समर्थक

Tuesday, August 10, 2010

साप्ताहिक काव्य मंच ---१२ ( संगीता स्वरुप ) चर्चा मंच -- 241

नमस्कार ,  साप्ताहिक काव्य मंच पर आप सभी का स्वागत है ….रचनाकार के लिए पाठक ईश्वर समान है ..जिस प्रकार ईश्वर को श्रद्धा से पुष्पांजलि भेंट की जाती है मैंने भी काव्य-प्रसून भेंट कर दिए हैं …ईश्वर में आस्था रखते हुए ….चलिए पहले कुछ विशेष – परिचय ….
My Photoयहाँ नीरज जी का आप सबको परिचय देना शायद मेरी धृष्टता ही होगी….क्यों कि नीरज जी को तो सभी जानते हैं ….बेहतरीन गज़लकार , ग़ज़लों के शहंशाह …..साथ ही किताबों की  दुनिया के माध्यम से इनकी पुस्तकों की समीक्षा बेमिसाल होती है  .  मैंने आपकी रचनाएँ गज़ल विधा में ही पढ़ी हैं …हर गज़ल एक से बढ़ कर एक …कुछ नया सन्देश देती हुई …कहीं कहीं चुटीले व्यंग भी होते हैं तो कहीं संजीदगी से  सीख भी दी गयी होती है …ऐसी ही सीख  आप इस में देखें

लीक पर चलना, कहाँ दुश्वार है
खौफ का जो कर रहा व्यापार है
आदमी वो मानिये बीमार है
चार दिन की ज़िन्दगी में क्यूँ बता
तल्खियाँ हैं, दुश्मनी, तकरार है
यूँ बस्तों का बोझ बढ़ाना, ठीक नहीं
सब को अपना हाल सुनाना, ठीक नहीं
औरों के यूँ दर्द जगाना, ठीक नहीं
इन पंक्तियों में सलाह दे रहे हैं कि हर किसी को मन की बात बताना ठीक नहीं …मुझे रहीम दास जी का दोहा याद आ गया … “रहिमन निज मन की व्यथा मन ही राखे गोय |”
बच्चों को अपना बचपन तो जीने दो
यूँ बस्तों का बोझ बढ़ाना, ठीक नहीं
इसमें कितनी बड़ी सच्चाई कही है …पर कौन सुनता है?  बच्चों का बचपन आज उनके बस्ते तले दब रहा है ..
और इस गज़ल में नेकी कर कुएँ में डाल वाली बात चरितार्थ हो रही है ---
भलाई किये जा इबादत समझ कर

न समझे किसी को मुकाबिल जो अपने
वही देख शीशा बड़े सकपकाये
भलाई किये जा इबादत समझ कर
भले पीठ कोई नहीं थपथपाये
मन की व्यथा को कुछ अलग ही अंदाज़ में बयाँ  किया है …
गुलाबों से मुहब्बत है जिसे
मजे की बात है जिनका, हमेशा ध्यान रखते हैं
वोही अपने निशाने पर, हमारी जान रखते हैं
गुलाबों से मुहब्बत है जिसे, उसको ख़बर कर दो
चुभा करते वो कांटे भी, बहुत अरमान रखते हैं
कुछ और तस्वीरें .5दीपक मशाल एक युवा साहित्यकार ….जिसकी लेखनी लघु कथाओं पर जितनी धारदार चलती है उतनी ही काव्य पर भी …..इनका एक काव्य संग्रह “ अनुभूतियाँ “ प्रकाशित हो चुका है….मैंने इनकी जितनी भी कविताएँ पढ़ी हैं उनसे यही जाना है कि एक आग सी जलती है , एक धुआं सा  उठता है ….हर कविता एक अलग रंग लिए हुए सोचने पर विवश करती है … सत्य को स्वीकारते हुए इनकी इस रचना को देखें …

झूठा विजेता--
जहाँ भी लगाओ मेरी विजय के उपलक्ष्य में स्तम्भ
वहीं मेरी हार को भी अंकित करना..
क्योंकि इतिहास की किताबों में छिप के बैठा
एक तथाकथित महान
मगर झूठा विजेता नहीं बनना मुझे
देख अचरज भी है हैरानी भी है--
कैसे माने जहाँ विष पिलाए बिना
मीरा रानी भी है, दिवानी भी है
एक अदृश्य सूली
नारी कि वेदना को इस रचना में बखूबी ढाला है …

