समर्थक

Thursday, December 10, 2015

मौसम हुआ खराब { चर्चा - 2186 }

 आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 

रिश्तों की महक को बरकरार रखता कहानी संग्रह

 सर्द रि‍श्‍ते

तन्हा 

इतना न मुझसे तू प्यार बढ़ा
मेरा फोटो
बूंदों का दिलासा

झील की तलहटी

हत्यारे की आँख का आंसू और तुम्हारा चुम्बन
चेन्नई में मंजर बारिश का के लिए चित्र परिणाम
अति वृष्टि का कहर

कत्लेआम का दिन था वो 

तुमसे अलग

बहकता तो बहुत कुछ है 
My Photo
समय मुसाफिर
मेरा फोटो
बलवा कहीं हुआ
मेरा फोटो
हमे कुछ नहीं चाहिये मुफ्त का

मुझे भी कुछ दान करना है 

धन्यवाद 

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin