चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, January 02, 2012

धन धान्य भरै, घर क्लेश मिटै (सोमवारीय चर्चामंच-746)


दोस्तों! ब्लॉगों पर मंगल नववर्ष के चर्चा की ख़ुमारी छाई है। आज भी
‘‘आखर है एकै गिरा, ‘मंगल हो नववर्ष’,
सुख-समरिद्धी-शान्ति हो, छाये सब में हर्ष।’’
सो
आप सब की खि़दमत में पेश है इन्हीं जज्बातों से लबरेज़, चर्चामंच की आज की पेशकश का
लिंक नं. 1- 
_______________
2-
My Photo
_______________
3-
_______________
4-
My Photo
_______________
5-
जीवन की हर गति बाजार, धन और मुनाफे से नहीं तय होती
My Photo
_______________
6-
सपना और सच्चाई 
स्वच्छ नीलाकाश में चिड़ियों का मस्त तिरना,
कोमल-रक्ताभ कोपलों पुष्पों के मध्य फिरना,
बचपन से मुझे लालसा के झूले में झुलाता है
निर्बन्ध-सीमाहीन दुनिया में बुलाता है।
मेरा फोटो
_______________
7-
नववर्ष विशेषःश्वास-नियंत्रण से रहें प्रसन्न
साँस लेना जिंदा रहने की एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। जब हम उत्तेजित होते हैं तब साँसें बहुत तेज गति से चलने लगती हैं और शांत अवस्था में इनकी गति धीमी हो जाती है। इसको इस तरह भी कहा जा सकता है कि यदि प्रयत्नपूर्वक धीमी गति से साँस लेंगे तो तनाव शिथिल होगा।
My Photo
_______________
8-
आग लगे ब्लॉगिंग तोहार...!...बेचैन आत्मा की है ये गोहार!
My Photo
_______________
9-
नमन, इस भारत-भूमि को,
जिसमे वीरों ने, ऋषियों ने जन्म लिया.
नमन-नमन उन वीरों को, ऋषियों को,
मिट्टी को, लहू से जिसने तोल दिया.
My Photo
_______________
10-
मेरा फोटो
_______________
11-
मेरे प्यारे देश-वासियों, देश-विदेश से शुभचिंतकों, मित्रों, नूतन वर्ष मंगलमय हो, सुख और समृद्धि, शांति और सद्दभाव, प्रेम और करुना लिए नव-वर्ष सर्वजन को पुष्पित, पल्लवित करे, यही कामना है मेरी. वर्तमान वर्ष को प्यार भरे पुष्प-गुच्छ दे, सद्द्भावानाओं के साथ अलविदा ...
srijan
_______________
12-
नया साल 2012 मुबारक 
मालिक तू इत्मिनान से दैरो-हरम में है.
पर चाहने वाला तेरा दरिया-ए-ग़म में है.
My Photo
_______________
13-
जनता के अन्नाने का साल, कांग्रेस के भन्नाने का साल
मेरा फोटो
_______________
14-
अब कुछ पुरानी रचनाओं की याद ताज़ा कर ली जाय-

नं. 21-
_______________
22-
रचना का अलबेला अरमान 
(स्पेशल अपील - बुरा न मानो होली है वाले जज़्बात लेकर मेरी यह रचना पढ़ी जाए, तभी आप इसका लुत्फ़ ले सकेंगे।)
_______________
23-
_______________
24-
_______________
25-
कहानियां जो सोचने को विवश करती हैं... पांचवी कहानी - गैंग्रीन
मेरा फोटो
_______________
26-
_______________
27-
_______________
29-
________________
और अन्त में
30-
________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

21 comments:

  1. बधाई इस चयन के लिए ..

    ReplyDelete
  2. sabsee pahle nav varsh ki hardik badhai charcha manch ke sabhi logo ko .......
    Gafil ji achhe links hain sare . kuchh par comment bhi kar payi kuchh chhut gaye hain.......aabhar mere blog ko sthan dene ke liye

    ReplyDelete
  3. नव वर्ष पर बहुत सुन्दर चर्चा.
    मुझे स्थान दिया,कृतज्ञ हूँ.

    ReplyDelete
  4. नव वर्ष २०१२ की आप सब को ढेरों ढेरों शुभकामनाएँ, ईश्वर करे कि ये वर्ष आपके जीवन का यादगार वर्ष ठहरे,

    Aamin .

    Nice post .

    ReplyDelete
  5. बंदहु सदा मंच-संचालक,
    मैं अबोध मूढ़मति बालक
    ब्यंग आरती सुबहि पढ़ाई
    कम जितनी भी करें बड़ाई.
    झिलमिल ग्रीटिंग-कार्ड मनोहर,
    छपी उक्ति भी एक धरोहर.
    तीस लिंक इक मंच समाई
    नये वर्ष की सबको बधाई.

    ReplyDelete
  6. शानदार चर्चा।
    नूतन वर्ष 2012 की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  7. बहुत बढि़या लिंक्‍स संयोजन चर्चा मंच का ...नववर्ष की अनंत शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  8. अच्छी चर्चा
    बहुस सुंदर लिंक्स के साथ

    ReplyDelete
  9. अच्छे लिंक्स

    ReplyDelete
  10. सुंदर, सुसज्जित चर्चा।
    नव वर्ष की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  11. बहुत बढि़या सुसज्जित चर्चा..
    नववर्ष की शुभकामनाएं !1

    ReplyDelete
  12. मनोयोग से की गयी सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete
  13. काफी अच्छे -अच्छे लिंक्स थे ...आभार
    नए साल की ढेरों शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  14. bahut achche links....aur meri rachna shamil karne ke liye bahut bahut aabhar :)

    ReplyDelete
  15. बढिया चर्चा।
    सुंदर लिंक्‍स।

    ReplyDelete
  16. nav varsh kee shubhkaanaayein
    jis lagan aur mehnat se charchaa manch kaa sanyojan karaa jaataa hai uske liye sadhu waad

    ReplyDelete
  17. bahut sundar charcha rahi...mujhe shaamil karne bahut bahut dhanyvaad..evem sabhi ko nav varsh ki haardik badhai..

    ReplyDelete
  18. भई मिश्रा जी , एक बस आप ही आदमी काम के निकले।
    आपने हमारी लियाक़त को पहचाना और उसे यहां सबके लिए परोस भी दिया।
    वाह वाह,
    आपका माउस कहां है ?
    क्यों न आज उसे चूम लिया जाए ?

    हमारी रचना का चयन करने के लिए चंद्र भूषण जी, आपको थैंक यू !
    किसी को तो हम याद आए और किसी को तो लगा कि हमारी रचना भी चर्चा के लायक़ है।

    ReplyDelete
  19. व्यस्तता के कारण ध्यान नहीं गया। आज याद आया तो दौड़ा चला आया। सुंदर ढंग से चर्चा मंच सजाया है आपने। लिंक पढ़ कर देखता हूँ...आभार।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin