साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Thursday, December 22, 2016

चर्चा - 2564

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 

13 comments:

  1. शुभ प्रभात दिलबाग भाई
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. सुन्दर और पठनीय लिंक।
    आपका धन्यवाद आदरणीय दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर गुरुवारीय अंक दिलबाग जी । आभार 'उलूक' के सूत्र 'गुंडा भी सत्य है' को जगह देने के लिये ।

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद सर मेरी रचना शामिल करने के लिए |

    ReplyDelete
  5. सुन्‍दर चर्चा

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति!
    आभार !

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति, धन्यवाद मेरी आलेख शामिल करने के लिए।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति, धन्यवाद मेरी आलेख शामिल करने के लिए।

    ReplyDelete
  9. धन्यवाद दिलबाग जी ! आज की चर्चा में मेरी प्रस्तुति को स्थान देने के लिए आपका हृदय से आभार !

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छे लिंक, कुछ तक पहुँचने की पूरी कोशिश । रहेगी...

    ReplyDelete
  11. चर्चा में मेरी पोस्‍ट शामिल करने के लिए आपका धन्‍यवाद, सभी पोस्‍ट का बहुत अच्‍छा संकलन है चर्चामंच।

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छे लिंक्स। उम्दा चर्चा।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...