साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Thursday, August 28, 2014

जनता को समझदार और सहिष्णु होना ही होगा { चर्चा - 1719 }

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
कहीं कोई देश को सिर्फ हिन्दुओं का बनाने को आतुर है तो कहीं चुनावों को देखते हुए खजाना लुटाया जा रहा है, ये सारी बातें यही सिद्ध करती हैं कि नेताओं को सिर्फ कुर्सी चाहिए । देश की फ़िक्र इन्हें नहीं, लेकिन जनता को समझदार और सहिष्णु होना ही होगा । 
चलते हैं चर्चा की ओर 
My Photo
My Photo
My Photo
My Photo
मेरा फोटो
lal krishna advani cartoon, bjp cartoon, cartoons on politics, indian political cartoon
आभार 

10 comments:

  1. सुप्रभात
    सारगर्भित चर्चा |सुन्दर सूत्र संयोजन |
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार सर |

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  3. आदरणीय दिलबाग विर्क जी आपका आभार।
    आपकी चर्चा का अन्दाज सबसे अलग है।
    बहुत श्रम करते हैं आप।

    ReplyDelete
  4. आज की सुंदर गुरुवारीय चर्चा में 'उलूक' के सूत्र 'बिल्ली जब जाती है दिल्ली चूहा बना दिया जाता सरदार है' को जगह देने के लिये आभार दिलबाग ।

    ReplyDelete
  5. मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार ........

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया लिंक्स के साथ सार्थक चर्चा प्रस्तुति ..
    आभार

    ReplyDelete
  7. नमस्कार,
    बहत ही सुन्दर चर्चा के सुत्र जोड़े हैं और आपने।
    स्थान देने के लिए धन्यवाद।
    सादर आभार।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर और सारगर्भित सूत्र...बहुत रोचक चर्चा...आभार

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन सूत्रों का समावेश किया है आपने ,धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएं ! अच्छी प्रस्तुति !! अच्छा संयोजन !!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...