Followers

Monday, June 18, 2018

"पूज्य पिता जी आपका, वन्दन शत्-शत् बार" (चर्चा अंक-3005)

सुधि पाठकों!
सोमवार की चर्चा में 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

पूज्य पिता जी आपका, 

वन्दन शत्-शत् बार 

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक  
--

प्रशासन में नए जोश का संचार कैसे? 

जिज्ञासा पर pramod joshi 
--

" भारत भाग्य... "....  

कमलकिशोर पाण्डेय 

मेरी धरोहर पर yashoda Agrawal 
--

तुम्हे लड़ना होगा 

Madhulika Patel  
--

स्मृति शेष पिताजी -----  

कविता 

क्षितिज पर Renu  
--

बाल कविता-  

अन्हरिया भेल सबल 

नव अंशु पर Amit Kumar  
--

हे सीप तुझीसे पयोधि कथा 

अनकहे बोल पर anchal pandey  
--

काहे को "रेस" लगाई 

कुछ अलग सा पर गगन शर्मा 
--

बच्चों वाले खेल 

shashi purwar  
--

शीर्षकहीन 

SADA 
--

व्यंग्य क्षणिकाएं 

*अपराधी कौन ?*   
 नदियाँ सूखती हैं 
समुंदर के प्यार में 
 समुंदर प्यार करता तो  
नदियां पहाड़ चढ़ जातीं! 
किसी नदी की मृत्यु के लिए 
कोई मनुष्य जिम्मेदार नहीं... 
बेचैन आत्मा पर देवेन्द्र पाण्डेय 
--

३१३. अमलतास से 

कविताएँ पर Onkar  
--

ईद मुबारक 

सुबह से इन्तजार है  
तुम्हारे मोगरे जैसे खिले चेहरे को  
करीब से देखूं  
ईद मुबारक कह दूँ  
पर तुम शीरखुरमा,  
मीठी सिवईयाँ बांटने में लगी हो... 
Jyoti Khare 
--

गहराती बहुआयामी गैर-बराबरी  

विकास-भ्रम का सच 

Randhir Singh Suman 
--

6 comments:

  1. शुभ प्रभात सखी
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. सार्थक चर्चा। आपका आभार राधा बहन जी।

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा. मेरी कविता शामिल की. शुक्रिया.

    ReplyDelete
  5. आदरणीय राधा जी -- चर्चा मंच की आज की प्रस्तुती में अपनी रचना को पाकर बहुत ख़ुशी हुई | बाकी सभी अंक भी बेहतरीन है | आपके सहयोग की आभारी रहूंगी | सादर

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"महकता चमन है" (चर्चा अंक-3160)

सुधि पाठकों!  सोमवार   की चर्चा में  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। राधा तिवारी (राधे गोपाल)    -- ग़ज़ल   "महकता चमन है...