लेकिन मेरा असल वजूद आज भी
गाँव की, कस्बों की
तंग गलियों में ही सिमटा है
यूं तो पूजाघर की दीवारों पर टंगी तस्वीरों में
मेरे हाथों में तीर है.. तलवार है.. त्रिशूल है
पर हकीकत में
सिर्फ बेलन है चिमटा है

माँ------
यह विषय ही ऐसा है कि मन संवेदनशील हो उठता है ..
माँ
आज भी तेरी बेबसी
मेरी आँखों में घूमती है
तेरे अपने अरमानों की ख़ुदकुशी
मेरी आँखों में घूमती है..
My Photo
अनामिका  के लेखन से अधिकांश लोग परिचित हैं …हर  रचना सीधे दिल से निकल शब्दों के परिधान में सुसज्जित हो जाती है ….प्रेम की अभिव्यक्ति करना कोई सीखे तो इनकी रचनाओं को पढ़ें …इनकी भाषा की एक खासियत यह है कि इनकी रचनाओं में हिंदी के साथ उर्दू शब्दों का बहुतायत से प्रयोग होता है……हर रचना जैसे  प्यार के सागर में डूब कर निकलती है…विरह हो , वेदना हो , उपालंभ हो या जीवन दर्शन भी सब प्रेम  रस  में डूबा हुआ … इनकी रचनाओं में प्रेम की पराकाष्ठा दृष्टिगोचर होती है…. कुछ से आप भी रु – ब - रु होइए …
असहाए, दरिद्र सी उत्कंठाये.. ..
उजास नहीं है किसी पथ में..
नैराश्य की घन-घोर घटा..
छाई जीवन के उपवन में..!!

शून्य....
जब खतम हो जाता है ..
सुख की उम्मीदो का साथ .
तब शांत हो जाता है
अंगारो से जलता वज़ूद,
और पसर जाता है
चहू ओर एक
असीम शून्य !!
ये निर्दयी प्रारब्ध
पैशाचिक नृत्य
करता हुआ..
क्षण - क्षण..
जिंदगी को
लीले जाता है..!!

प्रयाण.
दीपक मंद हो चला है
टिमटिमाना धीमा हो गया है
आयु का जल भी सूख चला है
लौ की उपर उठने की शक्ति क्षीण है
मेरा फोटो साधना वैद जी को लेखन विरासत में मिला है….इनकी माताजी की कविताओं से आप लोग परिचित ही हैं ….साधना जी यथार्थ के धरातल पर रचनाओं को लिखती हैं ….पढते हुए लगता है कि हर शब्द   भोगा हुआ सत्य हो …  स्वयं के लिए कुछ लिखा हो या समाज के लिए  या फिर बच्चों के लिए लिखे गीत हों …..एक स्पष्ट सन्देश होता है….आप भी कुछ बानगी देखिये …
अब तो जागो
कब तक तुम
अपने अस्तित्व को
पिता या भाई
पति या पुत्र
के साँचे में ढालने के लिये
काटती छाँटती
और तराशती रहोगी ?
तुम मोम की गुड़िया तो नहीं !

 मैं एकाकी कहाँ
मैं एकाकी कहाँ !
जब भी मेरा मन उदास होता है
अपने कमरे की
प्लास्टर उखड़ी दीवारों पर बनी
मेरे संगी साथियों की
अनगिनत काल्पनिक आकृतियाँ
मुझे हाथ पकड़ अपने साथ खीच ले जाती हैं,
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
जब भी कोई शब्द
तुम्हारे मुख से मुखरित होते हैं
उनका रंग रूप, अर्थ आकार,
भाव पभाव सभी बदल जाते हैं
और वे साधारण से शब्द भी
चाबुक से लगते हैं,

