Followers

Friday, May 04, 2018

"ये क्या कर दिया" (चर्चा अंक-2960)

मित्रों! 
शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
आप सभी के शुभाशीष की आकांक्षिणी
मेरी बेटी स्वाति का आज जन्मदिन है।
पूरे परिवार की यह कामना है कि 
वह हँसी और खुशी के साथ
जीवन पथ पर अग्रसर रहे। 
Image may contain: 1 person, sitting, child and indoor
पाकर तुझको धन्य हो गई मेरी बिटिया प्यारी।
सारा जग प्यारा लगता है,पर तू है जग से न्यारी... 
--

ये क्या कर दिया  

राधा तिवारी ' राधेगोपाल ' 

Image result for राधे
तुमने ज़मीन पर जो सजदा किया ,
रौनक – ए - हुस्न में तुमने  ये क्या कर दिया l

हंस के देखा तो सांसें हमारी थमी ,
धडकनों को हमारी ये क्या कर दिया... 
--
--
--
--

शेर की किरकिरी 

शेर और शेर के बच्चों से परेशान होकर मैंने सच्चे शेर की तलाश में नेशनल ज्योग्राफी चैनल पर दस्तक दे दी। खोलते ही जो दृश्य था वह बता दूं – एक संकरा सा रास्ता था, सड़क बनी थी, कार खड़ी थी और वहाँ काँपते पैरों से एक भैंस का बच्चा घूम रहा था। एंकर बोल रहा था कि इस बच्चे को देखकर लग रहा है कि यह डरा हुआ है, लेकिन डर किसका है यह समझ नहीं आ रहा है! तभी कार के पीछे से शेर निकला , अब दोनों आमने-सामने थे। शेर ने पोजीशन ली और घात लगाने के लिये तैयार हो गया। लग रहा था कि आसान शिकार हाथ लगा है लेकिन तभी एक बड़ी सी भैंस दौड़ती हुई आयी और उसने शेर पर आक्रमण कर दिया... 
smt. Ajit Gupta 
--
--
--

दोहे, 

बत्ती कली सुबुद्धि जब, गुल हो जाय हुजूर।  
चोर भ्रमर दीवानगी, मौज करें भरपूर.... 
"लिंक-लिक्खाड़" पर रविकर  
--
--

अनकहे शब्द 

Kailash Sharma 
--

इंसान बटता चला गया 

धरती अम्बर एक सी लहू भी सबका एक का सा 
फिर भी इंसान क्यों बटता चला गया 
सरहदे बट गयी दिलो पे लकीरे खिच गयी 
फिर भी इंसान बटता चला गया... 
aashaye पर garima  
--

खैर 

Rohitas Ghorela पर 
Rohitas ghorela  
--
--

8 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। स्वाति को जन्मदिन की मंगलकामनाएं।

    ReplyDelete
  3. बढ़िया संयोजन , बहुत बधाई , आभार !

    ReplyDelete
  4. उम्दा प्रस्तुती
    बेहतरीन ब्लोग्स का समावेश.

    हैप्पी बर्थडे तो स्वाति..

    मुझे भी इस पर जगह देना का बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर लिंक्स का संयोजन...रोचक चर्चा...आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति. इस मंच में मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय शास्त्री जी

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी पंक्तियां हैं आपका बहुत-बहुत धन्यवाद आदरणीय शास्त्री जी

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर प्लेटफॉर्म हमारी पोस्ट को जगह देने के लिए धन्यवाद सर जी

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सुहानी न फिर चाँदनी रात होती" (चर्चा अंक-3134)

सुधि पाठकों! बुधवार   की चर्चा में  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। राधा तिवारी (राधे गोपाल) -- दोहे   "शरदपूर्णिमा रात...