Followers

Tuesday, January 31, 2012

कांपता गणतंत्र, ताली पीटता सत्तातंत्र - चर्चामंच-774

आप सबको अतुल श्रीवास्‍तव का नमस्‍कार। 


गणतंत्र दिवस। बसंत पंचमी और महात्‍मा गांधी का निर्वाण दिवस। बीते हफ्तों में इन विषयों पर खूब कलम चली पर जिस खबर ने सबसे ज्‍यादा चिंता में डाला वो थी खुशदीप जी की कलम और खबर थी,  कांपता गणतंत्र, ताली पीटता सत्तातंत्र
 अफसोस! देश के कर्णधारों पर। आज ही के दिन मोहनदास करमचंद गांधी को गोलियों से छलनी कर दिया गया था....... पर उनके आदर्श अब तक जिंदा हैं, यह सोचने वाली बात है कि अब तक क्‍या कर रहे हैं हम गांधी के लिए । 
मुंह मोड़ा सर्द हवाओं ने
किया श्रृंगार प्रकृति ने 
आई  वासंती बयार
सिमटी  उसके आँचल में |
 आगमन बसंत का
जन जन में, 
जन जन, मन मन में,
यौवन यौवन छाये ।
सखी री ! नव बसंत आये ।।
और साथ ही ये भी सही है कि अभिमन्‍यु की मौत जरूरी है
 
राहें बहुत रास्ते मगर ये पटरियां
ढूंढे इन्ही में जिंदगानी की वो गलियाँ
मुड़ी तुड़ी राहों से कोई गुज़रता नहीं
मिली तो बस बेमिली ,ज्यों पटरियां
 ये किसी न कहना सख्‍त मना है 
 क्‍या होता है पचपन और बचपन का अंतर 
  सोलह आने सच है कि बेटी है तो कल है....!!
जान लीजिए इस बहाने  

 जानिए कितने काम का होता है पुरातत्‍व सर्वेक्षण
 क्‍या होता है उपलब्धि का आधार
पढिए 

  बात शुरू मैंने की थी, गणतंत्र दिवस पर घटी एक शर्मनाक घटना से और इसके बाद आपको अपनी पसंद के कुछ लिंक्‍स देने के लिए ब्‍लाग पोस्‍टों को यूं ही एक दूसरे से पिरोकर पेश किया। अब आखिर में अंत भला तो सब भला कि तर्ज पर प्रस्‍तुत है मेरी एक पोस्‍ट जिसने उम्‍मीदों को जिंदा रखा है,  मिलिए फुलवासन से जिसके सफर की कहानी है बकरी की हांक से पद्मश्री के धाक तक

 मुझे दीजिए इजाजत। अब मुलाकात होगी अगले मंगलवार को... पर चर्चा जारी रहेगी पूरे सातों दिन। 
नमस्‍कार! 
 
 
 

33 comments:

  1. चर्चा का ये अंदाज़ सबसे अलग दिखाई दिया...मेरा लिंक देने के लिए शुक्रिया...​
    ​​
    ​जय हिंद...

    ReplyDelete
  2. बसन्त पंचमी के बाद नैनीताल का भ्रमण।
    अकारण नही जी! हमारा तो हाईकोर्ट भी यहीं है।
    आज कोर्ट की तारीख भी हो जाएगी और नैनीताल की सैर भी।
    --
    चर्चा में आज बहुत शानदार और जानदार लिंक दिये हैं आपने पढ़ने को। आभार!

    ReplyDelete
  3. आपने पुरातत्‍व सर्वेक्षण को यहां चर्चा में शामिल किया, धन्‍यवाद.

    ReplyDelete
  4. सुंदर लिनक्स संकलित किये ...अच्छी चर्चा....

    ReplyDelete
  5. सब तरह की जानकारी देती चर्चा बहुत अच्छी लगी
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  6. charcha march par intne sare aur achchhe achchhe links dene ke liye apake kiye gaye parishram ke liye dhanyavad. ham apake kiye gaye isa blog utkhanana ka labh utha rahe hain aur usase nikali cream kha rahe hain.
    gandhi jee ko yaad men prastuti lene ke liye dhanyavad ! vaise lagata hai ki ab gandhi jee ko yaad karne ke liye kisi ko phursat hi nahin hai.

    ReplyDelete
  7. Atul ji behad sundar chrchayen....mere shbdo ko sthan dene ke liye bahut bahut dhanywaad..

    ReplyDelete
  8. बढ़िया चर्चा... कई लिंक्स अच्छे लगे.

    ReplyDelete
  9. आभार!
    चर्चा हमेशा की तरह सुन्दर है...

    ReplyDelete
  10. अच्छे लिंक्स,मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करनें के लिये धन्यवाद अतुल जी .

    ReplyDelete
  11. सब ही लिंक्स बहुत अच्छे है ,मेरी रचना को भी स्थान देने के लिए शुक्रिया .......

    ReplyDelete
  12. बासन्तिक गीत को चर्चामें लेने के लिये धन्यवाद.....

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर लिंक संयोजन्।

    ReplyDelete
  14. शुक्रिया...बढ़िया लिंक्स संयोजन

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्‍दर लिंक्‍स का चयन किया है आपने आभार ।

    ReplyDelete
  16. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  17. बहुत शानदार लिंक ||

    आभार ।|

    ReplyDelete
  18. Nice .

    http://vedquran.blogspot.com/2012/01/mohammad-in-ved-upanishad-quran-hadees.html

    ReplyDelete
  19. बहुत ही बेहतरीन लगी आज की प्रस्तुति,

    एक सुझाव,पोस्ट शीर्षक के साथ रचना कारों का नाम भी लिखे,
    अतुल जी,मेरी रचना सामिल करने के लिए बहुत२

    welcome to new post --काव्यान्जलि--हमको भी तडपाओगे....

    ReplyDelete
  20. सुसज्जित चर्चा ..मेरे लिंक को शामिल करने के लिए धन्यवाद....
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  21. bahut badiya links se saji charcha prastuti hetu aabhar!

    ReplyDelete
  22. उम्दा लिंक्स से सजी सुन्दर चर्चा...
    मेर नई रचना जरुर देखें |

    ReplyDelete
  23. अविनाश वाचस्पति जी को ऐसे गुण्डों से बच कर रहना चाहिए:) अच्छी चर्चा।

    ReplyDelete
  24. सुलझी हुई चर्चा.....बढ़िया लिंक्स.

    ReplyDelete
  25. बेहतरीन लिंक्स,
    प्रभावी चर्चा मंच ...

    ReplyDelete
  26. उत्कृष्ट चर्चा...अलग अंदाज़ में

    नीरज

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"लाचार हुआ सारा समाज" (चर्चा अंक-2820)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...