शक्ति रूपिणी नारी
‘असहाय’, ‘बेचारी’, ‘दयापात्र‘,
’अबला नारी’, ‘कमज़ोर जात’,
’दासी’,‘बाँदी’,‘गोली’,‘गुलाम’
इन सारे नामों को सलाम !
और  अब ……  सप्ताह की बेहतरीन कविताएँ और कुछ नए चेहरे ….. आशा है कि नए लोगों को आप सभी से प्रोत्साहन मिलेगा ….
मेरा फोटो इस सप्ताह की सबसे पहली रचना पेश कर रही हूँ … माँ के हाथों बने खाने का स्वाद .. जी हाँ जब घर से दूर हों और मन-पसंद खाना न मिले  तो माँ का बनाया खाना कितना याद आता है …इसकी जानकारी लीजिए शरद कोकास जी की रचना पढ़ कर …





पूरा होता है
पेट भरने का दस्तूर
कमरे में लौटते हुए
जुबान पर आता है
माँ के हाथों बने
खाने का स्वाद
8  अगस्त को शरद जी की माँ की पुण्य तिथि थी …इस अवसर पर उनकी एक पुरानी रचना देना चाहूंगी ..
माँ की मृत देह के पास बैठकर-छह

देह को मिट्टी कहते हैं
मिट्टी मिल जाती है मिट्टी में
महकती है बारिश की पहली फुहार मे
तुम भी महकोगी माँ
हर बारिश में..
My Photo
दिनेशराय  द्विवेदी  जी अपने ब्लॉग पर प्रस्तुत कर रहे हैं
"कल-युग-दर्शन" यादवचंद्र के प्रबंध काव्य "परंपरा और विद्रोह" का त्रयोदश सर्ग


मत बांध खुदा की फितरत को
आजाद खुदई, कुदरत को
दोजख को, रोते जन्नत को
आदम की नादाँ जुर्रत को
पूरी कविता पढते हुए एक जोश पैदा होता है ….आप भी इसका आनंद ज़रूर लें ..
चिमनियाँ धुआँ जो उगल रहीं
सीधी मीनार बनाती हैं
आसार सभी ये कहते हैं
यह आँधी कोई आती है
यादवचंद्र पाण्डेय

 


[१]
नजर आते हैं जो जैसे वो सब वैसे नहीं होते
जो फल पीले नहीं होते वो सब कच्चे नहीं होते
[२]
ये रिश्ता हर सफ़र हर मोड़ पर हर बार मिलता है
तुम्हारी हर कहानी में मेरा किरदार मिलता है
[३]
ये न समझो ऐसा वैसा वास्ता सूरज से है
ये सफ़र ऐसा है अपना सामना सूरज से है
[४]
चुप रहा तो घुट के रह जाएगा जीने का मजा
रोया तो बह जाएगा सब अश्क पीने का मजा
करण समस्तीपुरी  कह रहे हैं कि अब मौन बने रहने    से कुछ नहीं होने वाला …


कब तक बैठोगे मौन तपस्वी

कब तक बैठोगे मौन तपस्वी,
अब अपनी आँखें तो खोल !
बहुत हो चुका धैर्य प्रदर्शन,
बोल क्रान्ति के तीखे बोल
रे सतत समाधिलीन योगीश्वर,
जाग-जाग अब शीघ्र जाग !
खींच खड़ग शान्ति-म्यान से,
खेल अराति रक्त से फाग !
वाणी शर्मा एहसासों से भरपूर लेकिन नकारात्मक शैली में लिखती हैं …

मैं तुमसे प्यार नही करती...


मेरे कुछ शेरों में शामिल है तेरा नाम भी
मेरी कुछ शामों में शामिल है तेरा ख्याल भी
मेरे कुछ आंसुओं का कारण है तेरी कमी भी
मेरी कुछ मुस्कुराहटों में शामिल है तेरी याद भी
मगर फिर भी यह सच है ....
मैं तुमसे प्यार नही करती ...!!
मैंने तुमसे कभी प्यार नही किया ...!!


हमज़बान पर पढ़िए शाहिद अख्तर की बेहतरीन कविताएँ ..  ख़ामोशी के ख़िलाफ़ 

[१]
तितलियां पंख फड़फड़ती हैं
तितलियां उड़ जाती हैं
तितलियां वक्‍त की तरह हैं
यादें छोड़ जाती हैं
खुद याद बन जाती हैं

[२]
अंतरिक्ष पर जगमगा रहे हैं
हमारे दर्जनों उपग्रह
चांद पर कदम रखने की
हम कर रहे हैं तैयारियां

