साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Thursday, November 10, 2016

अच्छा तो हम चलते हैं { चर्चा - 2522 )

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
नोट बदलने की खबर के साथ ही पूरी दुनिया ठहर गई | सोशल मिडिया पर कल रात से बस यही खबर मजाक, व्यंग्य और प्रशंसा के रूप में चल रही है | इस बड़े फैसले के परिणाम पर या तो अर्थशास्त्री कह सकते हैं या फिर वक्त कहेगा, लेकिन इतना तो मानना ही पड़ेगा ही यह एक बड़ा फैसला है , जिसके लिए दृढ इच्छा शक्ति चाहिए | इसके लिए प्रधानमन्त्री जी बधाई के पात्र हैं |
चलते हैं चर्चा की ओर
मेरी फ़ोटो
Image result for hello phone
मेरा फोटो
फ़ोटो:
WhatsApp US Country Number banane ki jaankari
धन्यवाद 

11 comments:

  1. शुभ प्रभात..
    आभार
    सादर...

    ReplyDelete
  2. उम्दा लिंकों के साथ बढ़िया चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  3. हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति में मेरी ब्लॉग पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति दिलबाग जी ।

    ReplyDelete
  6. 'पहला नम्बर' शामिल करने के लिए धन्यवाद दिलबाग जी

    ReplyDelete
  7. सुंदर सार्थक सूत्र एवं बेहतरीन चर्चा ! 'दीवाली की रात' को आज की चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार दिलबाग जी !

    ReplyDelete
  8. उम्‍दा लि‍ंक्‍स...मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार

    ReplyDelete
  9. सुन्दर चर्चा है हमारी पोस्ट को शामिल करने हेतु हार्दिक धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छे लिनक्स के साथ सार्थक चर्चा...मेरी पोस्ट को भी यहाँ स्थान देने के लिए हार्दिक आभार...
    हेमंत कुमार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...