Followers

Wednesday, September 05, 2012

उभय पक्ष जब मस्त, भला कक्षा क्यूँ होगी : चर्चा मंच-993


सर्वपल्ली राधाकृष्णन  
अध्यापक का सबसे ज्यादा भारत में सम्मान है।
गोविन्द तक पहुँचाने वाला गुरू प्रथम सोपान है।।

गुरू ज्ञान का शक्ति पुंज है,
गुरू ही करुणा का निधान है,
विद्याओं का यह निकुंज है,
सबल राष्ट्र का महाप्राण है,
कंचन सा कर देने वाला गुरू पारस पाषाण है। 
गोविन्द तक पहुँचाने वाला गुरू प्रथम सोपान है।।
(1) 
दान दून दे दनादन, दमके दिल्ली राज-

रविकर फैजाबादी 
प्रश्न-काल को टाल दें, रविकर गुरु-घंटाल |
रट्टू तोते भी फंसे, पिंजरा अंतरजाल |
पिंजरा अंतरजाल, सतत सर्फिंग उपयोगी |
उभय पक्ष जब मस्त, भला कक्षा क्यूँ होगी ?
इंटरनेट पर चैट, तेज कर भेड़-चाल को  |
  जश्न-काल अल-मस्त, ख़तम कर प्रश्न-काल को  ||

2

अरुण कुमार निगम (हिंदी कवितायेँ)

शिक्षक दिवस पर विचारणीय.........

सम्बोधन !!!!!

क्या यह यूरोप का शहर है दोस्तों  ?
हर शाला में मैडमऔर सरहै दोस्तों
गुरुजीका सम्बोधन कब, क्यों खो गया
खो जाये ना संस्कृति डर है दोस्तों.

गुरुमें श्रद्धा थी , आदर- सम्मान था
गुरु थे आगे फिर पीछे भगवान था
सरका सम्बोधन बेअसर है दोस्तों.....


4-अ 

लो क सं घ र्ष !

लम्पट ब्लॉगर

अन्तर्रष्ट्रीय ब्लॉगर सम्मलेन में लोकसंघर्ष पत्रिका तथा प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ का सहयोग था। ...... सम्मलेन में उत्तर प्रदेश के साहित्य जगत के चर्चित रचनाकार डॉ सुभाष राय , शैलेन्द्र सागर, उद्भ्रांत, रंगकर्मी राकेश, आलोचक वीरेन्द्र  यादव,   मुद्राराक्षस, कथाकार शिवमूर्ती जैसी विभूतियाँ शामिल हुईं। ब्लॉग जगत के पाबला साहब, रवि रतलामी, डॉ अरविन्द मिश्र, शिवम् मिश्र, दिनेश गुप्त रविकर, अविनाश वाचस्पति, शिखा वार्ष्णेय, आकर्षक व्यक्तित्व के स्वामी मास्टर हरीश अरोड़ा , संतोष , पवन चन्दन, रूप चन्द्र शास्त्री 'मयंक', पूर्णिमा वर्मा, विजय माथुर, यशवंत माथुर, धीरेन्द्र भदौरिया, अलका सैनी, अलका सरवत मिश्र, कुंवर बेचैन, मनोज पाण्डेय सहित सैकड़ों चिट्ठाकार शामिल हुए। सभी चिट्ठकारों क नाम अगर लिखूंगा तो बात अधूरी रह जाएगी। 
              कार्यक्रम की सफलता काजल कुमार का यह कार्टून है जिसके लिए वह बधाई के पात्र हैं। 
हमारे लिए हर ब्लॉगर सम्मानीय है, साहित्यकार है, रचनाधर्मी है, सृजनकर्ता  है सभी सृजनकर्ताओं को मेरा सलाम।

  4-ब

दरिया होने का दम भरते तो है सनम, लेकिन डूबेगे अंजुरी भर पानी मे

DR. PAWAN K. MISHRA 
*पूर्वकथन्:मै यह पोस्ट नही लिखना चाहता था पर मन मार कर जबरदस्ती लिख रहा हू केवल अपना पक्ष रखने के लिये. और लोगो के भ्रम समाप्ति के पश्चात इसे डिलीट कर दूंगा.* @क्षद्म आलोचना को अपनी अभिव्यक्ति का धार बनाने वाले एक प्रबुद्ध साहित्यकार हैं* *डॉ रूप चंद शास्त्री मयंकजो आधारहीन बातें करके सुर्खियां बटोर रहे हैं आजकल । आगत अतिथियों का स्वागत करके आयोजकों के फोटो को दिखाकर यह साबित करना चाह रहे हैं कि आयोजक गण सम्मानित हो रहे हैं । वहीं कानपुर के डॉ पवन कुमार मिश्र ने तो मुझपर गंभीर आरोप ही लगा दिया कि मैंने पैसे लेकर सम्मान दिया है । और भी कई तथ्यहीन आरोप हैं, उपरोक्त दोनों पोस्ट का


6

आलोचनाओं का बाज़ार गर्म है 

ZEAL...