[३]
अब भी ताजा है
इन जर्द पंखुडि़यों पर
तुम्हारे मरमरीं हाथों का
वह हसीं लम्‍स
उससे झांकता है
तुम्‍हारा अक्‍स

[४]
कोई नारा, कोई सदा
उछालो जुल्‍मत की इस रात में
आवाजों के बम और बारूद
ढह जाएंगे इन से
जालिमों के किले
मेरा फोटोअराधना चतुर्वेदी  कह रही हैं …..
अनकही सी एक बात

अनकही सी एक बात,
सालती रही दिल को
कितने ही दिन
कितनी ही रातें, 
हिम्मत जुटाकर फिर
कह ही दिया
"लौट आओ"
 My Photoसोनल रस्तोगी जी विरह में ऐसी डूबी हैं कि उनको
ये सावन मन भाये ना ..

ये सावन
मन भाये ना
बदरा तुमको
लाये ना
दूर बिदेस में
बैठे तुम
सौतन कहीं
लुभाए ना
 मेरा फोटो
वंदना  गुप्ता आज जीवन की एक अहम बात बताते हुए कह रही हैं कि  

"मैं "का कोई अस्तित्व नहीं

मैं क्या हूँ ?
कुछ भी तो नहीं 
ब्रह्मांड में घूमते
एक कण के सिवा 
कुछ भी तो नहीं 
अकेले किसी 
कण की
सार्थकता नहीं

मेरा फोटोमुकेश तिवारी जी को पढ़िए कवितायन »पर

पतों के बीच लापता होते हुये


आजकल तो
शहर में इतनी भीड़ है कि
कभीकभी खुद परछांई को भी मुश्किल होता है
तलाश लेना ज़मीन अपने लिये
इंसानों से बचते हुये
My Photo
अशोक व्यास जी बता रहे हैं  
मनुष्य होने का गौरव

रक्षा राखियाँ करती हैं
या वो भाव जिसको लेकर राखी बंधती है
आत्मीय कटिबद्धता क्या एक दिन तक सीमित है?
राखी जिस जीवन शैली को सहेजने,
जिस जीवन दृष्टि को व्यवहार में लाने का नाम है
 My Photo
मनसा आनंद मानस कहते हैं कि जिनको स्वयं पर भरोसा हो उसे आगे बढने से कौन रोक सकता है…. 
अटल है विश्‍वास जिसको
चल पडा पथ पर पथिक जब,
            कौन बाधा रोकेगी उसको।
कौन डगर भटका सकेगी,
            दृढ़ है विश्‍वास  जिसको।।
My Photo
विभा रानी  माँ को समर्पित कर रही हैं अपनी रचना 

मां तुम काम करो!

खेत में, खलिहान में
स्कूल में, मैदान में,
दफ्तर में , दुकान में,
तुम्हारा काम, हमारा विश्वास
पढने का, आगे बढने का
अच्छा सीखने का, अच्छा कमाने का
तुम काम करो मां!
 My Photo
अनीता सक्सेना जी अनुभूति पर लायी हैं …


शब्दों का कराहना
इनके दिल में सभी  धर्मों  के उपदेश हैं
मेरी रगों में
खून नहीं
शब्द बहते हैं


वंदना सिंह हर आहट पर याद करते हुए कह रही हैं ….आती है … 
याद तुम्हारी
एक आहट ........जैसे
हवा में घुल के.....
हलके फुल्के से लिबास में
सहमी सी ....घबराई सी
थोड़ी सी शरमाई सी
करती है होले से दस्तक
दिल के दरवाजे पर जैसे
कुछ ऐसे ही आया करती है
अक्सर याद तुम्हारी
My Photo
कविता रावत जी की 
मनभावन
वर्षा!!   पढ़िए
मुरझाये पौधे भी खिल उठते
जब उमड़- घुमड़ बरसे पानी,
आह! इन काली घटाओं की दिखती
हरदम अजब- गजब की मनमानी।
देख बरसते बादलों को ऊपर
मलिन पौधे प्रफुल्लित हो जाते हैं,
ज्यों बरसाये बादल बूंद- बूंद
त्यों नित ये अद्भुत छटा बिखेरते हैं।
My Photo
कंचन सिंह जी को पढ़िए भी और सुनिए भी

पलट के लौट भी आओ, ये कोई बात नही
हमें हमारे हवाले, जो तुमने छोड़ा है,
पलट के लौट भी आओ, ये कोई बात नही।
वो शम्मा, जिससे हमारी हयात रोशन थी,
उसी से हमको जलाओ, ये कोई बात नही।
My Photo
विनोद पांडे  किस बूढ़े इंसान को भगवान बता रहे हैं जानिये उनकी कविता पढ़ कर ..

