Followers

Sunday, August 31, 2014

"कौवे की मौत पर" :चर्चा मंच :चर्चा अंक:1722

जाने कहाँ से एक कौवा उड़ता हुआ आया
और लोकल से कुछ कहने के प्रयास में
जा टकराया
बिजली के नंगे तार से

दोनों हाथ हवा में उठाकर
रे-रे-अरे करती,
कौवे को रोकने की कोशिश में
रूक गई लोकल
जाने कहाँ गुम हो गए बोल

टूटे तार से फूट कर निकली
गुस्से से भरी बिजली की लुतियां
हवा में पसर गई
पंख/चमड़ी
और रक्त की मिली-जुली गंध
पल भर में इस तरह झुलसा दिया उसे
जैसे जंगल की आग में गिरा हो उड़ता हुआ

कौवा,जलने के बाद
लटक रहा था बिजली के खंभे से बेजान
इस तरह खुली थी उसकी चोंच
जैसे पूछना चाहता था / जलते हुए भी

कौवे की मौत का / क्या मातम मनाए लोकल
जब रोज मरते हों आठ से दस लोग
कुछ गिरकर, कुछ कटकर
और कुछ झुलस कर

उसकी निगाहें टिकी थीं
डी सी से ए सी हुए
पचीस हजार वोल्ट के उस हत्यारे तार पर
जिसके नीचे से कल बारिश में गुज़रते
छाते में करेंट आ गया था और बच्चे के संग
झुलस गई थी एक औरत

(साभार : निलय उपाध्याय) 
------------------------
नमस्कार !
इस महीने की अंतिम चर्चा में आपका स्वागत है.
एक नज़र आज की चर्चा में शामिल लिंकों पर....
---------------------------
चैतन्य
रश्मि प्रभा 

---------------------
हमसफ़र सपने
हिमकर श्याम 

--------------------
"जो निशां मैं तेरे दिल-ओ-जहन पे छोड़ आई थी"
परी 'ऍम' श्लोक 

-------------------
बहाना ख़राब है !
सुरेश स्वप्निल
मेरा फोटो
----------------------
सुमिरन की सुधि यों करो ,ज्यों गागर पनिहारी ; बोलत डोलत सुरति में ,कहे कबीर विचारि।
वीरेन्द्र कुमार शर्मा 
Image result for photos of paniharin only
------------------
तुम्हारी चाहना
सु..मन 

----------------
क्या ये हमारी संस्कृति के अंग नहीं हैं ?
महिमा श्री
undefined
-----------------
छूट गये दर्ज़ होने से
अलकनंदा सिंह 

--------------------
हमारे रक्षक हैं पेड़ !
कालीपद प्रसाद 

-------------------
"जय-जय-जय गणपति महाराजा" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

---------------------
कभी ‘कुछ’ कभी ‘कुछ नहीं’ ही तो कहना है
सुशील कुमार जोशी 

--------------------
कुँआरी नदी
प्रतिभा सक्सेना 

---------------
" खारापन बसने लगा मिठास खो रही हूँ "
विजयलक्ष्मी 

--------------------
कुछ दिल से
अंशु त्रिपाठी 

----------------
१३७. नाटक
ओंकार 

-------------------
साझीदार
अनिता 

-------------------
मीठे शब्द
अपर्णा खरे 

--------------------
तन्हाईयाँ Tanhayiyan
नीरज द्विवेदी 

--------------------
कृपया छुट्टे पैसे देवें
कीर्तिश भट्ट 

---------------------
एक अनुरोध :  गूगल +  प्रोफाइल वाले ब्लॉग का कमेंट विंडो नहीं खुल पाने के कारण, ब्लॉगर को यहाँ शामिल पोस्ट की जानकारी देना संभव नहीं हो पाता है.ब्लॉगर मित्रों से अनुरोध है कि यदि संभव हो अपने ब्लॉग का प्रोफाइल गूगल + से ब्लॉगर प्रोफाइल कर लें.

धन्यवाद !

16 comments:

  1. बहुत सुन्दर और मनभावन चर्चा।
    --
    आपका आभार आदरणीय राजीव कुमार झा जी।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा और लिंक्स

    ReplyDelete
  3. "कौवे की मौत पर" बहुत मार्मिक रचना. बधाई पठनीय सूत्रों से परिचय करने के लिए, आभार !

    ReplyDelete
  4. बढ़िया प्रस्तुति व लिंक्स , आ. राजीव भाई , शास्त्री जी व मंच को धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति। …आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर चर्चा ! मेरी रचना को शामिल करने केलिए आभार !

    ReplyDelete
  7. निलय जी की सुंदर अभिव्यक्ति के साथ पेश की गई आज की सुंदर चर्चा में 'उलूक' के सूत्र 'कभी ‘कुछ’ कभी ‘कुछ नहीं’ ही तो कहना है' को भी स्थान देने के लिये आभार राजीव ।

    ReplyDelete
  8. आज का संयोजन बहुत ही रोचक है !

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर ...चर्चा .. चर्चामंच पर मेरे आलेख को शामिल करने लिए हार्दिक आभार आदरणीय राजीव सर

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन संकलन किये है सर

    ReplyDelete
  11. कुछ बहुत सुन्दर लिंक्स के साथ मेरी रचना का लिंक भी देने के लिए बहुत आभार।

    ReplyDelete
  12. सुंदर लिंक्स, सार्थक चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका आभार।

    ReplyDelete
  13. sunder sanyojan....meri rachna ko sthaan dene ka aaabhaar

    ReplyDelete
  14. शुक्रिया हमारा सेतु शरीक करने के लिए सुन्दर समायोजन सभी सेतुओं का आपने किया है।

    ReplyDelete
  15. Thanks for sharing, nice post! Post really provice useful information!

    An Thái Sơn chia sẻ trẻ sơ sinh nằm nôi điện có tốt không hay võng điện có tốt không và giải đáp cục điện đưa võng giá bao nhiêu cũng như mua máy đưa võng ở tphcm địa chỉ ở đâu uy tín.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।