हर तरफ गहमा-गहमी है ! जिसे देखो वही आलोचनाओं में व्यस्त है ! एक छोटे से सम्मलेन ने ब्लॉगर्स के दिमाग को आच्छादित कर विचार-शून्य बना दिया है ! ऐसा प्रतीत होता है मानो दुनिया के सारे व्यापार ही ठप हो गए हों ! कबसे इंतज़ार में हूँ की ये आलोचनाओं का दौर ख़त्म हो जाए और कुछ पढने-...



गुजरात काँग्रेस विरोध पक्ष के नेता "शक्तिसिंह गोहील"  काँग्रेस के नेता को अमेरिका मे चप्पल खाना पड़ा जी हाँ ! गुजरात काँग्रेस के नेता और विधानसभा के विरोध पक्ष के शक्तिशाली नेता " शक्ति सिंह गोहील " को अमेरिका के न्यूजर्सी मे विश्व गुजराती समेलनमे







14

मै हूँ ना

आशा जोगळेकर 






वोटर को मत सताईये, जाकी मोटी हाय । एक बटन के छुअन से सीट भस्म हो जाये।। mango man (आम आदमी ) in bhopal

Bhagat Singh Panthi / bhagat bhopal

  धिक्कार !!!!

शाबाश ऋचा :इसे कहते हैं ब्लॉग का सही इस्तेमाल

शालिनी कौशिक
भारतीय नारी  
  एक आदमी ने मेरे टॉप को नीचे खींच दिया और एक हाथ पीछे मेरी कमर पर था। मेरे साथ मेट्रो में सफर कर रहे लोग हंस रहे थे।' यह किसी फिल्म या कहानी का डायलॉग नहीं है। यह एक लड़की की आपबीती है। वाकया रविवार शाम देश की राजधानी दिल्ली की सबसे सेफ और आसान पब्लिक ट्रांसपोर्ट मानी जाने वाली मेट्रो में हुआ। रिचा (बदला नाम) जब अपनी एक दोस्त के साथ शाम साढ़े सात बजे राजीव चौक मेट्रो स्टेशन से ब्लू लाइन की मेट्रो में चढ़ी तो महिला कोच..

20 comments:

  1. शुभप्रभात .... :)
    बहुत-बहुत शुक्रिया!
    आभार !
    इस पोस्ट पर पहले भी कई बार कोशिश की थी लेकिन कमेन्ट हो ही नहीं पाते थे !
    नेट से शिकायत रही :)

    ReplyDelete
  2. धिक्कार !!!!
    शाबाश ऋचा :इसे कहते हैं ब्लॉग का सही इस्तेमाल
    शालिनी कौशिक
    भारतीय नारी

    पुत्री माँ बहन को
    बचाने कौन आयेगा
    जब देश का ही
    चीर हरण शुरू हो जायेगा
    कृष्ण था कभी कहीं
    कोई नहीं समझा पायेगा !

    ReplyDelete
  3. वोटर को मत सताईये, जाकी मोटी हाय । एक बटन के छुअन से सीट भस्म हो जाये।। mango man


    बहुत सुंदर !
    भोपाल ही नहीं ये पूरे देश में हो रहा है
    संसद मौन है आदमी सड़क पर रो रहा है !

    ReplyDelete
  4. 18
    तुम जो मुस्करा दो,
    dheerendra
    काव्यान्जलि ...

    मुस्कुराना वाकई गजब ढा गया :

    बरसों से वो हमारे सामने
    मुस्कुराये तो जा रही हैं
    आता कुछ नहीं देखा मैने
    बहुत चीजें चली जा रही हैं !

    ReplyDelete
  5. 17
    राम-रहीम
    Rahul Singh
    सिंहावलोकन

    वाह !

    नेता जी को पता लगने दीजिये
    लेख पर बैन लगा दिया जायेगा
    मिलावट धर्मो की एक जगह की है
    कह के अंदर कर दिया जायेगा !

    ReplyDelete
  6. 16
    ग़ज़ल
    Madan Mohan Saxena
    ग़ज़ल गंगा

    बहुत सुंदर !

