Followers

Thursday, February 10, 2011

प्रेमाभिव्यक्ति का मौसम आया है ……………चर्चा मंच-425

आइये दोस्तों बासंतिक मौसम के संग चर्चा मंच के रंगों में कुछ देर भीगिये और मन को प्रफुल्लित कीजिये चर्चा मंच की वासंतिक बयार से 




दर्द का मौसम अभी आया नहीं

शायद तभी मन मेरा मुस्काया नहीं 

 

प्रेमाभिव्यक्ति का मौसम आया है 
मन को बहुत भाया है
 
पुरुषार्थ से ही संभावनाएं प्रबल होती हैं 
लायेगा परिवर्तन की बयार  
खुद को भुलावे में रखकर  
दर्द का दरिया बहा दिया 
दर्द अंगडाइयां लेता है  
दर्द उसी रोज़ अपनी इन्तिहाँ पूरी समझ लेगा 
 
महंगाई की महिमा निराली 
ठहाकों पर लगा दी पाबन्दी 
 
लीजिये मज़ा बसंत में सावन का  
और हम खामोश? 
यही है जनतंत्र 

अजी कैसे ?
 कुछ खट्टे कुछ मीठे 
मन भरमाते दिल को लुभाते  
मेरे घर दिवाली मन जाती है  
क्यों डरा रहे हैं ? 
 घर घर की कहानी 
अपनी यादें 
अपना खज़ाना 
लिबास तो बहाना होता है  
ये तो बिल्कुल सही कहा  
 अजी सवाल ही नहीं उठता 

आप ही बता दीजिये 

मक्खन-पालिश !!

पालिश हो तो ऐसी

मक्खन भी पिघल जाये


कुर्सी पे बैठा एक कुत्ता...खुशदीप 

शायरी का मारा 

मक्खन बेचारा 

 

 

दुःख का मूल कारण – अपेक्षा और उपेक्षा

बिल्कुल सही कहा 




एक रात कुछ यूँ गुजरे....वीरान कविता रचते

 और वक्त वहीँ थम जाए 

कुछ तो दिल की निकल जाये


एक प्रश्न दहेज़- प्रथा पर कितने ही निबंध लिखें होंगें उसने; 

पर क्या कोई इससे बच पाया 


जाने कितने पंछी उड़तेइस अंतर आकाश में, कुछ काले कुछ 

 अंतस के रंग 



परिवर्तन 

कौन नहीं चाहता 



जो वक्त ना कर सका
वो माँ कर गयी 
बेटे को नई 
ज़िन्दगी दे गयी  


 
 लय लागी है किस से अन्दर

वो ही है जो बसता उर अन्दर 

 

बसंत की पूर्वसंध्या - मेरी फोटोग्राफी - डॉ नूतन गैरोला -

मन आंगन भीग गया

 

ये बदलता स्वरुप

सब कुछ बदल गया

 

***प्यार को निभाना, बड़ी ही टेडी खीर है.***

आपको अब पता चला?

 

इन दिनों

 अघटित भी देख लेता हूँ 

मानव हूँ ना

एक रेखा खींच लेता हूँ


"खाकी क्या संवेदनाएं हर लेती है?"

शायद!!!!


जब नारी शील उघड़ने लगे——— मिथिलेश दुबे 
कुछ तो संभलिये 
मौसम का मज़ा 



35 comments:

  1. vividh vishyon ko samete hue sarthak charcha prastut karne me aap sidh hast hain .meri kavita ''ek prashan 'ko charcha me sthan dene ke liye hardik dhanywad .

    ReplyDelete
  2. आज की चर्चा बहुत सुन्दर ढंग से पेश की है आपने!
    बहुत अच्छे लिंकों का चयल किया गया है!

    ReplyDelete
  3. बेह्तरीन चर्चा प्र्स्तुति वन्दना जी !आभार !

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन चर्चा.... एक से बढ़कर एक लिंक दिए है आपने... आपकी मेहनत को सलाम...

    ReplyDelete
  5. हमेशा की तरह बेहतरीन.
    मुझे शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  6. velentine weak chal raha ho aur prem ki abhivyakti na ho aisa to ho hi nahi sakta.vandna ji aapne bahut hi khoobsoorti se aaj ke charcha manch ko prem ki aur unmukh kiya hai .links bhi achchhe liye hain .badhai...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर चर्चा....वन्दना जी... आभार

    ReplyDelete
  8. बहुत से अच्छे अच्छे लिंक मिले विविध रंग लिए हुए ! सार्थक चर्चा !मेरी कविता परिवर्तन को भी स्थान मिला, आभार !
    बसंत की शुभकामनाएँ एवं धन्यवाद !

