Followers

Thursday, October 13, 2016

चुप्पियाँ ही बेहतर { चर्चा - 2494 }

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
सीता की अग्नि परीक्षा लेने के लिए लोग राम को अक्सर कटघरे में खड़ा करते रहे हैं, लेकिन इस बार सोशल मीडिया पर जो महिमामंडन रावण का हुआ है, उसके बाद लगता है कि अब चुप्पियाँ ही ज्यादा बेहतर हैं | 

7 comments:

  1. बहुत सुंदर चर्चा सूत्र.'देहात' से मेरे पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा दिलबाग जी । आभार 'उलूक' के सूत्र 'हत्यारे की जाति का डी एन ए' को जगह देने के लिये ।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर, सार्थक सूत्रों से सुसज्जित आज का चर्चामंच ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार दिलबाग जी !

    ReplyDelete
  5. मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर चर्चामंच.;मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार

    ReplyDelete
  7. देर से आने के लिए खेद है, सुंदर सूत्रों से सजी चर्चा..इस मंच से जुड़ना सौभाग्य की बात है..आभार !

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...