Followers


Search This Blog

Saturday, July 29, 2017

"तरीक़े तलाश रहा हूँ" (चर्चा अंक 2681)

मित्रों!
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--

तुम और मैं 

सु-मन (Suman Kapoor) 
--
--
--

तरीक़े 

जीने के तरीक़े तलाश रहा हूँ 
शायद अपने आप को संभाल रहा हूँ... 
RAAGDEVRAN पर MANOJ KAYAL 
--
--
--
--
--
--
--

तेरे बिना 

Sunehra Ehsaas पर 
Nivedita Dinkar 
--

लघुकथाः 

तो अब देख लेंगे। 

डॉ. अपर्णा त्रिपाठी 
--
--
--
--

चांद निकला आंगन हमारे 

शाम कठिन है रात कड़ी है 
आंसूओं की लगी झड़ी है , 
राह निहारे प्रियतम तेरी 
पथ पर आज गोरी खड़ी है... 
Ocean of Bliss पर Rekha Joshi 
--

बनोगी उसकी ही कठपुतली 

माथे ऊपर हाथ वो धरकर 
बैठी पत्थर सी होकर 
जीवन अब ये कैसे चलेगा 
चले गए जब पिया छोड़कर ... 
! कौशल ! पर Shalini Kaushik 
--
--
--

एक म्‍यूजिकल स्‍केच है जग्‍गा जासूस 

ajay brahmatmaj  
--

कपिल शर्मा के साथ ये तो होना ही था... 

खुशदीप 

--

गुलाबी कागज के टुकडे 

डॉ. अपर्णा त्रिपाठी  
--

----- || दोहा-एकादश || ----- 

बथुरत पूला आपना, बँधेउ पराए पूल | 
भरम जाल भरमाइ के बिनसत गयउ मूल || १ || 
भावार्थ : -- 
NEET-NEET पर Neetu Singhal  

5 comments:

  1. सुप्रभात शास्त्री जी ! बहुत खूबसूरत एवं पठनीय सूत्रों का संकलन आज के चर्चामंच में ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिये आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार !

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात
    आकर्षक कलेवर में
    अच्छा लगा
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा ......
    आभार|

    ReplyDelete
  5. बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।