास्‍तविक कारण चर्चा मंच 2065

गीत "जिन्दा उसूल हैं" 
(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’) 
अब भी हमारे गाँव में जिन्दा उसूल हैं।
गर प्यार से मिले तो जहर भी कुबूल हैं..
रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 


Tushar Rastogi 



डा0 हेमंत कुमार ♠ Dr Hemant Kumar 



Sushma Verma 



सुशील कुमार जोशी 



विकेश कुमार बडोला (हरिहर ब्‍लॉग के संचालक) 



दिनेशराय द्विवेदी 



PAWAN VIJAY 



Asha Saxena 



kuldeep thakur 


त्रिवेणी 


No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin