साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Sunday, January 08, 2012

चर्चा मंच ७५२ :मेरे बचपन का दोस्त

फ़ुरसत में चर्चा शुरू करने से पहले सबको सादर प्रणाम , वैसे आज चर्चा शुरू करने से पहले मैंने  ज्योतिषाचार्य दवे जी की  मुफ्त सलाह ली थी  उन्होंने बड़े स्नेह  से रफ़्तार   के साथ कृष्ण की व्यथा की एक करुण कहानी बतायी. साथ ही बताया की  मेरे बचपन का दोस्त..  लोकपाल बन के  .कमीशनखोरी  कर रहा है . 



आज के लिए उतना ही , 

सादर कमल 





14 comments:

  1. वाह!
    आज की चर्चा में चमत्कार!
    शब्दों मे्ं लिंकों की भरमार!!
    कमलसिंह जी आपका आभार!!!

    ReplyDelete
  2. थोडे से शब्दों में काफी लिंक पिरो दिए हैं
    सुंदर चर्चा

    ReplyDelete
  3. गागर में सागर ||

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन तरीके से सजाया चर्चा मंच।
    मेरी पोस्‍ट ''स्‍कूल के माथे कलंक का टीका'' को शामिल करने के लिए आभार.......

    ReplyDelete
  5. छोटी सही पर कमाल की चर्चा ..सभी लिनक्स पर अवश्य जाऊंगी..
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. Nice .

    http://commentsgarden.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. thank so much for sharing my ghajal in ;charcha manch 'i really like all these links which have shown to us !

    ReplyDelete
  8. खूबसूरती से पिरोया है, एक अटूट बंधन सा प्रतीत होता है

    ReplyDelete
  9. प्रतिस्पर्धा का है बाजार,
    चर्चामंच में लाना होगा सुधार
    कुछ नया करने की कोशिश कीजिये
    वरना......?-गिरने लगेगा बाजार

    ReplyDelete
  10. u to mera wasta sabdo ki jaadugari se nahi hain...dil se dhnyawaad kamal bhai ko....sabhi bade bhai log ko mera namaskaar.....

    Anshuman Verma

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...