चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, October 26, 2016

पिता मुलायम हाथ से, आज खुजाता माथ- चर्चा मंच 2507


कुछ अच्छा ही होगा कल,.. 

Priti Surana 

इसलिए कीजिए चीनी सामान का बहिष्कार 

lokendra singh 

गागर में सागर पुस्तक मेले का शुभ समापन –  

डा रंगनाथ मिश्र को मेला संयोजक 

श्री देवराज अरोरा ने अपना गुरु घोषित किया-  

डा श्याम गुप्त

माया महा ठगनी हम जानी।। 

Virendra Kumar Sharma 

"प्राचीन स्वास्थ्य दोहावली"-2 

yashoda Agrawal 

गाँव नहीं रहा अब गाँव जैसा...3 

केवल राम 

दोहे  

"नहीं जेब में दाम" 

(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

Image result for दिवाली पर सजे बाजार
मनमोहक सबको लगें, झालर-बन्दनवार।
जगमग करती रौशनी, सजे हुए बाजार।।

मन सबका ललचा रहे, काजू औ’ बादाम।
लेकिन श्रमिक-किसान की, नहीं जेब में दाम।।

5 comments:

  1. बहुत सुन्दर सतरंगी चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय रविकर जी।

    ReplyDelete
  2. शुभप्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रस्तुति रविकर जी ।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin