समर्थक

Thursday, February 03, 2011

मरने की भी फ़ुर्सत नही………चर्चा मंच- 418

दोस्तों ,
स्वागत है आपका आज ३ फरवरी की चर्चा में .............ज्यादा बात नहीं कर सकती आजकल मरने की भी फुरसत नहीं मिल रही इसलिए चलिए सीधे चर्चा मंच की ओर 

 महिमा बड़ी प्यारी 
जिसको माने नर नारी 
 और फिर सृजन 
नयी कविता का होना
समय नया सोच वही 
फिर कैसे कहो मानसिकता बदली

जब दिल में दर्द होता है
तब ही  ग़ज़ल होती है
जब शब्द खामोश हो जाएँ 
तब मौन ही मुखर हो जाये 


गर जलाई जातीं तो 
ये नौबत कभी ना आती 
उजड़े हुए दयारों को कौन देखता है 
 बिन पर की परवाजों को कौन देखता है 
एक बार देखना आकर 
कैसे जीती हैं अमर सुहागिन 

एक अनुभव आस का 
एक अनुभव विश्वास का

 संपूर्ण होते हुए भी अपूर्ण 

और फिर अंजाम के लिए तैयार रहें 

प्रेम को किसने जाना है
प्रेम को किसने पहचाना है
फिर प्रेम का गीत गाते हैं 
ये प्रेम के ही नाते हैं

 पता नहीं जी आप ही बता दीजिये ना 

और एक हँसी बिखेर गया 

करो मनुष्यता का सम्मान 
खुद-ब-खुद मिल जायेगा मान

संबंधों की डाली पर 
खिलती जीवन की क्यारी


जब लगे हो पहरे 
फिर कैसे बहार आएगी 

नए पुराने को छोड़ो 
दिल से नाता जोड़ो

कब किसने जाने 
कब किसने माने

शायद तभी मोहब्बत आज नचाती है 
अपने इन्द्रधनुषी रंग दिखाती है 
कब तक लगाओगे 

फिर उसके बाद 
प्रेम को फिर साकार करूँ 

अहसास के साथ 
अहसास के लिए
तुम यही तो हो

या बात करूँ 
कैसे मौन को 

ध्यान दीजिये 
अपना भी 
कल्याण कीजिये 

 सरकारे तो यहाँ सोती हैं
जनता ही मरती है तो फिर 
गलती जनता की ही होती है 

 कुतर्कियों के सिर पर चढा प्रोटीन का भूत ( माँसाहारियों द्वारा फैलाया जा रहा अन्धविश्वास)कोई झाड़ फूंक करवाएं
किसी बाबा को बुलवाएँ
प्रोटीन के इस भूत

कहो फिर कैसे दूर करें ?


चलिए दोस्तों .........अब इजाजत चाहती हूँ .............आपके विचारों के प्रतीक्षा में .

31 comments:

  1. चर्चा सुन्दर है पर यहाँ एक बात कहना चाहूँगा ...

    चुनते वक्त चोर उच्चकों को चुनती है
    जनता अपनी गलती से ही मरती है
    सरकार सोयेगी क्यूंकि हम नहीं जागेंगे
    सोते रहोगे तो चोर नहीं भागेंगे

    ReplyDelete
  2. हमेशा की तरह बेहतरीन ...
    चर्चा में शामिल किये जाने का बहुत आभार !

    ReplyDelete
  3. vandana ji thanks a lot . aapne apni wyastataa ke baawjood , bahut achchhi charchaa ki hai . aabhaar .

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर लिंको से सजी हुई बेहतरीन चर्चा!
    अब तो यह लिंक पढ़ने के लिए
    फुर्सत निकालनी ही पड़ेगी!

    ReplyDelete
  5. वन्दना जी, हमेशा की तरह आपके माथे के पसीने की बूंदे चर्चा मंच की पोस्ट बगिया के फूलों पर ओस की बूंदों की तरह चमक रही हैं .आपकी मेहनत को सलाम.
    मेरी रचना शामिल करने के लिए तहे दिल से शुक्रिया.

    ReplyDelete
  6. इस बार बहुत पोस्टें पढ़ी हुयी मिलीं।

    ReplyDelete
  7. वंदना जी ,
    चर्चा मंच पर लाने के लिए बहुच बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. सुंदर चर्चा वंदना जी ..... शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  9. vicha ki prateeksha aap kyon karen vichar hi aapki prastuti ka intzar karen.hamesha ki hi tarah bahut achhi prastuti.achchhe links thode dekhen hain thode abhi dekhoongi.bahut bahut aabhar....

    ReplyDelete
  10. वंदना जी ....चर्चा मंच पर लाने का शुक्रिया .....सुन्दर चर्चा ....

    ReplyDelete
  11. .

    चर्चाकार वन्दना जी,

    फुरसत नहीं है आपको
    कितने महीनों से.
    वास्ता फिर भी पड़े
    इतने नगीनों से.

    .

    ReplyDelete
  12. bahut achchhi charcha .meri kavita ''amar suhagan'v meri laghu katha ''samay naya -soch vahi ' ko charcha me sthan dene ke liye hardik dhanywad .

    ReplyDelete
  13. वंदना जी !! बहुत सार्थक और सरल चर्चा .

    एक जरूरी सूचना

    हमने पोस्ट बनाते समय अपने दिमाग का कंप्यूटर ओन नहीं किया था ! सो गलती होना लाज़मी था|
    मेरी चर्चा शुक्रवार को होती है और मैंने ब्रहस्पतवार को ही चर्चा शुक्रवार समझ पोस्ट कर दी ... अतः अब वही पोस्ट कल पुनः प्रस्तुत करुँगी |

    जिनकी पोस्ट मैंने ली थी और आज के लिए सूचित किया था ..वो पोस्ट कल होगी| आप कल भी आयें | गलती के लिए माफ़ी मांगूंगी .. और वंदना जी से भी कि मैंने उनकी चर्चा की जगह अपनी चर्चा प्रसारित कर दी थी|

    ReplyDelete
  14. हमेशा की तरह बेहतरीन चर्चा ।

    ReplyDelete
  15. वंदना जी सदा की भांति इसबार भी आपका साहित्यिक गुलदस्ता लाजवाब है.सारा नहीं पढ़ पाया हूँ.आराम से पढूंगा.
    "पर चुनते वक्त चोर उच्चकों को चुनती है
    जनता अपनी गलती से ही मरती है" जैसी रचनाएँ हमारी "inrtia" पर सटीक प्रहार करती हैं.मेरी रचना को चर्चामंच पर स्थान देने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  16. आपके पसंदीदा लिंक अच्छे हैं !

    ReplyDelete
  17. आज तो इतना ही .......इतने सारे लिंक हम तक चर्चा मंच के माध्यम से पहुचने के लिए आपका शुक्रिया

    ReplyDelete
  18. सुंदर चर्चा। बेहतरीन लिंक्स। गुणवत्तापूर्ण ब्लॉग्स का संकलन।
    हमें स्थान देने का शुक्रिया।

    ReplyDelete
  19. चुनिन्दा लिंक्स तक पहुंचाने के लिये आभार...

    ReplyDelete
  20. वंदना जी सुंदर लिंक्स के लिए धन्यवाद्, व्यस्त समय में, आपने चर्चा में बुला ही लिया. सामयिक एवं उद्देलित करने वाली रचनाये पढने को मिली.. शेष फिर किसी अन्य चर्चा में

    ReplyDelete
  21. अच्छे लिंक्स मिले ..सुन्दर चर्चा.

    ReplyDelete
  22. सुन्दर लिंको से सजी हुई बेहतरीन चर्चा!
    आभार !

    ReplyDelete
  23. सुन्दर लिंक्स सी सजी बेहतरीन चर्चा..आभार

    ReplyDelete
  24. वंदना जी ,
    आपने व्यापक विषय चुने हैं कविता से ज्योतिष तक प्रयास बहुत सराहनीय है और आप इतना समय निकाल पाती हैं उसके लिए बधाई की पात्र हैं

    ReplyDelete
  25. bahut achchi-achchi cheezen padhne ko mili.dhanywad.

    ReplyDelete
  26. Vandana Jee,
    Apne mere dwara ek gambheer samajik vishay "Bal Sex Bill" par likha gaya akrosh lekh ko apne Charcha manch par sthaan dekar ise deshhit me samaj me laane kaa kary kiyaa.. mera post aapke Charcha manch par post hone ke karan uski feeds dekhiye ? abhi tak 500 log use padh chuke hai aur 30 ke aaspas commnents bhi prapt huye.. is gambheer mudde par log sakriya ho rahe hai aapke sahayog ke karan .. aapko dhanyawad to nahi kahunga waran badhaayee dunga....

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin