Followers

Thursday, January 05, 2012

उड़ान नए ब्लॉगर की ( चर्चा मंच - 749 )

     आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
शुरुआत में आपके सामने प्रस्तुत हैं दो नए ब्लॉग, जिनमें एक ब्लॉग गंभीर विषयों से सम्बन्धित है तो दूसरा ब्लॉग एक दस वर्षीय बालक का है जो अपने आड़े-तिरछे चित्र और अधपके विचार आपके सामने रखकर सीखने की तमन्ना रखता है. इन  तक पहुँचिए और अपने कीमती सुझावों से इन्हें लाभान्वित कीजिए. ये ब्लॉग हैं 
                         1 .  बेसुरम्  
                         2 .  उड़ान 
           आज की चर्चा 
गद्य रचनाएं
पद्य रचनाएं 
बाल रचनाएं 

आज के लिए इतना ही 
धन्यवाद 

* * * * *

    27 comments:

    1. अच्छी और सटीक चर्चा |
      आशा

      ReplyDelete
    2. जादा व्यस्तता के कारण आजकल मै यहाँ नहीं आ पा रहा था , लग रहा था जैसे कुछ छूट रहा है , अब मै हाजिर हूँ पूर्णतः दिमागी खुराक लेने को , :) ,

      बहुत सुन्दर चर्चा ,

      आभार

      ReplyDelete
    3. सुसज्जित चर्चा...बढिया लिंक्स,आभार!

      ReplyDelete
    4. सुन्दर चर्चा ||

      ReplyDelete
    5. बेहतरीन लिंक्‍स संयोजन ...आभार ।

      ReplyDelete
    6. सुंदर चर्चा।
      बेहतर लिंक्‍स।

      ReplyDelete
    7. हमारी हिंदी प्रेम का महत्व बताती पोस्ट का लिंक साँझा करने हेतु आपका धन्यवाद.

      ReplyDelete
    8. एक बार फिर दिल जीत लिया ..बेहतरीन चर्चा ..
      ऋतू बंसल
      kalamdaan.blogspot.com

      ReplyDelete
    9. सुन्दर चर्चा हेतु आपका धन्यवाद, विर्क जी !

      ReplyDelete
    10. बढिया सुसज्जित चर्चा हेतु आभार!

      ReplyDelete
    11. क्या कहने, अच्छी चर्चा
      मुझे भी स्थान देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया

      ReplyDelete
    12. Nice post.

      भारतीय संस्कृति की तरह ही विश्व संस्कृति भी बड़ी अद्भुत है।
      http://mypoeticresponse.blogspot.com/2012/01/blog-post.html

      ReplyDelete
    13. आज की प्रस्तुति बहुत अच्छी लगी,

      WELCOME to new post--जिन्दगीं--

      ReplyDelete
    14. Beautiful Charcha with great links-thanks Dilbag ji.

      ReplyDelete
    15. बहुत बढ़ि‍या लिंक्‍स दि‍या है आपने और मुझे शामि‍ल करने का धन्‍यवाद।

      ReplyDelete
    16. बहुत बढ़ि‍या लिंक्‍स दि‍या है आपने और मुझे शामि‍ल करने का धन्‍यवाद।

      ReplyDelete
    17. बढ़ि‍या लिंक्‍स,अच्छी प्रस्तुति.

      ReplyDelete
    18. आप के परिश्रम की सराहना करता हूँ.

      आभारी हूँ विर्क जी.

      ReplyDelete
    19. meree kavit haaath ki lakeeren ko charchaa me shamil karne ke liye abhar:)

      ReplyDelete

    "चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

    केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

    विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

    जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...