चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, April 09, 2013

मंगलवारीय चर्चा ---(1209)--करें जब पाँव खुद नर्तन

                                    आज की मंगलवारीय  चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते , ,आप सब का दिन मंगल मय हो अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लॉग्स पर

                  ब तक तुम मिलो हमसे, न उम्र की शाम हो 

                                             जाए.

                                              अक्षिता (पाखी) अब क्लास वन में...











                                     जहरीले चूहे




                       और मैं सीखती ही जाती हूँ......


                                परम स्वतंत्रता है मानव को



                                Anita at डायरी के पन्नों से 


                                    करें जब पाँव खुद नर्तन
         

                                         न्याय के लिए साथ आये


सीमातीत का गीत


                                        दलालों की दलाल हो गई है मीडिया !


                                                  सच कुछ भी नहीं


                                              तो क्या 

                                                  ...........

                   Shalini Rastogi at मेरी कलम मेरे जज़्बात 




                                                 वैसे तुम कहाँ हो अब ...



"भारत की नारी"

                                  डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)



                                                           सपना और तुम





आज की चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ  फिर चर्चामंच पर हाजिर होऊँगी  कुछ नए सूत्रों के साथ तब तक के लिए शुभ विदा बाय बाय ||
आगे देखिए... "मयंक का कोना"
(1)
(2)
(3)
(4)

28 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    बहन राजेश जी आपने बहुत परिश्रम से मंगलवार का चर्चा मंच सजाया है। मंगलवारीय चर्चा ---(1209)--करें जब पाँव खुद नर्तन
    आपकी चर्चा में दिन-प्रतिदिन निखार आता चला जा रहा है।
    बहुत-बहुत आभार!

    ReplyDelete
  2. भाई जी
    आभार
    फौरन से पेश्तर पोस्टिंग....
    कैसे कर लेते हैं आप
    ईश्वरीय देन हा आप में
    एक बार फिर आभार
    मेरी पसंदीदा रचना देख कर आल्हदित हुई
    सादर

    ReplyDelete
  3. सुन्दर चर्चा आदरणीया ||

    ReplyDelete
  4. अच्छे अच्छे पठनीय लिंकों से सजी सुन्दर चर्चा !!
    सादर आभार !!

    ReplyDelete
  5. राजेश कुमारी जी,
    हृदय से आपका आभार !

    यशोदा,
    'भाई जी ?
    सुधार लो नहीं तो पिट जाओगी :)
    राजेश जी, यशोदा की तरफ से मैं माफ़ी मांग लेती हूँ , लगता है नाम के कारण ये कंफ्यूजन हुआ है।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही बेहतरीन चर्चा,सार्थक पठनीय लिंकों के चयन के लिए आभार.

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन चर्चा ...

    ReplyDelete
  8. आकर्षक चर्चा,
    सभी लिंक्स एक से बढ़कर एक
    मुझे जगहदेने के लिए आभार

    ReplyDelete
  9. सुंदर पठनीय सूत्र ..... शामिल करने का आभार

    ReplyDelete
  10. बहुत लाजबाब सुंदर लिंक्स संकलन!!!

    RECENT POST: जुल्म

    ReplyDelete
  11. kaafi links mile achchi charcha aabhar

    ReplyDelete
  12. राजेश जी, सुंदर चित्रों से सजा मंच, आभार !

    ReplyDelete
  13. राजेश जी
    मेरी इस पोस्ट को यहाँ प्रस्तुत करने हेतु आपका हार्दिक आभार .

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  15. राजेश कुमारी जी आभारी हूँ कि आपने मेरे आलेख को आज के चर्चा मंच पर स्थान दिया ! विषय इतना गंभीर है कि मुझे इस पर पाठकों की प्रतिक्रिया की अपेक्षा है ! आपका धन्यवाद !

