Followers

Friday, November 18, 2016

नव भारत "जीवन चक्र" (चर्चा अंक-2530)

मित्रों 
शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--

नव भारत 

Maheshwari kaneri 
--

ग़ज़ल 

"प्रारब्ध है सोया हुआ" 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

Image result for नोट  से परेशान जनता
 नीड़ में सबके यहाँ प्रारब्ध है सोया हुआ
काटते उसकी फसल जो बीज था बोया हुआ

खोलकर गठरी न देखी, दूसरों की खोलता
गन्ध को है खोजता, मूरख हिरण खोया हुआ... 
--
--
--
--
--
--
--
--

जिओ ब्रॉडबैंड -  

500 रूपये में 600 GB डेटा से प्लान शुरू,  

स्पीड 1Gbps तक 

रिलायंस जिओ ने अपनी 4G टेलीकॉम सेवाओं के बाद ब्रॉडबैंड सेवाओं के प्लान भी जारी कर दिए है और ये प्लान जिओ की 4G प्लान की तरह ही चोंकाने वाले है।
क्या कोई सोच सकता था की आपको घर में वायर्ड ब्रॉडबेण्ड वाले हाई स्पीड इंटरनेट पर 500 रूपये में 600 GB डेटा प्राप्त होगा, लेकिन ये Jio Giga fiber का शुरुवाती प्लान है 

Kheteshwar Boravat 
--
--

नोटबन्दी बनाम सत्यनारायण कथा 

दुनिया इस अद्भुुत, अकल्पनीय और अविश्वसनीय दृष्य को आँखें मसल-मसल कर देख रही होगी। ऐसी प्रचण्ड जन सद्भावना दुनिया के इतिहास में शायद ही किसी नेता को मिली होगी। विरोधियों की बोलती बन्द है। उनकी वाजिब बात भी सुनने को कोई तैयार नहीं। दुनिया भर के राष्ट्र/शासन प्रमुख भारतीय प्रधान मन्त्री से ईर्ष्या कर रहे होंगे। भ्रष्टाचार और काले धन से मुक्ति पाने को छटपटा रहे भारतीयों ने नोटबन्दी के समर्थन में जो भावना दर्शाई, वह दुनिया में बिरली ही होगी। लोग जान पर खेलकर जिस तरह इसके समर्थन में डटे हुए हैं वह सब अनूठा और अवर्णनीय ही है... 
एकोऽहम् पर विष्णु बैरागी 
--
--

मुझे दिल पर अख्तियार था ये कल की बात है 

उनको तो हमसे प्यार है ये कल की बात है 
कायम ये ऐतबार था ये कल की बात है... 
Madan Mohan Saxena 
--
--

जीवन से न हार 

चाहे आये आंधी -तूफ़ान 
होते दो पल के मेहमान 
जब रात ढली है , 
 दिन का निकलना भी तय है ..  
अर्चना चावजी 
--

इन्हें खैरात मत कहिये 

 *गज़ल * 
मुहब्बत को किसी भी हाल में सौगात मत कहिये 
जो गुज़रे हिज्र में उसको सुहानी रात मत कहिये 
खुशी से जो दिया उसने यही बस प्यार है उसका 
खुदा की नेमतें कहिए इन्हें खैरात मत कहिये... 
वीर बहुटी पर निर्मला कपिला 
--

इंसान का जीवन चक्र : 

इंसान यदि गरीब घर में पैदा होता है तो इस बात की अत्यधिक सम्भावना रहती है कि वह जिंदगी भर रोजी रोटी कमाने में ही लगा रहेगा। यदि अमीर व्यवसायी घर में पैदा होता है तो इस बात की सम्भावना होती है कि वह जिंदगी भर कुछ न करते हुए भी ऐशो आराम में जिंदगी काटता रहेगा। लेकिन यदि आप आम मिडल क्लास फेमिली में पैदा हुए हैं तो आपके सामने एक मंज़िल होती है , पढ़ लिख कर अच्छी नौकरी करके , आम से खास बनने की। ऐसे में आप पहले स्वयं अच्छी शिक्षा ग्रहण करते हैं , मेहनत करके किसी अच्छे प्रॉफेशन में प्रवेश कर अपना कॅरियर बनाते हैं और एक दिन ऊंचे मुकाम पर पहुँच जाते हैं... 
अंतर्मंथन पर डॉ टी एस दराल 

3 comments:

  1. हमेशा की तरह बढ़िया चर्चा ।

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...