चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Saturday, January 07, 2012

स्वाभिमान से समझौता नहीं करना जनरल ....(चर्चा-मंच 751)

पूरे एक साल बाद मैं चर्चा मंच सजाने जा रहा हूं। पिछली बार 2011 में सजाया था, साल के आखिरी दिन और अब आज यानि 7 जनवरी को। पूरा दिन व्‍यस्‍तता में बीता इसलिए ज्‍यादा पढ नहीं पाया और यूं कहूं कि आज की चर्चा जल्‍दबाजी में सजाई है मैंने। आप मजा लीजिए चर्चा का क्‍योंकि केवल राम जी कह रहे हैं हँसते - हँसते ...............
मैं अतुल श्रीवास्तव अपनी ओर से और पूरे चर्चा मंच परिवार की ओर से हार्दिक बधाई  दे ही रहा हूँ! आप भी बधाई देना मत भूल जाना! "विनीत संग पल्लवी-सत्यकथा" डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" के पुत्र ने प्रेम विवाह किया है!
 
तो कहीं आप सो न जाना...... क्‍योंकि भूमिका राय कह रही हैं इंसान बने रहना है तो जागते रहो 
 अरे.... ये क्‍या हो गया, बदमाश मनुष्‍य ही नहीं, पेड भी होते हैं 
 कर लीजिए चित्रकूट की सैर....ले जा रहे हैं ललित शर्मा नव वर्ष की वेला पर बाहें फ़ैलाए यामिनी  
 स्थिति बडी शर्मनाक और विकट है पर............  स्वाभिमान से समझौता नहीं करना जनरल ....
 आप चाय पीएंगे......???? पी ही लीजिए क्‍योंकि पिला रही हैं डॉ नूतन गैरोला जी
ये भी जान लीजिए कि जन्‍म समय क्‍या होता है?
नये वर्ष पर आपने लिया है कोई संकल्‍प या फिर है नया विश्‍वास  
 मुहब्‍बत होता ही ऐसा है भटक जाने को जी चाहे 
 सर्दी का मौसम क्‍या कुछ नहीं दे जाता हमको..... भाएगा तब ये संसार 
 निकल चलिए अनंत यात्रा  पर  बस यूं ही
करते रहिए खोज
जीवन में खुशी आ जाए जो  
न हो कभी आस का रीता दामन  
आईनें कभी झूठ नहीं बोलते पर मैं इन्हें छुपा लूंगा….
कौन बांटना चाहता है चांद
किसी को गर जानना है तो रफ्ता रफ्ता खुदकुशी का मजा हमसे पूछिए
जान लीजिए इनकी भूली बिसरी यादें : 1984 की
आखिर में साल 2012 सबके लिए शुभ हो..... शुभकामनाएं स्‍वीकार करें



28 comments:

  1. स्वाभिमान से समझौता नहीं करना चाहिए पर यह सोच कल्पना में ही होता रहा है कितने लोग हैं जो इस पर अमल कर पाते हैं |
    अच्छी चर्चा और लिंक्स |बधाई अतुल जी चर्चा सजाने के लिए |
    आशा

    ReplyDelete
  2. बहुत-बहुत आभार अतुल श्रीवास्व जी!
    आपने बहुत अच्छे लिंक आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत किये हैं!

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छे लिंक्स उपलब्ध कराया आपने ..

    ReplyDelete
  4. अतुल जी
    धन्यवाद .हमें शामिल करने के लिए शुक्रिया .इस बार हमें चर्चा मंच की सभी पोस्ट बहुत पसंद आई ...........साथ ही आपके प्रस्तुति का अंदाज भी लाजबाब ..लुभाता हुआ खास ........बधाई .

    ReplyDelete
  5. "विनीत संग पल्लवी-सत्यकथा" डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" के पुत्र ने प्रेम विवाह किया है!

    Mubarak ho .

    ReplyDelete
  6. बधाई ||
    शुभकामनाएं ||

    ReplyDelete
  7. बेहतर लिंक्स संकलन ......हँसते - हँसते

    विनीत संग पल्लवी-सत्यकथा"
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. नव वर्ष का अभिनन्दन स्वीकार करें..
    चर्चा मंच की छटा निखार रहीं है सभी चर्चाएँ..
    मेरी कविता 'खोज'को शामिल करने के लिए आभार..
    ऋतू बंसल
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. अच्छी चर्चा सुन्दर लिंक्स संयोजन... बधाई अतुल जी

    ReplyDelete
  10. अच्छी चर्चा।
    मुझे भी शामिल करने के लिए आपका बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर लिंक संयोजन्। नव युगल को हार्दिक बधाई और शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  12. bahut badiya links sanyojan ke saath charcha prastuti heti aabhar!

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर लिंक्स संयोजन...

    ReplyDelete
  14. बढ़िया संकलन... सुन्दर चर्चा...
    सादर आभार...

    ReplyDelete
  15. अतुल जी, केवल जी, अति सुन्दर माला पिरोई है आपने.

    ReplyDelete
  16. Atul ji ..bahut sundar charcha saji hai... aur sundar links uplabdh karvane ke liye dhanyvaad .. mujhe bhi shamil kiya aapka aabhaar ..

    ReplyDelete
  17. बढ़िया संकलन... सुन्दर चर्चा...

    ReplyDelete
  18. भई वाह ! रंग बिरंगी चर्चा पढ़कर आनंद आ गया ।

    ReplyDelete
  19. सुन्दरता से सँजोये सूत्र

    ReplyDelete
  20. बहुत अच्छे लिंक ........बहुत-बहुत आभार !

    ReplyDelete
  21. आभार आप सबका, चर्चा को पसंद करने के लिए।

    ReplyDelete
  22. अतुल जी क्षमा चाहूंगी दो दिनों से नेट की कठिनाई के कारण मै नहीं आ सकी .....अभी बस एक सूचना छोड़ रही मंच पर सारे लिंक्स देखी पर किसी पर टिपण्णी नहीं छोड़ पाई हूँ....

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin