Followers

Wednesday, June 19, 2013

तड़प जिंदगी की ---बुधवारीय चर्चा 1280 --




नमस्कार मित्रो ....... .आज मौसमी मार ने किस हद तक अपना कोप दिखाया है वह रोंगटे खड़े कर देने वाला है ...जीवन के सुख - दुःख  हर पल को प्रभावित कर देते है ........ जिसे कई बार बयां करना मुश्किल हो जाता है . ज्यादा न कहते हुए सीधे आपके अपने लिनक्स की और प्रस्थान करते है , आप सभी का दिन मंगलमय हो और सुखो के बादल हर घर में बरसे ------आज की चर्चा बस इतनी सी ही ....अच्छा तो हम चलते है फिर मिलेंगे आपसे अगले बुधवार आपके अपने मंच पर तब तक के लिए  -- शुभ दिन    -- आपकी दोस्त शशि पुरवार






 नरेन्द्र व्यास
 
  नीले विस्‍तार में एक बूँद- 
  

तड़प,
धीरेन्द्र सिंह भदौरिया 




"पर्वत सभी को भा रहे हैं"   

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

 




Untitled

मेरा अव्यक्त --राम किशोर उपाध्याय 
*संकेत * +++++ और भी कई है ऊंचाईयां आकाश के आगे - ना देखो घबराकर तुम्हे एहसास नहीं है - तुम तो एक तृण हो उड़ते गुबार का - हवा के झोंको को तुम अपनी उडान ना मानों वह तुम्हारी गति नहीं हैं तुम्हे ना धरा मिलेंगी ना ही आकाश हां ...........
  

चांदनी का चंदोवा.....

रश्मि शर्मा 


-Nidhi Tandon
बादल

  

नाता ...

  (दिगम्बर नासवा)
अब्बू के तो पाँव है छूता, माँ से लाड लड़ाता है अपने-पन का ये कैसा फिर माँ बेटे का नाता है डरता है या कर ना पाता, अब्बू से मन की बातें आगे पीछे माँ से पर वो सारे किस्से गाता है हाथ नहीं हो अब्बू


भरमार

Madan Mohan Saxena
*एक तरफ देश में जहाँ गरीब जनता अपने लिए दो जून की रोजी रोटी के लिए संघर्ष कर रही है. देश में मंत्रियों का चुनाब काबिलियत के बजाय संबंधों पर किया जा रहा है . जनप्रतिनिधि जनता के प्रति अपनी **जबाबदेही समझते ही नहीं है .

...-प्रतिभा कटियार
 

 




"मेरे नगर खटीमा में बारिश का कहर"

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

मित्रों..!
आजकल उत्तराखण्ड में बारिश और बाढ़ का कहर है। 

जिससे मैं भी अछूता नहीं हूँ। 
विद्युत आपूर्ति भी ठप्प है और इंटरनेट भी बाधित है। 
आज बड़ी मुश्किल से नेट चला है।
आगे देखिए..."मयंक का कोना"
(1)
गुज़ारिश पर सरिता भाटिया 
(2)

अर्पित ‘सुमन’ पर सु..मन(Suman Kapoor) 
(3)

" मेरे जज्बात " पर Raj Kanpuri 
(4)
ग़ाफ़िल की अमानत
ग़ाफ़िल की अमानत पर चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’
(5)
साहित्यिक सहचर


मंजिल-ए-मकसूद तक, रस्ते खुले रखता हूँ मै |
जीत के अपने जिगर में, जलजले रखता हूँ मै...
साहित्यिक सहचर पर डॉ.राज सक्सेना
(6)
     बोंसाई
मैं कोई बोंसाई का पौध नहीं 
जिसकी जड़ों को काट कर 
शाखाओं - प्रशाखाओं को छाँट कर 
एक गमले में रोप दिया ।
मैं तो मैं हूँ ।
बेटी ,बहन और पत्नी  के रिश्तों का 
निर्वहन करती हुई भी 
एक स्वतंत्र व्यक्तित्व  हूँ ...

 कविता विकास

17 comments:

  1. मित्रों..!
    आजकल उत्तराखण्ड में बारिश और बाढ़ का कहर है। जिससे मैं भी अछूता नहीं हूँ। विद्युत आपूर्ति भी ठप्प है और इंटरनेट भी बाधित है। आज बड़ी मुश्किल से नेट चला है।
    --
    शशि पुरवार जी आपने प्रतिकूल परिस्थतियों में बुधवार की चर्चा की है। एतदर्थ आपका आभारी हूँ!
    --
    कामना करता हूँ कि आपके पतिदेव जल्दी ही स्वस्थ हो और आपका परिवार सुखमय जीवन व्यतीत करें।
    शुभकामनाओं के साथ...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर और सार्थक लिंकों का चयन ,शुभकामनाओं के साथ बहुत बहुत आभार।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर सूत्र, ईश्वर करे कि उत्तराखण्ड में स्थितियाँ शीघ्रातिशीघ्र सुधरें।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर सूत्रों से सजी सुन्दर चर्चा !!

    ReplyDelete
  5. काबिले-तारीफ बेहतरीन लिंक्स,,,,
    मेरी रचना को चर्चामंच में सामिल करने के लिए आभार,,,

    ReplyDelete
  6. सुन्दर लिंक संयोजन ………ईश्वर सब तरफ़ शांति करे।

    ReplyDelete
  7. अच्छे लिंक...
    मेरी रचना को शामिल करने हेतु,आभार!

    ReplyDelete
  8. बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ...
    आभार!

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन लिंक्स
    .....मेरी रचना को चर्चामंच में शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  10. सुन्दर लिंक्स से सजी रोचक चर्चा...

    ReplyDelete
  11. विस्तृत चर्चा ...
    आपका आभार मेरी रचना को स्थान देने के लिए ...

    ReplyDelete
  12. हमेशा की तरह ही बहुत सुन्‍दर चर्चा

    ReplyDelete
  13. शशि जी सार्थक सूत्र लगाए हैं आपने प्रतिकूल परस्थितियो में भी
    बधाई
    गुरु जी को प्रणाम
    मयंक कोना में मेरी रचना को स्थान देने के लिए शुक्रिया

    ReplyDelete
  14. शुक्रिया। इस बेहतरीन चर्चा मंच पर इस नाचीज़ की कविताओं का लिंक देकर जो सम्मान बढाया, आभारी हूँ। साथ ही शुक्रगुजार हूँ कि इतनी बेहतरीन ब्लोग्स के लिंक्स मिले। साधुवाद

    ReplyDelete
  15. Meri rachna ko shamil kiye jaane ka shukriyaa ....... mere blog par sab comments Spam main ja rahe hain isliy mujhe soochna nhi mil pati thee ......... bahut sarthak links sanjoye hain aapne .....

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सब कुछ अभी ही लिख देगा क्या" (चर्चा अंक-2819)

मित्रों! शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...