    दर्द मिल गया चलो
    वो भी खुद के दिल में
    पैसे बच गये आपके
    नहीं गये होटल के बिल में !

    ReplyDelete
  7. 15
    गुरु तेरी महिमा अनाम ..
    udaya veer singh
    उन्नयन (UNNAYANA)

    बहुत सुंदर सी पंक्तिया
    गुरु की तस्वीर बना रही हैं
    शीशा दिख रहा है
    उसके अंदर छवि भी
    नजर आ रही है !

    ReplyDelete
  8. 14
    मै हूँ ना
    आशा जोगळेकर
    स्व प्न रं जि ता

    बहुत खूबसूरत पंक्तियां :

    किरण एक होती है काफी
    बेड़ा हो जाता है पार
    अगर समझ में है आ जाती !

    ReplyDelete

  9. 13
    भारत परिक्रमा- सातवां दिन- आन्ध्र प्रदेश व तमिलनाडु
    नीरज जाट
    मुसाफिर हूँ यारों
    बहुत सुंदर !
    नीरज जी देखो कहाँ कहाँ जा रहे हैं
    घर बैठे बैठे हमे देश घुमा रहे हैं!

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया सामयिक चर्चा प्रस्तुति के लिए आभार!

    ReplyDelete

  11. Mail Delivery Subsystem mailer-daemon@google.com
    4:38 PM (13 hours ago)

    to 3exJGUAYJB0Afe.
    Delivery to the following recipient failed permanently:

    veer.ji@live.com

    Technical details of permanent failure:
    Google tried to deliver your message, but it was rejected by the recipient domain. We recommend contacting the other email provider for further information about the cause of this error. The error that the other server returned was: 550 550 Requested action not taken: mailbox unavailable (state 13).

    ----- Original message -----

    MIME-Version: 1.0
    Received: by 10.66.85.37 with SMTP id e5mr3219899paz.31.1346769531723; Tue, 04
    Sep 2012 07:38:51 -0700 (PDT)
    X-BloggerMail: d310bf0174961eaa784759655cf2f5172f9eb2b6
    Message-ID:
    Date: Tue, 04 Sep 2012 14:38:51 +0000
    Subject: =?UTF-8?B?W+CkieCkqOCljeCkqOCkr+CkqCAoVU5OQVlBTkEpXSDgpJfgpYHgpLDgpYEg4KSk4KWH?=
    =?UTF-8?B?4KSw4KWAIOCkruCkueCkv+CkruCkviDgpIXgpKjgpL7gpK4gLi4g4KSq4KSwIOCkqOCkiCDgpJ/gpL8=?=
    =?UTF-8?B?4KSq4KWN4KSq4KSj4KWALg==?=
    From: =?UTF-8?B?4KSw4KS14KS/4KSV4KSwIOCkq+CliOCknOCkvuCkrOCkvuCkpuClgA==?=
    To: veer.ji@live.com
    Content-Type: multipart/alternative; boundary=f46d042f9f488862ba04c8e13700

    रविकर फैजाबादी ने आपकी पोस्ट " गुरु तेरी महिमा अनाम .. " पर एक टिप्पणी
    छोड़ी है:

    उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के चर्चा मंच पर ।।



    रविकर फैजाबादी द्वारा उन्नयन (UNNAYANA) के लिए 4 सितम्बर 2012 7:25 pm को
    पोस्ट किया गया

    ReplyDelete
  12. सभी लिंक उपयुक्त और जानकारी भरे है रविकर साहब का टहे दिल से सुकरिया की उन्होने मेरी पोस्ट को यहाँ स्थान दिया

    ReplyDelete
  13. आज के लिंक बहुत अच्छे ... शुक्रियामुझे भी शामिल करने के लिए ...

    ReplyDelete
  14. बहुत-बहुत शुक्रिया!
    आभार ! मुझे भी शामिल करने के लिए

    ReplyDelete
  15. सुंदर सूत्रों सजी चर्चा,,
    मेरी रचना शामिल करने के लिये,,,रविकर जी आभार

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    बढ़िया लिंक लगाए हैं आपने रविकर जी!
    अध्यापकदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  17. आज दिन भर बहुत व्यस्त रही अब चर्चामंच खोल पाई हूँ सभी लिंक बेहतरीन हैं कल सभी पढने की कोशिश करुँगी हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  18. Thanks for writing in such an encouraging post. I had a glimpse of it and couldn’t stop reading till I finished. I have already bookmarked you.

    ReplyDelete
  19. बहुत सही लिंक्स । मेरी रचना शामिल करने के लिये आभार । काफी लिंक्स पर गई बढिया पोस्टस हैं ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...