Followers

Friday, July 21, 2017

"जब-जब ये सावन आता है" चर्चा - 2673

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
 उच्चारण
My photo
काजल 

मस्त रहो अपनी भक्ति की चरस में

यादें कभी नहीं मिटती

सीतावनी मंदिर व जंगल सफारी

धर्म की दीमकें

फरीदा काहलो की डायरी का एक पन्ना
--

मनमीत 

Akanksha पर Asha Saxena 
--

सजदा हवा करे, मौसम नमाज हो... 

--

ओ गुड़िया! 

kuldeep thakur  
--

हिंदी की सर्वकालीन श्रेष्ठ कहानियों में एक 

अमरकांत की कहानी : 

दोपहर का भोजन 

सरोकार पर Arun Roy  
--

जब-जब ये सावन आता है ! 

Sawan Ki Shayari 

--

कुछ लोग, 

कुछ लोग कहते हैं... 

डॉ. अपर्णा त्रिपाठी  
--

क्या आपने कभी 

इन पश्चिमी दार्शनिकों को पढ़ा है 

मेरी धरोहर पर yashoda Agrawal  
--

6 comments:

  1. शुभ प्रभात....
    बेहतरीन प्रस्तुति
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. सार्थक लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  3. शुभप्रभात....
    सुंदर संकलन....
    आभार आदरणीय सर आप का....

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा के लिए बधाई,

    मेरे ब्लॉग पर आप सभी के विचारो का स्वागत है|
    https://hindikavitamanch.blogspot.in/2017/07/gau-mata.html

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  6. धन्यवाद आदरणीय शास्त्री जी . मेरी रचना आपको पसंद आई ये मेरी गौरव की बात है .

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...