Followers


Search This Blog

Tuesday, August 27, 2019

"मिशन मंगल" (चर्चा अंक- 3440)

मित्रों!
मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

चेतना 

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा  
--

केदारनाथ सिंह :  

क़ब्रिस्तान की पंचायत में सरपंच :  

संतोष अर्श 

समालोचन पर arun dev  
--

वह हृदय नहीं पत्थर है,  

जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं 

चौथाखंभा पर Arun sathi 
--

इन्तक़ाम 

यह किस्सा आज से करीब सौ साल पुराना है. उन दिनों बड़े शहरों में तो कारों का चलन हो गया था लेकिन छोटे-शहरों में तो कार देखने के लिए भीड़ जुट जाती थी. एक छोटे शहर के धन्ना सेठ ने कार खरीदी. शोफ़र द्वारा चालित कार की बैक-सीट पर सेठ ऐसे निकलता था जैसे कोई बादशाह हाथी पर निकलता हो और गाड़ी में बैठकर सभी पैदल यात्रियों को, इक्के-तांगे पर या रिक्शे-साइकल पर आने-जाने वालों को बड़ी हिकारत भरी नज़रों से देखता था... 
गोपेश मोहन जैसवाल  
--

गाँठ सुलझा रफ़ू.....  

विभा रानी श्रीवास्तव 

मेरी धरोहर पर संजय भास्‍कर  
--
--
--
--
--

"बीमार होना भी एक कला है " 

ब से ज़िन्दगी शुरू होती है , हम जो भी करते है वह एक कलाकारी सा ही होता है , सांस लेना एक कला , चलना ,उठना ,बैठना ,खाना सीधे मुहं से खाना एक कला ही तो है । ऐसे ही बीमार होना भी एक कला है , और यह करतब आप नहीं आपका शरीर करता है ,बेशक उस कला के "कर्ता -धर्ता" आप ही है पर शरीर उस "क्रियाकलाप" से क्या बीमारी की कला दिखायेगा यह वह ही जाने ! अब ज़िन्दगी के 50 साल तक "खुद को मैं "यह समझने वाली कि "लकड़ भी हज़म ,पत्थर भी हज़म " ,पेट को अपने खूब लाड़ से खिलाती पिलाती रही , पर अचानक एक दिन पेट को न जाने क्या सूझी खाने ले जाने वाली नली को रिवर्स गेयर में चलाने लगा... 
**पर रंजू भाटिया 
--
--
--
--

शिला 

निर्जीव और बेजान   
निष्ठुरता का अभिशाप लिये
मूक पड़ी है सदियों से
स्पंदनहीन शिलाएँ... 
मन के पाखी पर Sweta sinha  

5 comments:

  1. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  2. विविधापूर्ण लिंकों का सुंदर संयोजन है सर बहुत बहुत आभार और शुक्रिया मेरी रचना को शामिल करने के लिए।

    ReplyDelete
  3. बहुता अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. वाह बेहतरीन रचनाओं का संगम।एक से बढ़कर एक प्रस्तुति।
    BhojpuriSong.in

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।