साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Tuesday, October 04, 2016

वन्दना "अपना शीश नवाता हूँ" चर्चा मंच ; 2484


वन्दना 

"अपना शीश नवाता हूँ" 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

वह मां है तेरी 

Asha Saxena 

गीतिका 

कालीपद "प्रसाद" 

तेरी बातें तेरी ख़ुशबू हैं .. 

नादिर खान 

yashoda Agrawal 

कालकाजी एवं इस्कान मंदिर दिल्ली 

Manu Tyagi 

ब्रह्म की आशिकी... 

डॉ. कौशलेन्द्रम 

हिन्दी का अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य 

(रूस के सन्दर्भ में ) :   

ल्युदमीला ख़ख़लोवा 

PAWAN VIJAY 

अधूरी सी रह गयी हूँ....! 

Sushma Verma 

आलू का कारखाना 

पहला कहाँ लगेगा भैया 

रायबरेली ,अमेठी या सुल्तानपुर ? 

Virendra Kumar Sharma 

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर रंग-बिरंगी चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय रविकर जी।

    ReplyDelete
  2. हमेशा की तरह लाजवाब रविकर चर्चा।

    ReplyDelete
  3. लाजवाब! http://hindivandana.com/end-of-pakistan-terror/

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

(चर्चा अंक-2853)

मित्रों! मेरा स्वास्थ्य आजकल खराब है इसलिए अपनी सुविधानुसार ही  यदा कदा लिंक लगाऊँगा। शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  ...