Followers

Friday, June 01, 2018

"साला-साली शब्द" (चर्चा अंक-2988)

मित्रों! 
शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--
--
--

चाकुओं से घिरा खरबूजा है  

हमारा किसान 

यह तीस मई की दोपहर है। प्रदेश सरकार के आँख-कान मन्दसौर पर टिके हुए हैं। मन्दसौर, नीमच और रतलाम जिले के सारे गाँवों-कस्बों के रास्ते मन्दसौर जा रहे हैं। आज मुख्यमन्त्री शिवराज सिंह वहाँ पहुँच रहे हैं। वे उड़न खटोले से पहुँचेंगे। वहाँ वे कुछ योजनाओं के उद्घाटन करेंगे। कॉलेज मैदान में उनकी आम सभा होगी। अनुमान है कि किसानों के लिए कुछ महत्वपूर्ण आकर्षक घोषणाएँ करेंगे... 
--
--

ये दिल नादां क्या-क्या करे 

कभी उम्मीद बँधाए और कभी आह भरे
न पूछ मुझसेये दिल नादां क्या-क्या करे।

कभी सोचे तदबीर से पलट दूँगा ज़माना
कभी ये दिल अपनी ही तक़दीर से डरे... 
--

बारिश  

Radha Tiwari ( " Radhegopal " ) 

Image result for बारिश
कभी बारिश की छम छम है ,कभी सूरज चमकता है ।
तुम्हें तो देखकर राधे, का मन ऐसे मचलता है।।

 घटाएं झूम कर आती, मयूरा नाच करता है ।
चकोरी देखकर रातों में , चंदा भी चमकता है... 
--
--
--
--
--
--

असहज परिस्थितियों को कैसे संभालें  

How to manage the bad situations 

सत्य यही है कि दुनिया में कोई भी सर्वगुण संपन्न नहीं है और यह भी उतना ही सत्य है कि हर कोई कभी ना कभी कोई ना कोई गलती करता ही है। और मजा तो तब आता है जब आप किसी ऑफिस में काम करते हो और इसी प्रकार की किसी परिस्थिति से आप कम... 
कल्पतरु पर Vivek  
--
--

आइना 

Akanksha पर Asha Saxena 
--

नशा -  एक जहर 

 एक जहर नशे की राह में कई गुमराह हो रहे,  
ये नौनिहाल देश के तबाह हो रहे ।  
कहता है कोई पी के भूल जाएगा वो गम ...   
Meena Sharma  
--

देश के प्रधानमंत्री को  

एक गरीब,मेहनतकश नागरिक का पत्र  

मेरे प्रिय प्रधान मंत्री जी नमस्कार आपके भक्त अक्सर मुझे अपनी चुनी हुई सरकार से और आपसे सवाल पूछने पर धमकाते रहते है और अक्सर नीचता पर उतर आते है अस्तु आपको पत्र लिख रहा हूँ 
कृपया शांत दिमाग से पढ़ सकें तो पढ़े - जवाब देना... 
ज़िन्दगीनामा पर Sandip Naik 

4 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. सुप्रभात
    मेरी रचना आज शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत आभार मेरी रचना को शामिल करने हेतु। सुंदर अंक चर्चा का। सादर।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सारे नम्बरदार" (चर्चा अंक-3009)

मित्रों!  शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -...