चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Saturday, January 01, 2011

स्वागतम्-नववर्ष २०११ (चर्चा मंच 386 )


"चर्चा मंच" अंक - 386
♥ आप हर्षित रहें इस नये वर्ष में ♥
आइए आज का "चर्चा मंच" सजाते हैं-
देखिए नववर्ष का स्वागत करते कुछ लिंक्स-

"नया वर्ष स्वागत करता है" 

 नया वर्ष स्वागत करता है , पहन नया परिधान ।
सारे जग से न्यारा अपना , है गणतंत्र महान ॥
ज्ञान गंग की बहती धारा ,
चन्दा , सूरज से उजियारा ।
आन -बान और शान हमारी -
संविधान हम सबको प्यारा ।
प्रजातंत्र पर भारत वाले करते हैं अभिमान ।
सारे जग से न्यारा अपना , है गणतंत्र महान ॥

शीश मुकुट हिमवान अचल है ,
सुंदर -सुंदर ताजमहल है ।
गंगा - यमुना और सरयू का -
पग पखारता पावन जल है ।
प्राणों से भी मूल्यवान है हमको हिन्दुस्तान । 
सारे जग से न्यारा अपना , है गणतंत्र महान ॥

स्वर भर कर इतिहास सुनाता ,
महापुरुषों से इसका नाता ।
गौतम , गांधी , दयानंद की ,
प्यारी धरती भारतमाता ।
यहाँ हुए हैं पैदा नानक , राम , कृष्ण , भगवान् ।
सारे जग से न्यारा अपना , है गणतंत्र महान ॥

एक ब्लॉग 

संकलक

(एग्रीगेटर) 

मित्रों!
आज पूरा ब्लॉगजगत 


संकलक (एग्रीगेटर) खोज रहा है! 


मैंने भी वर्ष-2011 की पूर्व संध्या पर 


एग्रीगेटर का विकल्प खोजने का 


यह प्रयास किया है!


मुझे आशा ही नहीं अपितु विश्वास भी है कि 


आप अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. 


मुझे मेल करते जाएँगे और मैं आपके ब्लॉग 

इसमें जोड़ता चला जाऊँगा!

rcshashtri@uchcharan.com

पुराना साल जाने को है और नए साल का 
पदार्पण होने हीं वाला है | 
साल का आखिरी सूर्य अस्त होगा और नयी आशाओं को 
लिए बालारुण पूर्वी क्षितिज से उदीत होगा | ...
---------------

नव वर्ष के संकल्प !

बीते दशकों इसी तरह
नव वर्ष के आते जाते , 
इस वर्ष कुछ ऐसा मनाएं,
संकल्पों के दशक बना लें.
दीप ऐसा एक मन में जला लें,
कलुष मिटाकर धवल बना लें.
-------------

कताई



ख़्वाबों की पुनिया को 
आँखों की तकली से
काता  है शिद्दत से 
------------------------


आदमी फिर नये सफ़र पर है
कुँवर कुसुमेश

लो नया आफ़ताब सर पर है,

आदमी फिर नये सफ़र पर है.
------------------




*खाने को मिलता रहे माल!* 
*शुभ हो सबको यह नया साल!!* * 
* *स्वस्थ रहें नर और नारी,* 
*सन्तान रहें आज्ञाकारी,* 
*कचरा नहीं बीने कोई बाल!* 
*शुभ हो सबको यह नया साल...
-----------------------------------------

नये साल की शुभकामनायें










नया साल मुबारक सबको 

पूरी हो सबकी अभिलाषाये
जो रह गयी है आशाये अधूरी
वो नव वर्ष में पूरी हो जाये
नये साल की शुभकामनाये ....
----------------------------------

इस सदी के दूसरे दशक का पहला साल मुबारक हो .


------------------

आने वाले नये साल [केलेंडर ईयर] की ढेर सारी शुभकामनाएँ


टेंशन सारी छोड़ के, 
बढ़िया करें विचार|
बढ़िया पहनें-खायँ हम, 
बढ़िया हों व्यवहार||........



टेंशन सारी छोड़ के, बढ़िया करें विचार| 
बढ़िया पहनें-खायँ हम, बढ़िया हों व्यवहार|| 
बढ़िया हों व्यवहार, यार आमद या खर्चे| 
बढ़िया हों आधार, करें सब बढ़िया चर्चे...
-----------------------------------------------



आज वर्ष *२०१०* हम सभी से बिदा ले रहा है और नया वर्ष *२०११* 

समय के द्वार पर दस्तक दे रहा है . 

बीते वर्ष में हमने क्या खोया है और क्या पाया है इस पर गंभीरता ...

---------------------------------------------





HAPPY NEW YEAR FOR ALL

------------------------------------------------





* आज एक और साल ख़त्म हो जायेगा...

आने वाला साल आपके लिए नयी खुशियाँ और नयी उमंग लाये बस यही कामना करता हूँ...* * *

----------------------------------------------





शब् के साए से निकलना चाहता है चराग 

शाम से ही जलना चाहता है ख्वाब की तासीर बहुत कम रही है अब हकीकत में बदलना चाहता है 

जब तय्य्खुल में जिक्र माजी का हो...

जीवन कब बदलता है 
ये तो नज़रों का धोखा है 
खुद से खुद को छलता है 
यूँ ही उत्साह में उछलता है 
ना कल बदला था ना आज बदलेगा 
ये तो जोगी वाला फेरा है  ...
----------------
आप सब को नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं | 
कल जब सुबह होगी , एक वर्ष बाद आँखें खुलेंगी ,
 रात भर में ही, पूरा वर्ष बीत जाएगा , 
क्यूँ की २०१० में सोओगे , और कल ...
-------------------------
मेरी बोल्‍ड जवानी
------------------------
घंटों लगे थे रेत का भी घर बनाने में हवा का एक झोंका आया टूट गया रेत का घर // एक बिजली सी कौंधी मेरे दिल में रिश्ते बनाने में भी लगते है सालों मगर टूट जाते ...
-----------------------------
लो यह साल भी गया ... 
अब फिर है एक नया साल नए संकल्प नई संभावनाएं नए मौके ! यह साल गया इसे जाना ही था 
पर जब तक यह रहा तुम्हें तुम्हारे संकल्पों की याद दिला...
-----------------------------

अरी ओ आधी दुनिया...!!

अरी ओ आधी दुनिया....
देख-देख देख ना आ गया इक और नया साल 
और तेरी भी खुशियों का नहीं है कोई पारावार 
यानी कि तुझे भी मनाना है नया साल...है ना...


कार्टून: पटरी पर बैठने के फायदे . बामुलाहिजा >>
 Cartoon by Kirtish Bhatt www.bamulahija.com

आने वाला है कल नया दिन लेकर एक जनवरी, 
देनी है आज विदाई हमको इकतीस दिसम्‍बर को । 
माफ करना खता जो तुमको नागवार गुजरा हो, 
आए हैं सजाए माफी का इकरार तु...
-----------------------------



हरीश प्रकाश गुप्त *नव वर्ष की शुभ्र ज्योत्सना,*

 *द्युतिमय कर दे जीवन को* 

*अजस्र उत्स सी बहे अहर्निश* 

*वैभव, सुख, खुशियाँ भरने को,* ** *अद...

---------------------------




माँ की डायरी में एक बहुत सुन्दर रचना पढ़ने के लिये मिली 

जो आज के समय में भी उतनी ही सामयिक है ! 

उन्होंने किसी विशिष्ट अष्टमी के दिन शायद इसे लिखा होगा ! यद्...

-------------------------------




*साल ग्यारह आ गया है! खुशियों की सौग़ात लेकर,* 

*आइये स्वागत करें हम जोश के जज़्बात लेकर.* 

*मुस्कुराते बीते पल की याद बस मन में रहे*...

*राष्ट्र-सम्पदा को लूट खा रहा हर रंक, राजा बनकर, 
जांच के मरहम से जख्म उभरे है और ताजा बनकर। 
भेड़ की खाल में घूमते फिर रहे भेड़िये, गली-चौबारे, ...
-----------------------------
*इस ठिकाने पर आप 
पिछली शताब्दी की 
पोलिश कविता के कुछ चुनिन्दा अनुवादों से 
रू-ब-रू हो चुके हैं। इसी क्रम में आज 
एक ( और) पोलिश कवयित्री 
अन्ना स्विर्सज़्यान्...
------------------

प्रिय ब्लॉग पाठकों.....

आप सभी को नववर्ष के अवसर    

पर हार्दिक शुभकामनाएँ !

स्वागत 2011
चली चली देखो चली 
चली इतिहास के पनों मै अपना नाम ................
दर्ज करने 2010 चली  !
सुख - दुख का पिटारा हमको देकर ............
वो देखो...वो  अपने देश चली !
कहाँ हम भूलेंगे अब उसको 
हमने ही तो जोड़ा था उसको 
जेसे पतंग  संग डोर बंधी , 
चली - चली , चली - चली देखो 
वो तो हमसे कितनी दूर चली !
कितना समर्पण उसमे देखो 
अपना सब कुच्छ हमको सोंप वो ख़ाली हाथ ही ... 
------------------


अलविदा....तोहफ़ा और... दर्द की महक ....

आज वर्ष का आखिरी दिन है .....नववर्ष द्वार पर है ....सोचती हूँ क्या खोया ...क्या पाया ..?....तोपाया का पलड़ा जरा भारी लगता है .....आप सब का स्नेह ...प्यार ...मित्रता ....कई तोहफे ......सम्मान .....तो शुक्रिया तेरा वर्ष २०१० ...अलविदा .....

इस अलविदा और स्वागत के साथ ....कुछ शब्दचित्र ....

()

अलविदा .....


()

तोहफ़ा ......


()

स्वागत .....


()

दर्द की महक ....


()

ईमान के बीज .....



------------------------

साल की आखिरी पोस्ट
वर्ष २०१० की यह संभवतः कबाड़ख़ाने में अंतिम पोस्ट है. 
देहरादून से इसे हमारे कबाड़ी शिवप्रसाद जोशी ने भेजा है.
-------------------

नए साल की बधाइयाँ...


