Followers

Monday, February 16, 2015

"बम भोले के गूँजे नाद" (चर्चा अंक-1891)

मित्रों।
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

"बम भोले के गूँजे नाद" 


शुभ-आशीषों की सौगात,
लेकर आयी है शिवरात,
बोलो हर-हरबम-बम..!
बोलो हर-हरबम-बम... 
--
इश्क़ की पनाहों में 

सफ़र का लुत्फ़ मिले ज़िंदगी की राहों में
चलूँ जो साथ तेरे इश्क़ की पनाहों में... 
शीराज़ा [Shiraza]
--

मेघा हमको पानी दे दो

मेघा हमको पानी दे दो
खाने को गुरधानी दे दो ।
आग उगलते सूरज दादा
पानी दे दो, पानी दे दो ।।
राकेश चक्र

--

खिले सुमन 

Akanksha पर Asha Saxena
--

बेबसी 

बहुत फर्क हो गया दिनचर्या में 
पर कोई फर्क नहीं पड़ा 
उस दिन की 
और आज की उदासी में... 
मेरे मन की पर अर्चना चावजी 
--
--
--

शीर्षकहीन 

satywan verma saurabh 
--

अब नुमाइश तक 

मुहब्बत के सफ़र को ले चलो 

 आसमा तक हौसलों की 
इस खबर को ले चलो ... 
Naveen Mani Tripathi
--
--
--
--
--

485. 

लम्हों का सफ़र... 

आसमान की विशालता  
जब अधीरता से खींचती है  
धरती की गूढ़ शिथिलता  
जब कठोरता से रोकती है  

सागर का हठीला मन... 
डॉ. जेन्नी शबनम 
--
--

प्रेम को खूंटी पर लटका दिया है मैंने.... 

प्रेम को खूंटी पर लटका दिया है मैंने 
झोली में डाल कर दादी की पटारी में । 
पटारी , जिस में दादी रखा करती थी 
सूई , धागे और बटन... 
नयी उड़ान + पर Upasna Siag
--
--
--
--

शहादत पर हँसना नहीं आता 

कोशिशे तमाम करता हूँ 
मुझे कहना , नहीं आता -  
वो सागर, मैं हिमालय की ओर  
दरिया संग बहना नहीं आता... 
उन्नयन  पर udaya veer singh 
--

१५७. गांठें 

बिना वज़ह कभी-कभी लगती हैं गांठें, 
बिना कोशिश कभी-कभी खुलती हैं गाँठें... 
कविताएँ पर Onkar
--
--

तुम्हें और क्या दूँ मैं 

दिल के सिवाय 

हार्दिक शुभकामनाएँ।
आप दोनों को... 
vandana gupta 

8 comments:

  1. सुप्रभात
    शिवमय चर्चा
    मेरे रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  2. सुंदर प्रस्तुति । आभार 'उलूक' का सूत्र 'जोकर बनने का मौका सच बोलने लिखने से ही आ पायेगा' को आज की चर्चा में जगह मिली ।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर सूत्र ! शेखचिल्ली की कहानी को आज के मंच पर स्थान देने के लिये आपका हृदय से धन्यवाद शास्त्री जी ! सभी मित्रों एवं पाठकों को शिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  4. सुप्रभात

    मेरे रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  5. मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद .

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर चर्चा...

    ReplyDelete
  8. सुंदर सूत्र संकलन, मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका आभार आ. शास्त्री जी।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"राम तुम बन जाओगे" (चर्चा अंक-2821)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...