साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Saturday, October 15, 2016

"उम्मीदों का संसार" {चर्चा अंक- 2496}

मित्रों 
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--

कविता 

"खिलती बगिया है प्रतिपल" 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

गीत-ग़ज़ल, दोहा-चौपाई,
गूँथ-गूँथ कर हार सजाया।
नवयुग का व्यामोह छोड़कर ,
हमने छन्दों को अपनाया।

कल्पनाओं में डूबे जब भी,
सुख से नहीं सोए रातों को।
कम्प्यूटर पर अंकित करके,
कहा आपसे सब बातों को।।

जब मौसम ने ली अँगड़ाई,
हमने उसका गीत बनाया।
बासन्ती उपवन के हर
पत्ते-बूटे को मीत बनाया... 
--

कहीं अपने ही शब्दों में न संशोधन करो तुम ... 

दबी है आत्मा उसका पुनः चेतन करो तुम 
नियम जो व्यर्थ हैं उनका भी मूल्यांकन करो तुम 
परेशानी में हैं जो जन सभी को साथ ले कर 
व्यवस्था में सभी आमूल परिवर्तन करो तुम... 
Digamber Naswa 
--
--
क्षणिकाएँ 
yashoda Agrawal 
--
--
--

ग़ज़ल --  

ये बात और है तेरा ख़याल आज भी है 

किसी की याद में जलता मसाल आज भी है । 
इन आँसुओं में सुलगता सवाल आज भी है... 
Naveen Mani Tripathi 
--
--

नही मिलता यहाँ प्यार जिंदगी में.. 

उस दिन शाम को कॉफ़ी पीते-पीते, 
तुम वही घिसा-पीटा डायलॉग बोल कर चले गये, 
कि हर किसी को नही मिलता 
यहाँ प्यार जिंदगी में... 
'आहुति' पर Sushma Verma 
--
--
--
--
--
--

राम जाने 

(कविता) 

*एक विश्वविद्यालय में * 
रावण के वंशजों ने राम के वंशज का पुतला जलाया 
और जोर-जोर से हो-हल्ला मचाया 
देखो-देखो हमने रावण को जलाया 
ये देख रावण ने अपना सिर खुजाया 
और उनकी मूर्खता पर मंद-मंद मुस्कुराया 
फिर अपने वंशजों से हँसते हुए बोला 
बेटा राम से लिया था मैंने पंगा 
तो उन्होंने मुझको लगा दिया था ठिकाने 
अब तुमने उसके वंशज को छेड़ा है 
अब तुम्हारा क्या होगा ये तो राम ही जाने। 
SUMIT PRATAP SINGH 
--
--
--
सपना के दोहे  
लो टूट प्रेम के गए, सुन्दर थे जो कांच। 
आज दिलों पर कर रही, नफरत नंगा नाच... 
नई क़लम - उभरते हस्ताक्षर 
--
--

2 comments:

  1. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"आरती उतार लो, आ गया बसन्त है" (चर्चा अंक-2856)

सुधि पाठकों! आप सबको बसन्तपञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँ। -- सोमवार की चर्चा में  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। राधा तिवारी (र...