आप सभी मित्रों और शुभचिंतकों को नए साल के आगमन पर बधाइयाँ. 
आप सभी के लिये नव वर्ष सुख, समृद्धि, शांति, धन, वैभवदायक हो।
नव वर्ष-2011 की हार्दिक बधाई 
-----------------------------------------

नव वर्ष की बेला आई..


नव वर्ष की बेला आई खुशियों की सौगातें लाई 

नया कर गुजरने का मौका सद्भावों की नौका लाई



 ---------------------------------


हे नूतन वर्ष तू ठहर जरा




नये वर्ष 2011 में आप सबको अभिवादन!
बुधवार की चर्चा लेकर फिर उपस्थित हो जाऊँगा!

20 comments:

  1. नव वर्ष शुभ और मंगलमय हो |चर्चा मंच की इस साल की पहली पोस्ट बहुत सी लिंक्स के साथ
    बहुत अच्छी लगी बहुत बहुत बधाई |
    आज अपनी पोस्ट यहाँ देख बहुत अच्छा लग रहा है |इस हेतु बहुत बहुत आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  2. चर्चा है विस्तार से, और इसमें अपने ब्लोग की चर्चा से मन प्रसन्न हुआ। सर्वस्तरतु दुर्गाणि सर्वो भद्राणि पश्यतु।
    सर्वः कामानवाप्नोतु सर्वः सर्वत्र नन्दतु॥
    सब लोग कठिनाइयों को पार करें। सब लोग कल्याण को देखें। सब लोग अपनी इच्छित वस्तुओं को प्राप्त करें। सब लोग सर्वत्र आनन्दित हों
    सर्वSपि सुखिनः संतु सर्वे संतु निरामयाः।
    सर्वे भद्राणि पश्यंतु मा कश्चिद्‌ दुःखभाग्भवेत्‌॥
    सभी सुखी हों। सब नीरोग हों। सब मंगलों का दर्शन करें। कोई भी दुखी न हो।
    बहुत अच्छी प्रस्तुति। नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं!

    साल ग्यारह आ गया है!

    ReplyDelete
  3. इस वर्ष की पहली पोस्ट बहुत सारी लिंक्स के साथ
    अच्छी लगी । बहुत-बहुत बधाई | नववर्ष स्वजनों सहित मंगलमय हो आपको । सादर - आशुतोष मिश्र

    ReplyDelete
  4. काफ़ी कुछ अच्छा मिला पढ़ने को आभार।

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा है .आप सभी चर्चाकारों को एवं सभी ब्लागर मित्रों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ....

    ReplyDelete
  6. नए साल की पहली चर्चा ..नया ले कुछ ले कर आती है ...ब्लॉग मंच अच्छा लगा ...सराहनीय प्रयास है ...
    विस्तृत और सुन्दर चर्चा के साथ आज चर्चा मंच की शुरुआत हुयी है ...

    आभार ...नव वर्ष की सभी को शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  7. bhut hi sundar aaj ki charcha.........happy new year

    ReplyDelete
  8. सभी लेखकों एवं पाठकों को नूतन वर्ष की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  9. nav varsh ki charcha manch par pahli post..
    bahut sundar.
    naye saal me aur sarthak charcha ki hardik shubhkamnaon ke sath bahut-bahut badhai!

    ReplyDelete
  10. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ! सुन्दर और सार्थक चर्चा के लिये आभार एवं धन्यवाद !

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया चर्चा !
    आपको और आपके परिवार को मेरी और मेरे परिवार की और से एक सुन्दर, सुखमय और समृद्ध नए साल की हार्दिक शुभकामना ! भगवान् से प्रार्थना है कि नया साल आप सबके लिए अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और शान्ति से परिपूर्ण हो !!

    ReplyDelete
  12. नव वर्ष की पहली पोस्ट बहुत ही सुन्दर और सार्थक रही……………काफ़ी सुन्दर लिंक्स सजाये हैं…………नये एग्रीगेटर का स्वागत है आज इसकी बहुत जरूरत है……………नव वर्ष की आपको और आपके पूरे परिवार को हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. अच्छे लिंक्स के लिये आभार के साथ चर्चामंच से जुड़े सभी महानुभावों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  14. नए वर्ष की शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  15. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  16. सुन्दर और सार्थक चर्चा के लिये आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  17. चर्चा मंच का आँगन बेहद सुन्दर सजा है.. आज नव वर्ष पर .. शास्त्री जी का आभार सुन्दर लिंक्स मनभावन तरीके से दिए है.. नया साल मंगलमयी हो...

    ReplyDelete
  18. acchhe links se saji charcha.

    nav varsh ki hardik shubhkaamnaayen.

    ReplyDelete
  19. नए वर्ष की आपको भी बधाई।
    गरम जेब हो और मुंह में मिठाई॥
    रहें आप ही टाप लंबोदरों में-
    चले आपकी यूँ खिलाई - पिलाई॥

    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin