समर्थक

Wednesday, October 26, 2016

पिता मुलायम हाथ से, आज खुजाता माथ- चर्चा मंच 2507


कुछ अच्छा ही होगा कल,.. 

Priti Surana 

इसलिए कीजिए चीनी सामान का बहिष्कार 

lokendra singh 

गागर में सागर पुस्तक मेले का शुभ समापन –  

डा रंगनाथ मिश्र को मेला संयोजक 

श्री देवराज अरोरा ने अपना गुरु घोषित किया-  

डा श्याम गुप्त

माया महा ठगनी हम जानी।। 

Virendra Kumar Sharma 

"प्राचीन स्वास्थ्य दोहावली"-2 

yashoda Agrawal 

गाँव नहीं रहा अब गाँव जैसा...3 

केवल राम 

दोहे  

"नहीं जेब में दाम" 

(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

Image result for दिवाली पर सजे बाजार
मनमोहक सबको लगें, झालर-बन्दनवार।
जगमग करती रौशनी, सजे हुए बाजार।।

मन सबका ललचा रहे, काजू औ’ बादाम।
लेकिन श्रमिक-किसान की, नहीं जेब में दाम।।

5 comments:

  1. बहुत सुन्दर सतरंगी चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय रविकर जी।

    ReplyDelete
  2. शुभप्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रस्तुति रविकर जी ।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin