चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, January 23, 2012

जो खो गया वो ख़ाब था (सोमवारीय चर्चामंच-767)

दोस्तों चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ द्वारा चर्चामंच पर पेशे-ख़िदमत है आज की चर्चा का-
 लिंक नं. 1- 
साँसों के जिंदा होने का सुकून बहुत बड़ा होता है
यूँ जीना तो बस एक मुहर है -रश्मि प्रभा
_______________
2-
मेरी कल्पनाएं...ज़िन्दगी एक खोज -सुरेश कुमार
जीवनसंगीनी
_______________
3-
मेरा फोटो
_______________
4-
मेरा फोटो
_______________
5-
रितू जी के लिए 'पापा की कलम से' आशीर्वाद के दो शब्द
_______________
6-
मौसमे-चुनाव -दिलबाग विर्क
बेसुरम्‌
_______________
7-
सोने की चम्मच से खाने वाले -डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’
उच्चारण
_______________
8-
संतरा है सुरक्षा-कवच -कुमार राधारमण
_______________
9-
मेरा फोटो
_______________
10-
ढाई बाई चार फुट की चौकी -देवेन्द्र पाण्डेय 'बेचैन आत्मा' की
मेरा फोटो
_______________
11-
माटी भी मोक्ष पा जाती है...!! -अनुपमा त्रिपाठी
My Photo
_______________
12-
प्रेरक प्रसंग–20 : चप्पल की मरम्मत -मनोज कुमार
DSCN1502
_______________
13-
रास रितु का
_______________
14-
मेरा फोटो
_______________
15-
पांचाली 23&24 -प्रतिभा सक्सेना
मेरा फोटो
_______________
16-
_______________
17-
_______________
18-
_______________
19-
_______________
20-
_______________
21-
हे देव... -सत्यम शिवम
_______________
22-
_______________
23-
________________
24-
पराशर झील -नीरज जाट

________________
25-
बचपन की बात -रजनीश तिवारी

________________
26-
बात शब्द संयोजन की -Dr.J.P.Tiwari
My Photo
________________
27-
अन्तर्मुखी होना... -Human
My Photo
________________
28-
गीत अंतरात्मा के...ऐ जिंदगी! -अवन्ती सिंह
My Photo
________________
29-
अपनों का साथ...शब्द और लिखना अब ये ही जीवन हैं -अन्जू चौधरी
________________
30-
"विद्यालय में मुझको भी जाना है" 

-------------
और अन्त में
31-
मेरी एक पुरानी रचना-
ग़ाफ़िल की अमानत
________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

27 comments:

  1. sabhi link shaandaar

    sundar charcha...sarthak charcha...

    ReplyDelete
  2. गाफिल जी, बहुत सुंदर चर्चा सजाई है।

    ReplyDelete
  3. उम्दा चर्चा .... अच्छे लिनक्स मिले....

    ReplyDelete
  4. अच्छी चर्चा कई लिंक्स |
    आशा

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर चर्चा ||

    ReplyDelete
  6. अच्छे लिंक्स के साथ अच्छी परिचर्चा.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर चर्चा सजाई है।। कई उम्दा कड़ियों का समायोजन लग रहा है, दिन भर पढ़ा जायेगा। आशा है हमेशा की तरह सभी रचनाएँ बेहतरीन होंगी ।

    मेरी रचना को शामिल करने के लिए तहे दिल से धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  8. धन्यवाद गाफिल जी आपने मेरी प्रस्तुति को आज के चर्चामंच में स्थान दिया ! बहुत अच्छे लिंक्स हैं दिन भर के लिये भरपूर सामग्री जुटा दी आपने ! आभार !

    ReplyDelete
  9. अनेकानेक धन्यवाद ...माला के मोती सुन्दर ही नहीं ज्ञानवर्धक भी हैं...
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  10. Nice.
    अल-रिसाला हिंदी
    शांति और रूहानियत की उपलब्धि के लिए
    http://hbfint.blogspot.com/2012/01/27-frequently-asked-questions.html

    ReplyDelete
  11. पूरी चर्चा में चार चाँद आठ सितारे जड़ दिए आपने .

    ReplyDelete
  12. बढिया चर्चा।
    बेहतर लिंक्‍स संयोजन।

    ReplyDelete
  13. अत्यन्त पठनीय सूत्र..

    ReplyDelete
  14. साज सज्जायुक्त अनूठी प्रेरणा प्रदान करती चिट्ठा-चर्चा!!

    निरामिष ब्लॉग पर प्रस्तुत मेरे आलेख को स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार!!

    ReplyDelete
  15. सुन्दर लिंक्स से सुसज्जित रुचिकर चर्चा।

    ReplyDelete
  16. अच्छे लिंकों से सुसज्जित स्तरीय चर्चा।
    आभार!

    ReplyDelete
  17. शास्त्री जी ..बहुत सुन्दर संयोग ! लाजबाब , गागर में सागर !

    ReplyDelete
  18. सुव्यवस्थित चर्चा.

    ReplyDelete
  19. बढ़िया लिंक्स-कई दिन पढ़ने का मसाला मिल गया - श्रेय आपके श्रम और चुनाव को .
    'पांचाली' को सम्मिलित करने हेतु आभार !

    ReplyDelete
  20. vistrit sarthak charcha ...mujhe sthan diya ...abhar..!!

    ReplyDelete
  21. बेहतरीन मंच प्रस्तुति,..मानक स्तरीय लिंक्स....
    गाफिल जी...बधाई
    new post...वाह रे मंहगाई...

    ReplyDelete
  22. चर्चा का अंदाज़ पसंद आया। शालीन और सार्थक चर्चा।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin