Followers

Thursday, December 24, 2015

शीत लहर का कहर { चर्चा - 2200 }

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
23 दिसंबर डबवाली इलाके के लिए एक बेहद मनहूस  दिवस है, क्योंकि आज से 20 वर्ष पूर्व इस दिन डी. ए. वी. स्कूल के वार्षिक समारोह में लगी आग ने सैंकड़ों मासूमों और उनके अभिभावकों को लील लिया था । वह कुदरत का कहर था, या मानवीय भूल का नतीजा मगर जो भी था उसके जख्म डबवाली सीने पर अभी तक हरे हैं । 
 चलते हैं चर्चा की ओर 

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...