वो बूढ़ा इंसान नही है,वो तो इक भगवान है.

वो बूढ़ा इंसान नही है,
वो तो इक भगवान है.
जो यह बात समझ न पाया,
वो पागल-नादान है|

बचपन से लेकर के अब तक,
हर पल साथ तुम्हारे है,
जब से तुम दुनिया में आए ,
हर पल तुम्हे संवारें है,

सूरज से तप रही धूप में,
वो शीतल परिधान है |

HINDI SAHITYA

पर  पढ़िए नंदलाल भारती की 

बौनी कसमे

गरीबो की बस्ती में
दीया जुगनू होता है ।
वहा अंधियारे
कनक का उजियारा
होता है।
माथे चिंता,
रोम-रोम चिता,
सुलगते है ।
दिल में गूंजती आह
बेवस साँस भरते है।
My Photo अमिताभ मीत कह रहे हैं कि चाहे कितनी ही घुटन हो ,कितनी ही परेशानियां हों फिर भी 

ज़िन्दगी कितनी ख़ूबसूरत है

ये शोर, ये धुंआ
ये गर्मी - हवा में भी .. और दिमाग़ में....
हर तरफ़ दौड़ते - भागते लोगों का सैलाब
ज़िन्दगी जी लेने को बेताब
कितनी घुटन है !!………

ऐसे में तुम्हारी याद ..
ऐसे में तुम्हीं तो याद आती हो मुझे
सब कुछ कितना अच्छा है ..
ज़िन्दगी कितनी ख़ूबसूरत है !!

मेरा फोटोअर्चना तिवारी कह रही हैं कि आज मुहब्बत कहाँ रह गयी है…जीवन में घुटन है कुंठाएं हैं ….आप भी उनके विचारों से रु – ब - रु होइए…


मुहब्बतें हैं कहाँ, अब तो वासनाएं हैं
घुटन है, पीर है, कुंठा है, यातनाएं हैं
मुहब्बतें हैं कहाँ, अब तो वासनाएं हैं
जमाना जब भी कोई धुन बजाने लगता है
थिरकने लगतीं उसी ताल पर फिजाएं हैं
My Photo
जयशंकर तुषार की     पढ़िए … 
मेरी दो गजलें
[१]

सलीका बांस को बजने का जीवन भर नहीं होता।
बिना होठों के वंशी का भी मीठा स्वर नहीं होता॥

[२]
नये घर में पुराने एक दो आले तो रहने दो,
दिया बनकर वहीं से मां हमेशा रोशनी देगी।

डिम्पल परेशान हैं कि   …. 
सपने जो सोने नहीं देते

एक लंबा सफर,
इक छोटा सा सपना...
जादुई संकेतों की
अस्पष्ट अजनबी भाषा के नए शब्द गढ़ने के लिए
उसे कुशल कारीगर बनना है
मेरा फोटो
सावन का महीना बीता  नहीं है और बादल खूब उमड़ घुमड़ कर आ रहे हैं ….डा०  रूपचन्द्र  शास्त्री जी कितना मनोरम वर्णन कर रहे हैं अपनी  रचना     “बादल”   में




भरी दोपहरी में दिनकर को,
चादर से ढक आये बादल।



खूब खेलते आँख-मिचौली,
ठुमक-ठुमककर आये बादल
My Photo
अमरजीत कौंके  को पढ़िए
कविता संग निपट अकेला
अपने आंसू रही भीगती
अपनी सूखी काया
जीवन गुज़रा मिली कहीं न
सघन बृक्ष की छाया
गहन उदासी मन पर छाये
उतरे साँझ की बेला
मैं कविता संग निपट अकेला.....
My Photo
तनु उर्फ शर्मा जोशी को महुआ पर पढ़ें ..

बस प्यार .........!!


