Followers

Thursday, January 26, 2012

दिन गणतंत्र का ( चर्चा मंच - 770 )

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है
 
आज गणतन्त्र दिवस है । सभी देशवासियों को चर्चा मंच की तरफ से गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ।

व्यस्तता के चलते कुछ दिन से ज्यादा ब्लॉग नहीं देख पाया । चर्चा भी कुछ संक्षिप्त रहेगी । आशा है आप 26 जनवरी पर 26 लिकंस के साथ काम चला लेंगे ।
मेरा फोटो
SADA
 Bapun.com Orkut MySpace Hi5 Scrap Images
मेरा फोटो
नजील साहिब कह रहे हैं 

27 comments:

  1. अच्छी और २६ लिंक्स से सजी चर्चा बहु रंगी है और सार्थक भी |गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  2. बहुत ही उम्दा चर्चा .... हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया रही यह संक्षिप्त चर्चा।
    गणतन्त्र दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा. गणतन्त्र दिवस की बधाई

    ReplyDelete
  5. बहुत उम्दा...:)

    ReplyDelete
  6. खूबसूरत लिंक्स ...
    गणतंत्र दिवस की बहुत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  7. गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर
    हार्दिक शुभ कामनाएं ||

    ReplyDelete
  8. बढिया चर्चा।

    गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं....

    जय हिंद... वंदे मातरम्।

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया !

    गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    आज 26 जनवरी है।
    लोग ख़ुश हैं। ख़ुश होने की वजह भी है लेकिन जो लोग आज के दिन भी ख़ुश नहीं हैं उनके पास भी ग़मगीन होने की कुछ वजहें हैं। हमारा ख़ुश होना तब तक कोई मायने नहीं रखता जब तक कि हमारे दरम्यान ग़म के ऐसे मारे हुए मौजूद हैं जिनका ग़म हमारी मदद से दूर हो सकता है और हमारी मदद न मिलने की वजह से वह उनकी ज़िंदगी में बना हुआ है।
    हमारे अंदर अनुशासन की भावना बढ़े, हम ख़ुद को अनुशासन में रखें और किसी भी परिस्थिति में शासन के लिए टकराव के हालात पैदा न करें।
    जो लोग आए दिन धरने प्रदर्शन करते हुए शासन और प्रशासन से टकराते रहते हैं, उन्हें 26 जनवरी पर यह प्रण कर लेना चाहिए कि अब वे देश के क़ानून का सम्मान करेंगे और किसी अधिकारी से नहीं टकराएंगे बल्कि उनका सहयोग करेंगे।
    टकराकर देश को बर्बाद न करें।
    लोग अंग्रेज़ो से टकराए तो वे देश से चले गए और आज बहुत से लोग यह कहते हुए मिल जाएंगे कि देश में आज जो असुरक्षा के हालात हैं, ऐसे हालात अंग्रेज़ों के दौर में न थे।
    कहीं ऐसा न हो कि फिर टकाराया जाए तो देश और गड्ढे में उतर जाए।
    सो प्लीज़ हरेक आदमी यह भी प्रण करे कि अब हम क्रांति टाइप कोई काम नहीं करेंगे।
    जो राज कर रहा है, उसे राज करने दो।
    एक जाएगा तो दूसरा आ जाएगा।
    अपना भला हमें ख़ुद ही सोचना है।

    सादर ,

    Read entire message :
    प्लीज़ क्रांति न करे कोई No Revolution
    http://www.ahsaskiparten.blogspot.com/2012/01/no-revolution.html

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया !

    गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    आज 26 जनवरी है।
    लोग ख़ुश हैं। ख़ुश होने की वजह भी है लेकिन जो लोग आज के दिन भी ख़ुश नहीं हैं उनके पास भी ग़मगीन होने की कुछ वजहें हैं। हमारा ख़ुश होना तब तक कोई मायने नहीं रखता जब तक कि हमारे दरम्यान ग़म के ऐसे मारे हुए मौजूद हैं जिनका ग़म हमारी मदद से दूर हो सकता है और हमारी मदद न मिलने की वजह से वह उनकी ज़िंदगी में बना हुआ है।
    हमारे अंदर अनुशासन की भावना बढ़े, हम ख़ुद को अनुशासन में रखें और किसी भी परिस्थिति में शासन के लिए टकराव के हालात पैदा न करें।
    जो लोग आए दिन धरने प्रदर्शन करते हुए शासन और प्रशासन से टकराते रहते हैं, उन्हें 26 जनवरी पर यह प्रण कर लेना चाहिए कि अब वे देश के क़ानून का सम्मान करेंगे और किसी अधिकारी से नहीं टकराएंगे बल्कि उनका सहयोग करेंगे।
    टकराकर देश को बर्बाद न करें।
    लोग अंग्रेज़ो से टकराए तो वे देश से चले गए और आज बहुत से लोग यह कहते हुए मिल जाएंगे कि देश में आज जो असुरक्षा के हालात हैं, ऐसे हालात अंग्रेज़ों के दौर में न थे।
    कहीं ऐसा न हो कि फिर टकाराया जाए तो देश और गड्ढे में उतर जाए।
    सो प्लीज़ हरेक आदमी यह भी प्रण करे कि अब हम क्रांति टाइप कोई काम नहीं करेंगे।
    जो राज कर रहा है, उसे राज करने दो।
    एक जाएगा तो दूसरा आ जाएगा।
    अपना भला हमें ख़ुद ही सोचना है।

    सादर ,

    Read entire message :
    प्लीज़ क्रांति न करे कोई No Revolution
    http://www.ahsaskiparten.blogspot.com/2012/01/no-revolution.html

    ReplyDelete
  11. भ्रष्ट तंत्र के बावजूद गण में देश-प्रेम स्थाई है।
    आपको भी सपरिवार बधाई।

    ReplyDelete
  12. बढिया चर्चा.
    Happy Republic Day.

    ReplyDelete
  13. राष्ट्र के जीवन में गौरवदिवस.

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन लिंक्स
    बढीया चर्चा मंच
    गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया चर्चा दिलबाग जी हार्दिक बधाई स्वीकारे .. रचना को मंच पर स्थान देने के लिए हार्दिक आभार ...:)

    ReplyDelete
  16. सुसज्जित चर्चा...सुंदर लिंक्स,आभार| गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  17. इस मंच ने मुझे ब्लॉग जगत में एक पहचान दी है ,जिसकी में तहे दिल से आभारी हूँ ..
    मेरी कविता को जगह देने के लिए आभार
    गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें ..जय हिंद !!
    ऋतू बंसल
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  18. इस मंच ने मुझे ब्लॉग जगत में एक पहचान दी है ,जिसकी में तहे दिल से आभारी हूँ ..
    मेरी कविता को जगह देने के लिए आभार
    गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें ..जय हिंद !!
    ऋतू बंसल
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. बहुत सुंदर प्रस्तुति|
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  20. बढिया चर्चा। इसमें हमें भी स्थान द्नेने के लिए आभार॥

    ReplyDelete
  21. संक्षिप्त पर सार्थक चर्चा.आभार.

    ReplyDelete
  22. सुन्दर, सार्थक, गणतन्त्रमयी चर्चा..

    ReplyDelete
  23. बहुत सुंदर सार्थक प्रस्तुति,

    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर सार्थक प्रस्तुति,
    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    ReplyDelete
  25. सुंदर,सार्थक चर्चासंकलन,
    हार्दिक शुभकामनायें...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...