    ReplyDelete
  9. hamesha ki trah bahut achchhi charchaa sajay aapane aur aaj ka rang to bilkl mausam k anukool hai . Thanks for selecting my blog.

    ReplyDelete
  10. अच्छे लिंक्स -सुंदर प्रस्तुति. आभार .

    ReplyDelete
  11. चुनिन्दा पठनीय लिंक्स. आभार...

    ReplyDelete
  12. sundar charcha ..vandna ji....
    धन्यवाद ..मेरी भी एक पोस्ट है... मेरी पोस्ट को चर्चा में जगह दी आपने .. आपका तहे दिल शुक्रिया ...
    अन्या लिंक भी में देख रही हूँ...

    ReplyDelete
  13. हमेशा की तरह बेहतरीन.
    मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  14. मेरी कविता को शामिल करने हेतु अभारी हूँ प्रयास रहेगा की कुछ और सार्थक विषयों पर लिख सकूँ

    ReplyDelete
  15. आपकी चर्चा की बानगी देखी, बेहतरीन लिनक्स विभिन्न रंगों को समेटे,सार्थक चर्चा , वंदना जी धन्यवाद्

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छे लिंक्स , बहुत ही अच्छी चर्चा , आभार वन्दना जी।

    ReplyDelete
  17. आदरणीय वंदना जी,
    सभी लिंक्स बहुत ही अच्छे हैं.
    मेरी कविता को यहाँ स्थान देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.

    सादर

    ReplyDelete
  18. आज एक बार फिर से मै आपकी तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ की आपकी मेहनत और लग्न आज फिर से मुझे यहाँ जोड़ने और सबसे मिलवाने ले आई मै आपकी इस कोशिश और निस्वार्थ भाव से किये गये काम की शुक्रगुजार हूँ !
    शुक्रिया दोस्त !

    ReplyDelete
  19. एक अच्छी प्रस्तुति से मौसम का मज़ा दोगुना हो जाता है। पता नहीं क्यों मन और पाने की ज़िद कर रहा था, शायद दो -चार राग-रंग और होते तो मौसम और भी खिला-खुला लगता। शायद यह ज़िद मौसम का ही कारनामा है।

    ReplyDelete
  20. अच्छी है जी चर्चा भी ...

    ReplyDelete
  21. वंदना जी...बहुत ही सुंदरता से सजाया है आपने आज का चर्चा मंच....बहुत खुब।

    ReplyDelete
  22. बेहतरीन चर्चा........आभार

    ReplyDelete
  23. बेहतरीन चर्चा वंदना जी ! आभार.

    ReplyDelete
  24. बहुत ही सुन्‍दर चर्चा ...एवं बेहतरीन लिंक ।

    ReplyDelete
  25. बहुत ही बेहतरीन चर्चा वंदना जी । शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  26. "इन दिनों " कविता अरुणजी की बेहतरीन रचनाओं में से एक है . संवेदना के शिखर पर कवि मन आज की परिस्थितियों में खोते जा रहे जीवन मूल्यों के प्रति आशंकित और चिंतित है . वंदनाजी को बधाई कि चुन चुन कर मंच सजाया है .

    ReplyDelete
  27. वंदना जी,

    आज की चर्चा में बहुत अच्छे लेखों से रूबरू हुई. सभी अपने आप में बहुत सही रहे. ये मंच ही अब मेरी दृष्टि में ऐसा मंच है जहाँ पर चुने हुए और सार्थक आलेखों को लेकर प्रस्तुत किया जाता है.
    मेरे आलेख को सम्मिलित करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  28. बहुत से खूबसूरत लिँकोँ के रंगोँ मेँ रंगा आज का चर्चा मंच मन को मोह रहा है । होली से पहले ही यहाँ होली मन गई ।
    आपकी लगन और कौशल कमाल कर गया वन्दना जी !

    बहुत बहुत आभार ।

    ReplyDelete
  29. मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार क्या मेरी रचना वास्तब में इस लायक थी या यूँही ?

    ReplyDelete
  30. बेहतरीन लिंक्स और सुन्दर चर्चा के लिए आभार वंदना जी ।

    ReplyDelete
  31. अच्छा संग्रह ,एक ही जगह पर इतने लोगों की रचनाएँ मिली . एक-से बढकर एक . सम्पादक को भी बधाई .
    ----- sahityasurbhi.blogspot.com

    ReplyDelete
  32. 'Parhit saras dharam nahin bhaai' ko sahi maayno me aatmsaat kiye hue Charchamanch aage badh raha hai.. blog-media ka kaam karta ye manch yoon hi aage badhta rahe. aabhar Vandna ji.

    ReplyDelete
  33. वन्दे मातरम वन्दना जी,
    हमेशा की तरह बेहतरीन.
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...