Followers

Sunday, August 03, 2014

"ये कैसी हवा है" :चर्चा मंच :चर्चा अंक:1694

इमारतें खंडहर हुई जाती हैं
मुस्कानें जहर हुई जाती हैं
ये कैसी हवा है मेरे चमन की
हर सहर कहर हुई जाती हैं
बदल दो इस तालाब का पानी
मछलियां मगर हुई जाती हैं
द्रौपदी लुटती है आज बाजारों में
अंधी कृष्ण की नज़र हुई जाती है
पत्थरों के इस शहर में
मेरी आवाज बेअसर हुई जाती है 
(साभार : अनिता श्रीवास्तव)
---------------------------
नमस्कार !
रविवारीय चर्चा मंच में आपका स्वागत है.
एक नज़र आज की चर्चा में प्रस्तुत लिंकों पर.....
---------------------------------
विभा रानी श्रीवास्तव 

-------------------------------
हिमकर श्याम 

-----------------------------------
यशवंत 'यश'

--------------------------------------------
उपासना सियाग 
My Photo

--------------------------------------
सुषमा 'आहुति'

----------------------------
गौतम राजरिशी
My Photo

---------------------------------
मन के - मनके 

----------------------------------
अर्चना चावजी
My Photo

----------------------------
राकेश कुमार श्रीवास्तव 

-------------------------------
हर लेता हर कंटक पथ का
अनिता 


-----------------------------
अन्तहीन है ज्ञानस्रोत
प्रवीण पाण्डेय
praveenpandeypp@gmail.com

-----------------------------
रंगत , अंडमान का सुंदर कस्बा
मनु प्रकाश त्यागी 
rangat jetty office

---------------------------------
अनोखी दवा – The Wonderful Medicine
निशांत मिश्रा 
grandmother

------------------------------------
खुशी के चार रंग............यशोदा
यशोदा अग्रवाल 



----------------------------------------

धन्यवाद !

11 comments:

  1. सुप्रभात
    उम्दा सूत्र और उनका संयोजन |

    ReplyDelete
  2. अच्छे लिंकों के साथ पठनीय चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय राजीव कुमार झा जी।

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रेरक रचनाएँ,'बदल दो इस तालाब का पानी जिसके पानी में मछलिया मगर हुई जाती हैं.'

    ReplyDelete
  4. शुभ प्रभात भाई राजीव जी

    अच्छी रचनाएँ जोड़ी है आज आपने

    आभार

    सादर

    ReplyDelete
  5. अच्छी रचनाएँ .....उम्दा

    ReplyDelete
  6. बढ़िया लिंक्स व बेहतर प्रस्तुति , आ. राजीव भाई , शास्त्री जी व मंच को धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  7. पठनीय सूत्र राजीव जी, बधाई इस सुंदर चर्चा के लिए, आभार !

    ReplyDelete
  8. आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
    अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
    अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
    मोडरेटर
    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

    ReplyDelete
  9. राजीव जी, नमस्कार। सुंदर और सार्थक लिंकों के चयन के साथ बेहतरीन चर्चा. मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका आभार.

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ...आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...