साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Thursday, August 07, 2014

चर्चा - 1698

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
चलते हैं चर्चा की ओर 
मेरा फोटो
 
My Photo
My Photo
My Photo
मेरा फोटो

आभार 

13 comments:

  1. शुभ प्रभात
    चर्चा-मंच की उम्दा प्रस्तुती
    आभारी हूँ .... मेरे लिखे को मान और स्थान देने के लिए ....
    बहुत बहुत धन्यवाद आपका

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद आदरणीय दिलबाग विर्क जी।
    --
    ब्लॉगों की अद्यतन गतिविधियों के सुमनों को
    आपने सुन्दरता से चर्चा की माला में पिरोया है।

    ReplyDelete
  3. बढ़िया चर्चा -
    आभार भाई जी-

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन लिंकों के साथ बहुत ही सुन्दर चर्चा, आभार आदरणीय।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर चित्रांकित लिंक्स प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर एवं सार्थक सूत्र ! मेरी रचना को इस मंच पर स्थान दिया आभारी हूँ दिलबाग जी ! धन्यवाद आपका !

    ReplyDelete
  7. बढ़िया सूत्र पिरोये हैं। … स्थान देने के लिए दिल से आभार ...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर सूत्र सुंदर चर्चा दिलबाग ।

    ReplyDelete
  9. sundar links.....sthan dene kay liye shukriya

    ReplyDelete
  10. नमस्कार, सभी लिंक्स कि सुंदर प्रस्तुति और आपने जिस प्रकार इन्हें पिरोया है इनकी सुंदरता और निखरकर सामने आई है।
    सुंदर चर्चा।
    आभार।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर. आभार!

    ReplyDelete
  12. Sundar links,meri rachna ko sthaan dene par apki abhari hun ,dhnyvaad

    ReplyDelete
  13. खुबसूरत चर्चा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...