समर्थक

Monday, April 08, 2013

''पहली गुज़ारिश '' : चर्चा मंच 1208

शुभम दोस्तों ......
मैं सरिता भाटिया हाजिर हूँ 
आज की चर्चा 
के साथ 
और 
आप सबसे 
करती हूँ गुज़ारिश..!
बहुत कम सूत्र पिरोए हैं 
आज की सोमवारीय चर्चा में 
ताकि आप सब सूत्रों तक पहुंचकर 
अपना स्नेह दे सकें...!
तो आइए 
चर्चा की तरफ बढ़ाएं पहला कदम 
के साथ    
रेखा जोशी 
My Photo
 
[Scenery2996.jpg]
  
आर्यावर्त
बांटन बैठे दोस्तो ,बांटो हाथ मिलाए|
जग भला तो सबहि भला ,फिर काहे घबराए || 
कठिया गेहूं
पहली चर्चा में काफी त्रुटियाँ होंगी 
उन्हें सुधारने की पूरी कोशिश रहेगी 
को दीजिए 
इजाज़त 
शुक्रिया 
बड़ों को नमस्कार

30 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    वाह-वाह..सरिता भाटिया जी ''पहली गुज़ारिश '' : चर्चा मंच 1208 पहली ही चर्चा में आपने अपने श्रम का कौशल दिखा दिखा दिया।
    दोहों मं यद्यपि कुछ मात्राओं का हेर-फेर है मगर आपने अच्छा प्रयास किया है।
    कालान्तर में सुधार होता जायेगा।
    आपका बहुत-बहुत आभार और मेरी ओर से साधुवाद!

    ReplyDelete
  2. नये अंदाज में लिंक्स की सुंदर प्रस्तुति अच्छी लगी

    ReplyDelete
  3. पहली चर्चा भी काफी लकदक है !

    ReplyDelete
  4. सरिता जी के अंदाज़ के क्या कहने ! बहुत ही शानदार चर्चा मंच सजाया है उन्होंने और अपनी पहली चर्चा से ही सिक्का जमा दिया है ! मेरे आलेख को आपने अपने कोने में हिस्सा दिया आभारी हूँ शास्त्री जी ! आपका बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  5. नए अंदाज़, नए कलेवर और नयी सोच के साथ चर्चा पेश की है सरिता जी, बहुत बहुत बधाईयाँ.

    मेरी रचना को आपकी इस पहली चर्चा में स्थान देने के लिये धन्यबाद. एक एक कर सारी रचनाएँ पढ़ने जा रही हूँ.

    ReplyDelete
  6. सरिता जी आपका स्वागत! बहुत सुन्दर लिंक संयोजन और लाजवाब प्रस्तुति! बधाई आपको।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति, बधाई

    ReplyDelete
  8. चर्चा मंच पर सहयोग देने के लिए आपका स्वागत है.बहुत ही बेहतरीन अंदाज में सुन्दर पठनीय लिंकों की प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  9. बहुत उम्दा चर्चा प्रस्तुत ..... अच्छे लिनक्स मिले

    ReplyDelete
  10. पहली ही चर्चा में कमाल कर दिया। बहुत अच्छी कोशिश।

    ReplyDelete
  11. सरिता जी की पहली चर्चा का अंदाज भिन्न है।
    अच्छे लिंक्स के साथ ही शानदार प्रस्तुति
    आपको ढेर सारी शुभकामनाएं
    आद. शास्त्री जी के मयंक का कोना में मुझे शामिल करने के लिए आभार..

    ReplyDelete
  12. सरिता जी ,बहुत बढ़िया प्रस्तुति चर्चा मंच की ,,मेरी रचन ko स्थान देने के लिए हार्दिक आभार ,भजन सुन कर बहुत आनंद आया ,हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  13. सरिता जी पहली चर्चा और वो भी सुन्दर और पठनीय लिंकों के संयोजन के साथ प्रस्तुत करनें के लिए सहर्ष आभार !!

    ReplyDelete
  14. पहली चर्चा आपकी, बड़ी सुहानी लाग ।
    अच्छे अच्छे सूत्र से, सजी सजी है बाग़ ।।

    आदरणीया सरिता जी चर्चा मंच पर आपका स्वागत है पहली चर्चा में ही आपने खूब मेहनत की है और आपकी मेहनत रंग भी लाई है. निःसंदेह आप एक अच्छी चर्चाकार साबित होंगी चर्चामंच के लिए. आप बधाई की पात्र हैं मेरी ओर से ढेरों बधाई स्वीकारें....

    ReplyDelete
  15. प्रिय सरिता जी पहले तो आपका हार्दिक स्वागत है दूसरे आपकी सुन्दर व्यवस्थित दोहात्मक चर्चा के लिए हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  16. सुन्दर प्रस्तुति -
    स्वागत है आपका आदरेया-चर्चा मंच पर-
    सादर ||

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया। इस हेतु आपका धन्‍यवाद।

    ReplyDelete
  18. चर्चा मंच पर सरिता जी एवं शशि जी का हार्दिक स्वागत।

    हमारी पोस्ट को शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद!


    सादर

    ReplyDelete
  19. सरिता भाटिया जी ने तमाम सेतुओं को दोहावली में पिरोके नया अंदाज़ नया तेवर दिया है चर्चा मंच को .काव्यात्मक चर्चा मंच और भी निखर संवर गया है .

    ReplyDelete
  20. घूरा ते घूर बिनिया मीलो माल बनाए ।
    उड़न खाट बौराए ते धरनी दे पटकाए?॥

    ReplyDelete
  21. बहुत बढ़िया अंदाज़..सार्थक चर्चा प्रस्तुति
    आभार....

    ReplyDelete
  22. सुन्दर प्रस्तुति, ....................बधाई

    ReplyDelete
  23. most welcome sarita ji and thanks mayank ji to take my post here.

    ReplyDelete
  24. सरिता जी ,बहुत बढ़िया प्रस्तुति

    ReplyDelete
  25. दोस्तो आप सब ने जो दिल खोल कर स्वागत किया एवं स्नेह दिया वो अतुलनीय है ,
    गुरु जी के चयन को मैं कुछ हद तक साबित कर पाई उसकी प्रसन्नता है
    ऐसा ही साथ एवं स्नेह देते रहें
    तहेदिल से आप सबकी आभारी हूँ
    मिलती हूँ अगली सोमवारीय चर्चा का साथ
    शुभरात्रि ...शब्बा खैर ....

    ReplyDelete
  26. बहुत बेहतरीन सुंदर सूत्र संयोजन ,,,के लिए सरिता जी बहुत२ बधाई !!!

    RECENT POST: जुल्म

    ReplyDelete
  27. बहुत ही सुन्दर सूत्र।

    ReplyDelete
  28. बेहतरीन प्रस्तुति
    पधारें "आँसुओं के मोती"

    ReplyDelete
  29. सरिता जी ....
    आपका इस उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति एवं लिंक्‍स संयोजन का आभार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin