साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Saturday, July 04, 2015

"सङ्गीतसाहित्यकलाविहीना : साक्षात्पशुः पुच्छविषाणहीना : " (चर्चा अंक- 2026)

मित्रों।
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--

वैदेही सोच रही मन में 

वैदेही सोच रही मन में यदि प्रभु यहाँ मेरे होते !! 
वैदेही सोच रही मन में यदि प्रभु यहाँ मेरे होते... 
भारतीय नारी पर shikha kaushik
--

निशा निमंत्रण के निनाद से 

हर सूरज के शंखनाद तक 

रणभेरी के राग बहुत हैं युद्धभूमि में खड़े हुए 
यह तो बतलाओ कौन कहाँ है ?... 
Shabd Setu पर RAJIV CHATURVEDI 
--
--
--
--
--

दोहे "अपना देश महान"

मर्यादा से हो सजा, जीवन का परिवेश।
रामचरितमानस हमें, देती है सन्देश।१।
--
दोहे सन्तकबीर ने, लिक्खे कई हजार।
दिया बिहारी लाल ने, दोहों का उपहार...
--

हाईकू 

गलत क्या 
नहीं ज्ञान सच का 
आज के लोग |

ठठरी सजी 
अश्रु न थम सके 
सर धुनते... 
Akanksha पर Asha Saxena 
--
--

थोड़ी सी जमीन 

*माँ अब खड़ी है जीवन के* 
*अंतिम पड़ाव पर* 
*नहीं चाहिये उसे कोई एशोआराम* 
*बस एक आत्मीय सम्बोधन* 
*सुबह-शाम .. 
Yeh Mera Jahaan पर गिरिजा कुलश्रेष्ठ 
--

जीवन 

Kailash Sharma 
--
--
--

मेरे अंदर के अनाथ प्यार ने 

मैंने सोची थी बात फूलों की , 
बहारों की, सितारों की, नज़ारों की 
चाहा था किसी के आँखों में बन के ख़्वाब 
मैं टिमटिमाती रहूँ 
कोई दिल हो 
जहाँ बस मैं धड़कू... 
Lekhika 'Pari M Shlok' 
--
--

हम टीका नहीं लगाते 

JHAROKHA पर पूनम श्रीवास्तव 
--
--
--
--
--

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"साँसों पर विश्वास न करना" (चर्चा अंक-2855)

मित्रों! मेरा स्वास्थ्य आजकल खराब है इसलिए अपनी सुविधानुसार ही  यदा कदा लिंक लगाऊँगा। रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  द...