    ReplyDelete
  16. @ स्वप्न मञ्जूषा शैल जी!
    बहन यशोदा अग्रवाल ने यह टिप्पणी मेरे लिए लिखी है!
    क्योंकि मैं "मयंक का कोना" चर्चा के अन्त में रोज ही लगाता हूँ
    और उसमें बिल्कुल नवीनतम लिंक लगाता हूँ।
    यशोदा जी की पोस्ट 5 मिनट पहले ही प्रकाशित हुई थी
    और उसको मैंने चर्चा में "मयंक का कोना" में
    तुरन्त ही लगा दिया था।
    इसीलिए उन्होंने ऐसा लिखा है। मेरे लिए...!

    ReplyDelete
    Replies
    1. इसी को तो कहते हैं चौबे गए छब्बे बनने दूबे बन के आये :)

      Delete
  17. बहुत बढ़िया प्रस्तुति .राजेश कुमारी जी ,धन्यवाद, आपने मेरी रचना को चर्चा मंच में स्थान दिया है

    ReplyDelete
  18. सुन्दर लिंक्स...रोचक चर्चा..आभार

    ReplyDelete
  19. http://indianwomanhasarrived.blogspot.in/2013/04/blog-post_9.html

    एक एक्टिविस्ट - नारी ब्लॉग
    Activism consists of efforts to promote, impede, or direct social, political, economic, or environmental change, or stasis.

    अगर आप को लगता हैं की "नारी ब्लॉग " ने पिछ्ले कुछ सालो में हिंदी ब्लॉग जगत में एक एक्टिविस्ट की भूमिका निभाई हैं तो आप इस लिंक पर जा कर नारी ब्लॉग को वोट दे सकते हैं

    https://thebobs.com/hindi/category/2013/best-blog-hindi-2013/

    ब्लॉग एक्टिविज्म के लिये नारी ब्लॉग का नोमिनेशन भी नारी ब्लॉग के पाठको ने किया हैं और वोट भी वही दे कर नारी ब्लॉग को आगे ले जा सकते हैं

    https://thebobs.com/hindi/category/2013/best-blog-hindi-2013/



    कुछ जानकारियाँ आप की सुविधा के लिये

    क्या है बॉब्स


    क्या है बॉब्स
    डॉयचे वेले के अंतरराष्ट्रीय ब्लॉग पुरस्कार बेस्ट ऑफ ब्लॉग्स में 12 भाषाओं के उन ब्लॉग को पुरस्कृत किया जाता है जो इंटरनेट में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और खुले विचार पेश करते हैं. बॉब्स की शुरुआत 2004 में हुई. उस वक्त इसका मकसद था इंटरनेट में सूचना के नए तरीकों को बढ़ावा देना, नए मिसालों को पहचानना और अलग अलग भाषाओं में सूचना के नए तरीकों को बढ़ावा देना.
    इस पुरस्कार के जरिए डॉयचे वेले कोशिश करता है कि खुली बहस हो और मानवाधिकारों को इंटरनेट में बढ़ावा मिल सके.

    सर्वश्रेष्ठ ब्लॉग
    इस श्रेणी में उस ब्लॉग को सम्मानित किया जाता है जो मानवाधिकार को बढ़ावा देता है और सार्वजनिक हित वाले मुद्दे उठाता है.
    सामाजिक हित के लिए तकनीक का बेहतरीन इस्तेमाल

    जनता पुरस्कार
    लोगों की वोटिंग के मुताबिक हर नामांकित ब्लॉगर को यह पुरस्कार दिया जाता है. जिस ब्लॉग या प्रोजेक्ट को सबसे ज्यादा वोट मिलते हैं, उसे इनाम दिया जाता है.

    ReplyDelete
  20. दीदी आपको बधाई
    इतने सुंदर links को सजाने के लिए
    गुरु जी आपको आभार मेरी रचना को चर्चा मंच पर लाने के लिए

    ReplyDelete
  21. achchi rachnaayen....achcha laga yahan padhna

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सुन्दर चर्चा..

    ReplyDelete
  23. आप सब का हार्दिक आभार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin