Followers

Thursday, November 22, 2018

चर्चा - 3163

13 comments:

  1. बेहद सुंदर रचनाओं से सजा गुलदस्ता तैयार है आज के अंक में,मेरी रचनाओं को स्थान देने के लिए हृदयतल से आभारी हूँ आदरणीय।
    सादर।

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन लिंक्स, पठनीय सुंदर रचनाएँ ! चर्चामंच की खूबसूरत प्रस्तुति में अपनी रचना देखना अच्छा लगता है। सादर धन्यवाद आदरणीय !

    ReplyDelete
  3. अत्यंत सुन्दर एवं विविध रंग के सूत्रों का गुलदस्ता आज के मंच पर ! मेरी रचना को भी आज की चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार दिलबाग जी !

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन चर्चा मंच की प्रस्तुति 👌

    ReplyDelete
  5. सार्थक लिंकों के साथ बढ़िया चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  6. सुन्दर गुरुवारीय गुलदस्ते में 'उलूक' के सिम सिम को भी जगह देने के लिये आभार दिलबाग जी।

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन लिंक्स.....दिलबाग जी
    आज की चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आपका.....आभार !!

    ReplyDelete
  8. विविधरंगी रचनाओं के सूत्र देता आज का चर्चा मंच, आभार !

    ReplyDelete
  9. दिल बाग-बाग हो गया
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर लिंकों से सजी चर्चा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  11. veerusa.blogspot.com
    veerujan.blogspot.com

    प्यार के बादल से वफ़ा का पानी तो बरसाओ
    देखना, दिल की ज़मीं होती कभी बंजर नहीं।
    बढ़िया अशआर कहा है :
    बीज का है काम बन के ख़ाक ,गुल होना यहां

    ReplyDelete
  12. झूठ के प्रभाव से, सत्य है डरा हुआ,
    बेबसी के भाव से, आदमी मरा हुआ,
    राम के ही देश में, राम बेकरार है।
    तन-बदन में आज तो, बुखार ही बुखार है।।
    सशक्त रचना है शास्त्री जी की।


    veerusa.blogspot.com
    veerujan.blogspot.com


    राम तो मरा नहीं है आदमी मरा हुआ ,
    सत्य को नकारने पे इस कदर अड़ा हुआ ,
    चोर -चोर खुद ही करे चोर बे-दयार है।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति , आपको धन्यवाद।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"ज्ञान न कोई दान" (चर्चा अंक-3190)

मित्रों!  बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।   देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') -- दोहे   &q...