दिखायी देते हो तुम.....
मासूमियमत से सोते......
सिगरेट पीते....
तफ्सील से जीते....
बिना बात गमकते......
कहीं किसी सपनों में जैसे
मेरा फोटो
समीर लाल जी इस बार बहुत संवेदनशील रचना लाये हैं ….ऐसे रिश्तों की बात कर रहे हैं जो भूख से जन्मते हैं ….
वो रिश्ते..
जो उपजते हैं मजबूरी में
पेट की भूख से
और विलीन हो जाते
जिस्म में कहीं!!
आज की  चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ …..आशा है आपको आज की चर्चा पसंद आई होगी ….आपकी अभिव्यक्ति ही हमारी प्रेरणा है ….फिर मिलेंगे …अगले मंगलवार ..इसी मंच पर ..नयी चर्चाओं को लेकर …तब तक के लिए नमस्कार ……

34 comments:

  1. सार्थक ब्लॉग चर्चा .........आभार आपका !

    ReplyDelete
  2. "साप्ताहिक काव्य मंच ---१२" बहुत ही करीने से सजाया है आपने!
    --
    सभी लिंक बहुत ही महत्वपूर्ण हैं!

    ReplyDelete
  3. bahut acchi lagi charchaa aapki di..
    dhnywaad aapka..

    ReplyDelete
  4. मेरी हौसला अफजाई करने का बहुत बहुत शुक्रिया संगीताजी ! मुझे आपने इस योग्य समझा यही मेरे लिये बहुत है ! चर्चामंच की सभी लिंक्स बेहतरीन हैं और सभी को पढ़ना अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि होगी ! और मेरी कोशिश रहेगी को मैं सभीको पढ़ पाऊँ ! इतनी बढ़िया चर्चा के लिये बधाई एवं आभार स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  7. डा सुभाष रायAugust 10, 2010 at 9:01 AM

    संगीता जी बहुत सुन्दर. इस तरह ब्लागजगत में रचनात्मक हलचलों से रूबरू होने का मौका देकर आप सार्थक काम करते है. ओम प्रकाश नदीम जैसे बड़े शायर, जो ब्लाग जगत से अंभिग्य हैं, को चरचा में रखकर आप ने कविता का उपकार किया है. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  8. बहोत ही प्यारी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्दरता से चर्चा किया है आपने और बहुत सारे लिंक भी मिले! धन्यवाद!

    ReplyDelete
  10. हमेशा की तरह एक से बढकर एक कवितायें लगाई हैं…………आभार्।

    ReplyDelete
  11. saare links sahej liye hai ... shaam kaa intezaam ho gaya
    meri rachnaa ko sthaan dene ke liye aabhaar

    ReplyDelete
  12. Sangeeta ji,behtareen kavitaon se saji ek sundar charcha ..sabhi ke sabhi link bahut khas hai aur ek badhiya pathniy samagri se bahre hai...meri kavita sammilit karane ke liye bahut bahut aabhar..dhanywaad sangeeta ji..

    ReplyDelete
  13. bahut sundar peshkash....

    Meri Nai Kavita padne ke liye jaroor aaye..
    aapke comments ke intzaar mein...

    A Silent Silence : Khaamosh si ik Pyaas

    ReplyDelete
  14. आपकी चर्चा से हमेशा ही बहुत बेहतरीन लिंक्स मिलते हैं ...बहुत सुन्दर ओर सार्थक रही आज की चर्चा..

    ReplyDelete
  15. आभार कि आपने हमज़बान की पोस्ट का भी ज़िक्र किया है !

    सार्थक ब्लॉग चर्चा !

    एक अदना सी राय है कि सिर्फ कविताओं की ही चर्चा न हो..सामाजिक विमर्शों को भी स्थान दिया करें.

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन चर्चा !

    ReplyDelete
  17. चर्चा मंच में मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका आभार.
    सार्थक लिंक्स और चर्चा के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  18. एक ही स्थान पर कविताओं के ढेर सारे ब्लॉग्स के लिंक ...
    प्रशंसनीय और श्रमसाध्य कार्य है ...
    बहुत आभार ...!

    ReplyDelete
  19. संगीताजी
    अद्भुत!
    इस काव्य मंच द्वारा, विविध काव्य रस धार से जुड़ने और जोड़ने का आपका मधुर परिश्रम और रचनात्मकता नमन करने योग्य है
    सृजनशील प्रवाह को प्रखर बनाती आपकी समर्पित दृष्टि को प्रणाम
    और सोच समझ कर सार्थकता तक पहुँचने का प्रयास करते सभी रचनाकारों के लिए मंगल कामनाएं
    बधाइयां

    ReplyDelete
  20. अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  21. संगीता जी जिस मेहनत और लगन से आप इस चर्चा मंच को सजाती हैं वो सब आपके व्यक्तित्व का आईना बन जाती हैं. निसंदेह आपकी पारखी निगाहें निश्छलता और पारदर्शिता के आधार पर रचनाकारों और रचनाओं के नायाब मोती ढूंढ लाती हैं . जिस प्रेम और उत्साह से आप रचनाकारों पर मनन कर के अपने सुंदर शब्दों के चुनाव से उनकी यथायोग्य उपाधियों से उन्हें सम्मानित करती हैं उससे आपकी संवेदना,आपके अपनेपन, आपकी सजगता, ऊर्जा और आपकी सुरुचि का एहसास मिलता है. आप का चर्चा मंच को यह योगदान अत्यंत ही प्रशंसनीय है.

    ReplyDelete
  22. चर्चा मंच में मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका धन्यवाद

    ReplyDelete
  23. यादव चंद्र पाण्डे जी के लेखन और व्यक्तित्व पर अभी चर्चा के लिए बहुत कुछ शेष है।

    ReplyDelete
  24. सभी लिंक बहुत ही महत्वपूर्ण हैं...बहुत सुन्दर ओर सार्थक है आज की चर्चा मंच...आभार

    ReplyDelete
  25. आपकी चर्चा की शैली देख कर चमत्कृत और प्रभावित हुआ। कृपया बधाई स्वीकारें।
    हमारे ब्लॉग की रचना को शामिल करने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  26. बहुत बढ़िया चर्चा अभी आधे पढना बाकि है |धन्यवाद |

    ReplyDelete
  27. बहुत उम्दा चर्चा....परिचय और चर्चा-दोनों देखकर आनन्द आया. आभार.

    ReplyDelete
  28. मेरे अपरिपक्व प्रयास को भी चर्चा मंच पर स्थान देने के लिए कोटिशः धन्यवाद ! आपने बड़ी ही रुचिकर मंच सजाई है!!

    ReplyDelete
  29. संगीता जी किसे अपनी प्रशंशा अच्छी नहीं लगती लेकिन मेरे साथ उल्टा है मैं अपनी प्रशंशा पढ़ सुन कर संकोच से गढ़ जाता हूँ...ये आपकी महानता है के आप मेरे लेखन के प्रति जो साधारण की श्रेणी का ही है, इतना स्नेह रखती हैं.

    चर्चा मंच पर किये गए आपके अथक प्रयास की जितनी तारीफ़ की जाये कम है...आज के दौर में कोई तो है जो दूसरों की रचनाओं में खूबियाँ ढूंढ कर उन्हें सार्वजानिक मंच प्रदान कर रहा है... ये प्रयास स्तुत्य है...

    नीरज

    ReplyDelete
  30. आदरणीया दी.. आजकल ना चाह कर भी ब्लॉग दुनिया से दूरी बनाये रखनी पड़ रही है.. और कारण है कि समय कम और साथ में लैपटॉप पर बैठते ही आँखों और सर में दर्द.. इसलिए देर से आने के लिए क्षमा चाहता हूँ और साष्टांग दंडवत होकर प्रणाम करता हूँ, प्राणदान मांगता हूँ.. :) इस अनुज के ब्लॉग का उल्लेख करने के लिए यही कहूँगा कि जब नीरज सर जैसे दिग्गज अपने आप को साधारण की श्रेणी में रखते हैं तो मेरी औकात क्या है.. यहाँ पर सिर्फ आपके स्नेह की वजह से टिका हूँ और बाकी क्या है..

    ReplyDelete
  31. संगीता जी,


    कई बड़ी कविताओं को बाँचने का मौका मिला कुछ ऐसी भी कि जिनसे लेखन में प्रयोगों को सीखा जा सकता है।

    बहुत अच्छी चर्चा....कई महत्वपूर्ण लिंक्स मिले...

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    मेरी कविता को चर्चा में शामिल करने का आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin