समर्थक

Friday, July 14, 2017

"झूल रही हैं ममता-माया" (चर्चा अंक-2666)

मित्रों!
शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--
संचालक
--
--
एक रोमांचक रचना (Adventure Book) मानव मन को हिलोर कर रख देती है। यही कारण है कि प्रायः लोग रोमांचक रचनाओं (Adventure Books) के दीवाने रहते हैं। प्रस्तुत है विश्व प्रसिद्ध रोमांचक रचनाओं (Famous Adventure Books) से संबंधित जानकारी... 
धान के देश में! 
--

मेरी ब्लॉग यात्रा 

आज उन तमाम ब्लॉगर भाई-बहनों, दोस्त-मित्रों, भाई-बंधुओं को दिल की गहराइयों से धन्यवाद देना चाहता हूँ जो रोज "कुछ अलग सा" पर आ कर मेरा हौसला बढ़ाते हैं और मेरे मनोबल को बने रहने में सहयोग प्रदान करते हैं। मेरे इस ब्लॉग का अस्तित्व या थोड़ी-बहुत जो भी पहचान बनी है, वह आप सब के प्रेम और स्नेह के कारण ही संभव हो सका है... 
कुछ अलग सा पर गगन शर्मा 
--
--
--
--

उन्हों ने राजनीति शास्त्र पढ़ा में कृषि विज्ञान 

वो सरकार हो गए मैं कर्जदार हो गया - 
उन्हों ने किया भ्रष्टाचार मैंने वाणिज्य व्यापार... 
udaya veer singh 
--
--

ग़ज़ल -  

हाकिमों से मशबरा हो जाएगा 

वह हमारा आइना हो जाएगा । 
सच कहूँ दिल का खुदा हो जाएगा... 
Naveen Mani Tripathi 
--
--

सत्य संधान /  

सत्यनारायण पाण्डेय 

अनुशील पर अनुपमा पाठक 
--
--
तिबारी-डिंडाळी
--
--
--
गुणियों ! 
गुरु - गुण गा - गा कर मैं तो गुण - गान हो गई हूँ 
सुधियों ! 
सुध खो - खो कर अधिक ही सावधान हो गई हूँ... 
--

7 comments:

  1. शुभ प्रभात
    पठनीय चर्चा
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. सुन्दर समागम।।।

    ReplyDelete
  3. सुंदर लिंक्स, आभार.
    रामराम
    #हिन्दी_ब्लॉगिंग

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  5. सुंद​​र लिंको से सजी चर्चा......बधाई|​​
    ​​आप सभी का स्वागत है मेरे ब्लॉग "हिंदी कविता मंच" की नई रचना #वक्त पर, आपकी प्रतिक्रिया जरुर दे|

    https://hindikavitamanch.blogspot.in/2017/07/tum-sahte-jana.html

    ReplyDelete
  6. इस सुंदर चर्चा ने भी मन भरमाया । आभार ।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin