Followers

Sunday, June 09, 2013

तो क्या हुआ : चर्चा मंच 1270

"जय माता दी" रु की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. चलते हैं आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स पर.

प्रस्तुतकर्ता : रमाअजय शर्मा


प्रस्तुतकर्ता : ममता
रास्ते में गुजरते हुए
रोज जिंदगी देखती हूँ ...
घर की दलहीज में बैठा वो लड़का
आसमान पर उड़ते पीले गुब्बारे को अपलक निहारता ,
दूंढता है खुशियाँ जिंदगी की ,

प्रस्तुतकर्ता : Akshitaa (Pakhi)
प्रस्तुतकर्ता : (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)
सागर में से भर कर निर्मल जल को लाये हैं।
झूम-झूम कर नाचो-गाओ, बादल आये हैं।।
गरमी ने लोगों के तन-मन को झुलसाया है,
बहुत दिनों के बाद मेघ ने दरस दिखाया है,
जग की प्यास बुझाने को ये छागल लाये हैं।
झूम-झूम कर नाचो-गाओ, बादल आये हैं।।

प्रस्तुतकर्ता : Shikha Kaushik
प्रस्तुतकर्ता : Deepti Sharma
प्रस्तुतकर्ता : Hitesh Rathi
प्रस्तुतकर्ता : Garima
प्रस्तुतकर्ता : Archana
प्रस्तुतकर्ता : Ranjana Bhatia
प्रस्तुतकर्ता : रीता गुप्ता


प्रस्तुतकर्ता : Anju


प्रस्तुतकर्ता : रश्मि शर्मा
Kamla Singh


प्रस्तुतकर्ता : मन्टू कुमार


प्रस्तुतकर्ता : रंजना डीन


प्रस्तुतकर्ता : अरुणा


प्रस्तुतकर्ता : डॉ नीरज


इसी के साथ आप सबको शुभविदा मिलते हैं रविवार को. आप सब चर्चामंच पर गुरुजनों एवं मित्रों के साथ बने रहें. आपका दिन मंगलमय हो
जारी है... 'मयंक का कोना'
(1)

जेठ निष्ठुर - हाइकु

सूर्य प्रचंडदग्ध अग्नि का कुंडतपे भूखंड।...
My Photo
वीथी पर sushila 
(2)
अज़ीज़ जौनपुरी : मुझको ईसा समझ
 एक पत्थर  आसमा से गिरा , और दूसरा तू उछाल आया
    मुझको ईसा समझ तुमने, सारे पत्थर फ़िर उछाल आया...

My Photo
Zindagi se muthbhed पर Aziz Jaunpuri
(3)
मौला रे

तन्हा सा कर दे मुझे। 
दे दे तू मेरा जहाँ, कोई और न हो वहां...
asmanjas....ek duvidha पर ashu's

(4)
तू क्या से क्या हो गया 
तू क्या से क्या हो  गया मेरे दोस्त
 कल  हीरा, आज  पत्थर  बन गया दोस्त...

(द्वारा मधु सिंह )

18 comments:

  1. आज रविवार (09-06-2013) को तो क्या हुआ : चर्चा मंच 1270 में आपने बहुत सुन्दर चर्चा की है अरुण जी!
    आभार के साथ..सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. उम्दा लिंक्स हैं अच्छी चर्चा |
    आशा

    ReplyDelete
  3. शुक्रिया अरुण जी ......

    ReplyDelete
  4. खूबशूरत अहसास के साथ उम्दा लिंक्स , बेहतरीन प्रस्तुति सादर

    ReplyDelete
  5. सुप्रभात मित्रों

    शुक्रिया अरुण जी
    अक कौना मुझे भी मिला

    सुन्दर सूत्र .....

    ReplyDelete
  6. arun bahut badhai sunder links ke liye
    guru ji ko pranaam

    ReplyDelete
  7. आज की सुन्दर चर्चा के लिए प्रिय अरुन एवं आदरणीय शास्त्री जी को बधाई एवं आप सभी को सुप्रभात दोस्तों

    ReplyDelete
  8. sarthak links se saji charcha .meri post ko yahan samman pradan karne hetu aabhar

    ReplyDelete
  9. सुंदर, सार्थक और उपयोगी चर्चा के लिए बधाई अरूण जी। बढ़िया लिंक्स हैं।

    मेरी पोस्ट के चयन हेतु डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) जी का हार्दिक आभार।

    ReplyDelete
  10. पठनीय और रोचक सूत्र..

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति, सुन्दर लिंक्स आभार अरुण जी! आदरणीय शास्त्री जी को सादर नमस्कार.

    ReplyDelete
  12. अच्छे लिंक हे और मेरे लिंक को भी सामिल करने के लिए आपका आभार !
    नयी पोस्ट
    गूगल रीडर के शटडाउन से घबराना केसा…(ब्लॉग लिखने वालो के लिए काम की पोस्ट हे जरुर पडे)
    <a href="http://hiteshnetandpctips.blogspot.in/2013/06/blog-post.html?m=1बचाईये गो माता को मिस कॉल करके
    </a>

    ReplyDelete
  13. आपने बहुत सुन्दर चर्चा की है अरुण जी। मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए
    आभार के साथ..सादर...!

    ReplyDelete
  14. सुन्दर लिंक्स अरुण जी!

    ReplyDelete
  15. बढिया चर्चा
    अच्छे लिंक्स

    ReplyDelete
  16. शानदार,उम्दा लिंक्स,अच्छी चर्चा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

चर्चा - 2817

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है  चलते हैं चर्चा की ओर सबका हाड़ कँपाया है मौत का मंतर न फेंक सरसी छन्द आधारित गीत   ...