Followers

Search This Blog

Saturday, June 23, 2018

"करना ऐसा प्यार" (चर्चा अंक-3010)

मित्रों! 
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--
--
--
--

रहम मेरे यार कर....... 

श्वेता 

मैं ख़्वाब हूँ मुझे ख़्वाब में ही प्यार कर  
पलकों की दुनिया में जी भर दीदार क... 
मेरी धरोहर पर yashoda Agrawal  
--
--

प्रेम के बीज 

गहरे बोए बीज प्रेम के
सींचा प्यार के जल से
मुस्कान की खाद डाली
 इंतज़ार किया शिद्दत से
बहुत इंतज़ार के बाद
दिखे अंकुरित होते चार पांच... 
Akanksha पर Asha Saxena 
--
--

कविता 

प्यार पर Rewa tibrewal  
--

पुरस्कार 

लगभग चार वर्ष पहले अनीता की नियुक्ति मध्य विद्यालय में हुई थी| जिस दिन वह विद्यालय में योगदान देने गईं , सभी शिक्षक और बच्चे बहुत खुश हुए थे क्योंकि वहाँ गणित के लिए कोई शिक्षक न था| 
योगदान देने के बाद प्रधानाध्यापिका ने उन्हें बैठने को कहा और बोलीं, “अनीता जी, आप कल से क्लास लीजिएगा| हम आपको आठवीं कक्षा की क्लास टीचर बनाएँगे|"  
ऋता शेखर 'मधु' 
--
--

8 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. आपके आशीष का अत्यंत आभार आदरणीय।
    सादर।

    ReplyDelete
  3. गुरु जी आशीर्वाद बनाए रखें l

    ReplyDelete
  4. सुप्रभात
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    ReplyDelete
  5. Replies
    1. सुन्दर शनिवारीय अंक। आभार आदरणीय कतार में लगे 'उलूक' की भी चर्चा करने के लिये।

      Delete
  6. बढ़िया चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. सुन्दर लिंक्स

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।